Ask Question | login | Register
Notes
Question
Quiz
Tricks
Facts

21 November 2021

केरल अपशिष्ट निपटान के लिए मोबाइल एप्प लॉन्च करेगा

केरल सरकार स्थानीय स्वशासी निकायों (local self-governing bodies) में अकार्बनिक कचरे के संग्रह को सुधारने और ट्रैक करने के लिए एक मोबाइल एप्लिकेशन लॉन्च करने के लिए तैयार है। शुरुआती चरण में सभी 6 नगर निगमों, 300 ग्राम निकायों और 70 नगर पालिकाओं में स्मार्ट कचरा मोबाइल एप्प लॉन्च किया जाएगा। मोबाइल एप्प के लॉन्च से कचरा निपटान और अधिक कुशल हो जाएगा। घर से एकत्र किए गए अकार्बनिक कचरे की मात्रा को प्रबंधित करने और प्राप्त करने के लिए इस एप्प को तैनात किया जाएगा। एप्प यह भी बताएगा और समझाएगा कि कचरे का उपचार कैसे किया जाता है। प्रत्येक घर को QR कोड दिया जाएगा, जिसका उपयोग उत्पन्न होने वाले कचरे का विवरण प्राप्त करने के लिए किया जाएगा। यह एप्प सभी स्थानीय निकायों और विभागों को कचरा संग्रह को ट्रैक करने में सक्षम बनाएगा। राज्य गरीबी उन्मूलन और कुदुम्बश्री मिशन (Kudumbashree Mission) नामक महिला सशक्तिकरण कार्यक्रम के स्वयंसेवकों द्वारा अपशिष्ट संग्रह को ट्रैक किया जाएगा। इन स्वयंसेवकों को हरित कर्म सेना (Haritha Karma Sena) के रूप में जाना जाता है। अपशिष्ट संग्रह को ट्रैक करने के लिए परियोजना के हिस्से के रूप में सेना को स्मार्टफोन प्रदान किए जाएंगे। स्मार्टफोन केरल राज्य इलेक्ट्रॉनिक्स विकास निगम द्वारा समर्थित होंगे।

ओडिशा का स्कूल परिवर्तन कार्यक्रम

ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने 16 नवंबर, 2021 को स्कूल परिवर्तन कार्यक्रम (school transformation programme) के एक हिस्से के रूप में 130 पुनर्निर्मित स्कूलों का उद्घाटन किया। ‘स्कूल परिवर्तन कार्यक्रम’ के चौथे दिन स्कूलों का उद्घाटन किया गया। नुआपाड़ा में 7, संबलपुर में 25, गंजम में 83, रायगडा में 7, नयागढ़ में 8 और रायगढ़ में 7 स्कूलों का उद्घाटन हुआ। राज्य में कुल 351 रूपांतरित विद्यालयों का उद्घाटन किया गया है। स्कूल परिवर्तन कार्यक्रम की शुरुआत पढ़ाई में उत्कृष्टता के लिए छात्रों के बीच प्रतिस्पर्धात्मक रवैया लाने के लिए माहौल बनाने के उद्देश्य से की गई है। यह कार्यक्रम संगीत, खेल या अध्ययन में उत्कृष्टता के साथ-साथ प्रौद्योगिकी के लगातार बढ़ते क्षेत्र जैसे गुणों को भी विकसित करने का प्रयास करता है।

SIDBI और गूगल ने MSMEs का समर्थन करने के लिए भागीदारी की

भारतीय लघु उद्योग विकास बैंक (SIDBI) ने सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों (MSMEs) को समर्थन देने के लिए गूगल इंडिया के साथ हाथ मिलाया है। यह साझेदारी एक सामाजिक प्रभाव ऋण कार्यक्रम (social impact lending programme) का संचालन करेगी, जो MSMEs को प्रतिस्पर्धी ब्याज दरों पर 1 करोड़ रुपये तक की वित्तीय सहायता प्रदान करेगी। यह कोविड-19 महामारी से संबंधित संकट प्रतिक्रिया के रूप में MSMEs को $15 मिलियन का एक कोष लाएगा। इस समझौते के तहत, सिडबी द्वारा सूक्ष्म उद्यमों (5 करोड़ रुपये तक के कारोबार के साथ) पर लक्षित एक ऋण कार्यक्रम लागू किया जा रहा है। ऋण का आकार 25 लाख रुपये से 1 करोड़ रुपये के बीच है। सिडबी और गूगल इंडिया के बीच सहयोग MSME क्षेत्र की ऋण तक पहुंच के विस्तार के प्रयासों को बढ़ाएगा। यह सिडबी की अपने ग्राहकों के लिए ऑन-बोर्डिंग से लेकर वितरण चरण तक एक पेपरलेस यात्रा की शुरुआत का भी प्रतीक है। यह कार्यक्रम मुख्य रूप से महिला उद्यमियों द्वारा चलाए जा रहे उद्यमों पर केंद्रित होगा। ऐसे उद्यमों को उचित ब्याज दर रियायत भी प्रदान की जाएगी।

IIT हैदराबाद ने ढोकरा कला रूप के लिए डिजाइन कार्यशाला आयोजित की

IIT हैदराबाद के डिजाइन विभाग ने तेलंगाना राज्य में ‘ओझा गोंड समुदाय के ढोकरा शिल्प’ (Dhokra Crafts of Ojha Gonds Community) की सुरक्षा के उद्देश्य से ढोकरा कला रूप के लिए डिजाइन कार्यशाला आयोजित की। इस कार्यशाला का आयोजन निम्नलिखित उद्देश्यों के साथ किया गया :

  1. ओझा शिल्पकारों के लिए सामुदायिक भवन और समकक्ष शिक्षा।
  2. ओझा कारीगरों के लिए सतत आजीविका के अवसर पैदा करना।
  3. आदिलाबाद जिले के राज गोंड समुदाय की धातु विज्ञान और क्षेत्रीय कलाकृतियों की पारंपरिक प्रक्रिया का दस्तावेजीकरण।
  4. ओझा क्राफ्ट में डिजाइन विकास का पता लगाने के लिए पारंपरिक कलाकृतियों का एक डिजिटल भंडार बनाना।
  5. ओझा परिवारों की युवा पीढ़ियों को समुदाय की पैतृक शिल्प प्रथाओं को अपनाने और उनकी रक्षा करने के लिए प्रोत्साहित करना।
  6. क्षेत्र में आम लोगों के बीच ओझा समुदाय की पारंपरिक शिल्प प्रथाओं के बारे में जागरूकता पैदा करना।

जापान के प्रधानमंत्री ने $490 अरब के प्रोत्साहन पैकेज का अनावरण किया

जापान के प्रधानमंत्री फुमियो किशिदा ने एक प्रोत्साहन पैकेज का अनावरण किया जो लगभग 56 ट्रिलियन जापानी येन के बराबर है। जनता को आवश्यक सहायता प्रदान करने के लिए प्रोत्साहन कार्यक्रम को फण्ड देने के लिए जापानी सरकार 2021 के अंत तक एक अतिरिक्त बजट भी तैयार करेगी। इस योजना में 18 वर्ष या उससे कम आयु के लोगों के लिए 1,00,000 येन का भुगतान शामिल है। इस पैकेज में लोगों को सुरक्षा और आशा की भावना देने के लिए पर्याप्त सामग्री शामिल है। यह पैकेज जापान के पहले से ही खराब वित्तीय स्थिति पर और दबाव डालता है। खर्च का आकार 30-40 ट्रिलियन येन से अधिक था, जैसा कि बाजारों द्वारा अनुमान लगाया गया था, क्योंकि कोविड -19 महामारी की चपेट में आने वाले घरों और फर्मों को भारी भुगतान किया गया था। इस प्रकार, सरकार लागत के हिस्से को फण्ड देने के लिए लगभग 32 ट्रिलियन येन के अतिरिक्त बजट का संकलन करेगी।

दिल्ली ने 2025 तक यमुना को साफ करने का संकल्प लिया

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने हाल ही में 2025 तक यमुना नदी को पूरी तरह से साफ करने का संकल्प लिया। उन्होंने पवित्र नदी की सफाई के लिए छह सूत्रीय कार्य योजना की घोषणा की। उन्होंने 2025 तक यमुना नदी को पीने और नहाने के योग्य बनाने का भी वादा किया। मुख्यमंत्री ने निम्नलिखित छह सूत्रीय कार्ययोजना को लागू करने की घोषणा की:

  1. सीवर ट्रीटमेंट – सरकार नए सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट बनाएगी।
  2. मौजूदा सीवर ट्रीटमेंट प्लांट की क्षमता बढ़ाई जाएगी। इस कदम से सीवेज उपचार क्षमता 600 मिलियन गैलन प्रतिदिन अपशिष्ट जल से बढ़कर 750 MGD-800 MGD हो जाएगी। यमुना में गिरने वाले चार प्रमुख नालों नजफगढ़, बादशाहपुर, सप्लीमेंट्री और गाजीपुर से निकलने वाले अपशिष्ट जल का यथास्थान उपचार किया जा रहा है।
  3. पुराने ट्रीटमेंट प्लांट को अपग्रेड किया जाएगा और इसकी तकनीक में बदलाव किया जाएगा।
  4. औद्योगिक कचरे को यमुना में छोड़ने वाले उद्योग बंद हो जाएंगे।
  5. “झुग्गी-झोपड़ी समूहों” में अपशिष्ट जल वर्तमान में तूफान के पानी के माध्यम से बहता है और यमुना में जाता है। इन नालों को अब सीवर नेटवर्क से जोड़ा जाएगा।
  6. जिन क्षेत्रों में लोगों ने सीवर कनेक्शन नहीं लिया है, वहां नाममात्र के शुल्क पर सीवर कनेक्शन लगाए जाएंगे। सीवर नेटवर्क वाले क्षेत्रों में सरकार घरेलू कनेक्शन उपलब्ध कराएगी। पहले लोगों को ऐसा कनेक्शन खुद लेना पड़ता था।

मुंबई में भारतीय रेलवे ने खोला पहला पॉड रिटायरिंग रूम

भारतीय रेलवे ने मुंबई सेंट्रल स्टेशन पर भारतीय रेलवे के यात्रियों के साथ-साथ आम लोगों के लिए पहला पॉड रिटायरिंग रूम खोला है। पश्चिम रेलवे के वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार, इस पॉड होटल में ठहरने के लिए 12 घंटे के लिए 999 रुपये और 24 घंटे के लिए 1,999 रुपये का भुगतान करना होगा। इसमें वाई-फाई, टीवी, एडजस्टेबल मिरर, छोटा लॉकर और रीडिंग लाइट जैसी सुविधाएं भी होंगी। पॉड होटल का उद्घाटन वर्चुअली केंद्रीय रेल राज्य मंत्री रावसाहेब दानवे ने किया। पॉड होटल या कैप्सूल होटल में छोटे बिस्तर के आकार के कैप्सूल होते हैं और रात भर के लिए किफायती आवास प्रदान करते हैं। इस परियोजना और सुविधाओं की कुल लागत 230 करोड़ रुपये है। पॉड होटल जापान में अंतर्राष्ट्रीय पर्यटन की एक महत्वपूर्ण विशेषता है। यह यात्रियों को पारंपरिक होटलों की तुलना में सस्ती दरों पर आवास खोजने की अनुमति देता है। मुंबई में जापानी शैली के पॉड होटल में कई छोटे कैप्सूल के साथ इमारत शामिल है, जो यात्रियों के लिए रात भर ठहरने की सुविधा प्रदान करेगी। ये पॉड्स वाई-फाई, की कार्ड एक्सेस, एयर कंडीशनिंग, सीसीटीवी सर्विलांस, वॉशरूम और अन्य बुनियादी सुविधाएं जैसी सुविधाएं प्रदान करेंगे। स्टेशन की पहली मंजिल पर वेटिंग रूम बनाए गए हैं। सबसे सस्ते पॉड की कीमत 12 घंटे के लिए 999 रुपये होगी। 24 घंटे के लिए इसकी कीमत 1,999 रुपये होगी। प्राइवेट पॉड के लिए यात्रियों को 12 घंटे के लिए 1249 रुपये और 24 घंटे के लिए 2499 रुपये देने होंगे।

21वीं IORA मंत्रियों की परिषद की वार्षिक बैठक

21वीं हिंद महासागर रिम एसोसिएशन (Indian Ocean Rim Association – IORA) की वार्षिक मंत्री परिषद (COM) की बैठक 17 नवंबर, 2021 को ढाका में आयोजित की गई। भारत ने वर्चुअल मोड में इस सम्मेलन में भाग लिया। भारत का नेतृत्व विदेश राज्य मंत्री डॉ. राजकुमार रंजन सिंह ने किया। IORA COM को ढाका में हाइब्रिड प्रारूप में आयोजित किया गया। इस बैठक के अंत में, ढाका विज्ञप्ति (Dhaka Communique) को अपनाया गया। इस शिखर सम्मेलन को संबोधित करते हुए, विदेश राज्य मंत्री ने IORA को मजबूत करने की भारत की मजबूत प्रतिबद्धता की पुष्टि की, जो हिंद महासागर क्षेत्र (IOR) में सबसे बड़ा और पूर्व-प्रतिष्ठित संगठन है। भारत ने IOR के साथ-साथ व्यापक इंडो-पैसिफिक में शांति, सुरक्षा और समृद्धि को बढ़ावा देने की प्रतिबद्धता की भी पुष्टि की। मंत्री ने आपदा जोखिम प्रबंधन के IORA प्राथमिकता वाले क्षेत्रों के समन्वयक के रूप में भारत द्वारा किए गए योगदान को भी नोट किया।

RBI ने NSDL e-Governance को एकाउंट एग्रीगेटर के रूप में मंजूरी दी

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने एक खाता एग्रीगेटर के रूप में “NSDL e-Governance Infrastructure” को मंजूरी दी। NSDL e-Governance Infrastructure एक आईटी-सक्षम सेवा प्रदाता है। इसे NSDL e-Governance Account Aggregator Ltd. नामक पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी के तहत एक खाता एग्रीगेटर व्यवसाय स्थापित करने के लिए RBI से सैद्धांतिक मंजूरी मिली है। एकाउंट एग्रीगेटर (Account Aggregator) मॉडल में डेटा के सहमति-आधारित साझाकरण के लिए एक अद्वितीय आर्किटेक्चर के माध्यम से वित्तीय सेवाओं को डिलीवर करने के तरीके को बदलने की क्षमता है। यह एक वित्तीय डेटा-साझाकरण प्रणाली है, जो निवेश और ऋण में क्रांति ला सकती है। यह लाखों उपभोक्ताओं को वित्तीय रिकॉर्ड पर अधिक पहुंच और नियंत्रण प्रदान कर सकता है। यह मॉडल ग्राहकों के संभावित पूल को उधारदाताओं और फिनटेक कंपनियों तक भी विस्तारित करेगा। अकाउंट एग्रीगेटर व्यक्तियों को उनके व्यक्तिगत वित्तीय डेटा पर नियंत्रण के साथ सशक्त बनाने में मदद करेगा।

खाद्य सुरक्षा और मानक (आनुवंशिक रूप से संशोधित या इंजीनियर्ड खाद्य पदार्थ) विनियम, 2021 का मसौदा जारी किया गया

भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण (FSSAI) द्वारा 15 नवंबर, 2021 को “ड्राफ्ट खाद्य सुरक्षा और मानक (आनुवंशिक रूप से संशोधित या इंजीनियर खाद्य पदार्थ) विनियम, 2021” (Draft Food Safety and Standards (Genetically Modified or Engineered Foods) Regulations, 2021) जारी किया गया। यह मसौदा विनियमन इस पर लागू होगा:

  1. आनुवंशिक रूप से संशोधित जीव (Genetically Modified Organisms – GMOs)
  2. आनुवंशिक रूप से इंजीनियर जीव (Genetically Engineered Organisms – GEOs)
  3. जीवित संशोधित जीव (Living Modified Organisms – LMOs)
यह मसौदा भोजन के रूप में या प्रसंस्करण के लिए सीधे उपयोग के लिए जारी किया गया है। यह खाद्य या प्रसंस्कृत खाद्य पर लागू होगा जिसमें GMOs, LMOs या GEOs से उत्पादित आनुवंशिक रूप से संशोधित सामग्री शामिल नहीं है।

तंबाकू के उपयोग के प्रचलन में रुझान पर WHO ग्लोबल रिपोर्ट 2000-2025

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने 2000-2025 में तंबाकू के उपयोग के प्रचलन में रुझानों पर वैश्विक रिपोर्ट का चौथा संस्करण प्रकाशित किया। इस रिपोर्ट के अनुसार, दक्षिण-पूर्व एशिया क्षेत्र ने तंबाकू के उपयोग में गिरावट की सबसे तेज दर हासिल की। पुरुषों में धूम्रपान का औसत प्रसार 2020 में घटकर 25% हो गया, जबकि 2000 में यह 50% था। दक्षिण-पूर्वी क्षेत्र में, महिलाओं में तम्बाकू धूम्रपान 2000 में 8.9% से घटकर वर्ष 2020 में 1.6% हो गया। भारत और नेपाल ऐसे देश हैं, जो 2025 तक वैश्विक एनसीडी कार्य लक्ष्य योजना को पूरा करने के लिए तंबाकू के उपयोग में 30% सापेक्ष कमी हासिल करने की संभावना रखते हैं। WHO की रिपोर्ट पर प्रकाश डाला गया है कि, यदि तंबाकू नियंत्रण के प्रयास मौजूदा स्तर के साथ जारी रहे, तो इस क्षेत्र में धूम्रपान की दर 2025 में 11% तक पहुंच सकती है। यह अफ्रीका के बाद दूसरी सबसे कम क्षेत्रीय औसत दर होगी, जो कि 2025 में 7.5% है। दक्षिण-पूर्व एशिया क्षेत्र में तंबाकू के उपयोग की दर सबसे अधिक है, जो कि जनसंख्या का 29% है। इसके 432 मिलियन उपयोगकर्ता हैं।

स्वच्छ महासागर घोषणापत्र

सतत विकास के लिए महासागर विज्ञान के लिए संयुक्त राष्ट्र दशक (UN Decade for Ocean Science for Sustainable Development) का स्वच्छ महासागर अंतर्राष्ट्रीय विशेषज्ञ समूह ने 19 नवंबर, 2021 को गतिविधियों और लक्ष्यों की अपनी संक्षिप्त सूची के साथ-साथ “स्वच्छ महासागर घोषणापत्र” (Clean Ocean Manifesto) प्रस्तुत किया। स्वच्छ महासागर के लक्ष्य को प्राप्त करने में संयुक्त राष्ट्र की मदद करने के लिए इस समूह ने दो उद्देश्य निर्धारित किए हैं:

  1. समुद्री मलबे को 50-90 प्रतिशत तक कम करना और
  2. ग्लोब सर्किलिंग और मॉनिटर की हाई-टेक प्रणाली।
यह उन चुनौतियों और अवसरों पर प्रकाश डालता है जो महासागर दशक (Ocean Decade) एक स्वच्छ महासागर प्राप्त करने के लिए प्रदान कर सकता है। विशेषज्ञ समूह यह भी रेखांकित करता है कि, इस प्रक्रिया का लक्ष्य 2025 के प्रारंभिक लक्ष्यों को पूरा करने के लिए वित्तीय सहायता को परिभाषित करना और आकर्षित करना होना चाहिए। इसके बाद 2030 के लक्ष्यों का पालन किया जाना चाहिए। यह वक्तव्य 2030 के लिए निम्नलिखित उद्देश्यों पर प्रकाश डालते हुए एक स्वच्छ महासागर के लिए सीधे मार्ग पर प्रकाश डालता है:
  1. प्रदूषकों के प्रसार और भविष्य के लिए रास्तों की समझ बढ़ाना
  2. प्रदूषण के शीर्ष-प्राथमिकता वाले रूपों को 90 प्रतिशत तक कम करना और हटाना
  3. पुनरावृत्ति को रोकने के लिए, प्रदूषकों के स्रोतों या उत्सर्जन को कम करना।

सेबी का निवेशक चार्टर

भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) ने 17 नवंबर, 2021 को निवेशक चार्टर (Investor Charter) जारी किया। निवेशकों को वित्तीय उत्पादों की गलत बिक्री से बचाने के उद्देश्य से केंद्रीय बजट 2021-2022 में पहली बार निवेशक चार्टर प्रस्तावित किया गया था। भारतीय प्रतिभूति बाजार में निवेशकों के लिए निवेशक चार्टर जारी किया गया है। इसमें निवेशकों के अधिकारों और जिम्मेदारियों के साथ-साथ प्रतिभूति बाजार में निवेश करने के क्या करें और क्या न करें, शामिल हैं। इसे “निवेशकों के हितों की रक्षा के लिए उन्हें शामिल जोखिमों को समझने में सक्षम बनाने” के लिए प्रकाशित किया गया है। यह यूजर्स को निष्पक्ष, पारदर्शी और सुरक्षित बाजार में निवेश करने के साथ-साथ समयबद्ध और कुशल तरीके से सेवाएं प्राप्त करने में सक्षम बनाएगा। चार्टर यह सुनिश्चित करेगा कि सेबी-पंजीकृत मध्यस्थ या विनियमित संस्थाएं शिकायत निवारण तंत्र सहित अपने निवेशक चार्टर का पालन करें। निवेशक चार्टर के अनुसार, निवेशकों को यह अधिकार प्राप्त होगा:

  1. ‘सेबी कंप्लेंट्स रिड्रेस सिस्टम (SCORES)’ में दायर निवेशकों की शिकायतों के समय पर समाधान।
  2. सेबी द्वारा मान्यता प्राप्त बाजार अवसंरचना संस्थानों से गुणवत्तापूर्ण सेवाएं।
निवेशकों की ये जिम्मेदारियां होंगी:
  1. सेबी-मान्यता प्राप्त बाजार अवसंरचना संस्थानों के साथ-साथ सेबी-पंजीकृत विनियमित संस्थाओं या बिचौलियों के साथ डील करें।
  2. उनके संपर्क विवरण जैसे पता, ईमेल आईडी, मोबाइल नंबर, नामांकन और अन्य केवाईसी विवरण अपडेट करें।
  3. सुनिश्चित करें कि उनके खाते केवल उनके लाभ के लिए संचालित किए जा रहे हैं।

ASER 2021 रिपोर्ट

शिक्षा वार्षिक स्थिति रिपोर्ट (ASER) 2021 (ग्रामीण)प्रथम फाउंडेशन’ द्वारा 17 नवंबर, 2021 को प्रकाशित की गई थी। ASER (Annual Status of Education Report) ग्रामीण भारत में 5-16 आयु वर्ग के बच्चों की स्कूली शिक्षा की स्थिति पर रिपोर्ट प्रदान करती है, जिसमें बुनियादी पढ़ने और अंकगणितीय कार्यों को करने की क्षमता भी शामिल है। इस वर्ष, ASER ने फोन-आधारित सर्वेक्षण प्रारूप का पालन किया, क्योंकि कोविड -19 महामारी के कारण क्षेत्र सर्वेक्षण संभव नहीं था। यह सर्वेक्षण सितंबर-अक्टूबर 2021 के दौरान आयोजित किया गया था। यह यह पता लगाने की कोशिश करता है कि कोविड -19 महामारी की शुरुआत के बाद से 5-16 आयु वर्ग के बच्चों ने घर पर कैसे अध्ययन किया। इस रिपोर्ट के अनुसार, 2018 और 2020 के बीच सरकारी स्कूलों में नामांकित बच्चों के अनुपात में समग्र वृद्धि हुई थी। नामांकन 64.3% से बढ़कर 65.8% हो गया। लेकिन 2021 में नामांकन अचानक बढ़कर 70.3% हो गया। पिछले साल की तुलना में निजी स्कूलों में नामांकन दर में कमी आई है। 2020 में, नामांकन दर 28.8% थी जो 2021 में घटकर 24.4% हो गई। भले ही 2018 में 36.5% की तुलना में 2021 में स्मार्टफोन की उपलब्धता बढ़कर 67.6% हो गई, निजी स्कूलों में लगभग 79% बच्चों के पास घर पर स्मार्टफोन था, जबकि सरकारी स्कूल में 63.7% बच्चों के पास स्मार्टफ़ोन तक पहुँच थी। स्कूल बंद रहने के दौरान ट्यूशन लेने वाले स्कूली बच्चों की संख्या में 40% की वृद्धि हुई।

नागरिकों की धारणा पर भारतीय पुलिस फाउंडेशन (IPF) सर्वेक्षण

भारतीय पुलिस फाउंडेशन (Indian Police Foundation – IPF) ने नागरिकों की धारणा पर एक सर्वेक्षण किया। इस सर्वेक्षण में, दिल्ली पुलिस को भारतीय राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों (UT) में सातवें स्थान पर रखा गया है। IPF के अध्यक्ष और सीईओ एन. रामचंद्रन ने कहा कि उन्हें भारत में 1,61,192 लोगों से प्रतिक्रियाएं मिलीं। दिल्ली पुलिस को जनता के प्रति उनकी संवेदनशीलता, अच्छे व्यवहार, पहुंच, जवाबदेही और सख्त आचरण के लिए स्थान दिया गया था। दिल्ली पुलिस तकनीक अपनाने में पांचवें और स्मार्ट पुलिसिंग के मामले में 10वें स्थान पर है। बिहार, उत्तर प्रदेश, झारखंड, छत्तीसगढ़, पंजाब और नागालैंड जैसे राज्यों ने स्मार्ट पुलिसिंग सूची में सबसे कम स्कोर किया। बिहार को जिम्मेदार पुलिसिंग, पुलिस में जनता का विश्वास और सत्यनिष्ठा और भ्रष्टाचार मुक्त सेवा के मामले में अंतिम स्थान दिया गया है।

कोयला मंत्रालय ने किया सतत विकास प्रकोष्ठ का गठन

कोयला मंत्रालय ने स्वच्छ ऊर्जा की प्रतिबद्धता के अनुरूप एक “सतत विकास प्रकोष्ठ” (Sustainable Development Cell) का गठन किया है। सतत विकास प्रकोष्ठ का गठन ‘पंचामृत रणनीति’ के तहत COP26 में नए जलवायु लक्ष्यों पर प्रधानमंत्री की घोषणा की पृष्ठभूमि में किया गया। मंत्रालय ने खनन के पर्यावरणीय और सामाजिक प्रभाव का ध्यान रखते हुए कोयला खनन में सतत विकास पर विशेष जोर दिया। कोयला मंत्रालय ने खनन के प्रतिकूल प्रभाव को कम करने के लिए परामर्श, सलाह और योजना कार्रवाई के लिए एक पूर्ण सतत विकास सेल (Sustainable Development Cell – SDC) की स्थापना की है। यह भारत में कोयला क्षेत्र के साथ-साथ लिग्नाइट क्षेत्र में पर्यावरणीय शमन के लिए भविष्य की नीतिगत रूपरेखा भी तैयार करेगा।

विंग्स इंडिया कार्यक्रम, 2022

केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य एम. सिंधिया ने 18 नवंबर, 2021 को विंग्स इंडिया, 2022 के संबंध में कर्टेन रेजर कार्यक्रम का उद्घाटन किया। विंग्स इंडिया, 2022 एशिया में नागरिक उड्डयन (वाणिज्यिक, सामान्य और व्यावसायिक विमानन) पर सबसे बड़ा आयोजन है। इस अवसर पर, मंत्री ने विंग्स इंडिया 2022 के आयोजन में विदेश मंत्रालय और राज्य सरकार के समर्थन से नागरिक उड्डयन मंत्रालय, फिक्की और AAI के प्रयासों की सराहना की। यह द्विवार्षिक कार्यक्रम 24 से 27 मार्च, 2022 तक हैदराबाद के बेगमपेट हवाई अड्डे पर आयोजित किया जायेगा। यह कार्यक्रम “India@75: New Horizon for Aviation Industry” थीम के तहत आयोजित किया गया। विंग्स इंडिया, 2022 का उद्देश्य हवाईअड्डा संचालकों, विभिन्न एयरलाइनों, कार्गो ऑपरेटरों और अन्य हितधारकों के साथ सीधे संपर्क की सुविधा के लिए वैश्विक विमानन बाजार के प्रमुख हितधारकों, राज्य सरकारों, अंतर्राष्ट्रीय नियामकों और व्यावसायिक संघों को एयरलाइनों का प्रतिनिधित्व करने वाले समूह को एक मंच पर एक साथ लाना है।

झांसी में रक्षा औद्योगिक गलियारा परियोजना

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 19 नवंबर, 2021 को झांसी में उत्तर प्रदेश रक्षा औद्योगिक कॉरिडोर परियोजना की आधारशिला रखी। यह डिफेंस इंडस्ट्रियल कॉरिडोर 400 करोड़ रुपये का प्रोजेक्ट है। इस परियोजना के माध्यम से केंद्र सरकार का लक्ष्य रणनीतिक स्वतंत्रता हासिल करना है। प्रधानमंत्री ने तीन दिवसीय ‘राष्ट्र रक्षा समर्पण पर्व’ के समापन समारोह की आधारशिला रखी। राष्ट्र रक्षा समर्पण पर्व कार्यक्रम उत्तर प्रदेश सरकार के सहयोग से रक्षा मंत्रालय द्वारा आयोजित किया जा रहा है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने 17 नवंबर, 2021 को इस कार्यक्रम का उद्घाटन किया। केंद्र सरकार ने भारत में दो रक्षा औद्योगिक गलियारे स्थापित करने का निर्णय लिया है। एक कॉरिडोर तमिलनाडु में और दूसरा उत्तर प्रदेश में स्थापित किया जाएगा। उत्तर प्रदेश डिफेंस इंडस्ट्रियल कॉरिडोर में आगरा, झांसी, अलीगढ़, लखनऊ, चित्रकूट और कानपुर में नोड शामिल हैं। कॉरिडोर के झांसी नोड के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने करीब 1,034 हेक्टेयर जमीन उपलब्ध करायी है। भारत डायनेमिक्स लिमिटेड द्वारा एंटी टैंक गाइडेड मिसाइलों के लिए प्रणोदन प्रणाली के लिए एक संयंत्र स्थापित किया जा रहा है। यह झांसी में 183 एकड़ भूमि के क्षेत्र को कवर करेगा। इस सुविधा के झांसी नोड में 400 करोड़ रुपये का निवेश शामिल होगा। यह 150 लोगों को प्रत्यक्ष रोजगार और लगभग 500 लोगों को अप्रत्यक्ष रोजगार प्रदान करेगा।

भारत में पहली LIGO परियोजना के लिए भूमि सौंपी गई

महाराष्ट्र में लगभग 225 हेक्टेयर भूमि लेजर इंटरफेरोमीटर ग्रेविटेशनल-वेव ऑब्जर्वेटरी (Laser Interferometer Gravitational-Wave Observatory – LIGO) उद्यम के अधिकारियों को सौंप दी गई है। देश में प्राथमिक सुविधा की व्यवस्था के लिए जमीन सौंपी गई थी। वर्तमान में अमेरिका में वाशिंगटन में हनफोर्ड और लुइसियाना में लिविंगस्टन में ऐसी कुछ प्रयोगशालाएं हैं। ये लैब गुरुत्वाकर्षण तरंगों की जांच करती हैं। यह वैज्ञानिकों और इंजीनियरों को गुरुत्वाकर्षण तरंगों की अवधारणा में गहराई से शोध करने के लिए विकल्प प्रदान करेगा। केंद्र सरकार ने गुरुत्वाकर्षण तरंगों के विश्लेषण के लिए 2016 में LIGO-इंडिया मेगा साइंस प्रस्ताव को ‘इन प्रिसेप्ट’ मंजूरी दे दी थी। LIGO ब्रह्मांडीय गुरुत्वाकर्षण तरंगों का पता लगाने और प्रयोगों को अंजाम देने के लिए एक विशाल वेधशाला है। इसका मुख्य उद्देश्य खगोलीय अध्ययन में गुरुत्वाकर्षण-तरंग प्रेक्षणों (gravitational-wave observations) का उपयोग करना है। यह परियोजना वर्तमान में तीन गुरुत्वाकर्षण-लहर (GW) डिटेक्टरों को संचालित करती है। तीन में से दो वाशिंगटन के हनफोर्ड में हैं जबकि एक लुइसियाना के लिविंगस्टन में है।

‘रेजांग ला’ की लड़ाई की बरसी पर ‘रेजांग ला’ में पुनर्निमित ‘वॉर मेमोरियल’ का उद्घाटन

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने हाल ही में वर्ष 1962 के भारत-चीन युद्ध के दौरान ‘रेजांग ला’ की लड़ाई की बरसी पर ‘रेजांग ला’ (Rezang La) में पुनर्निमित ‘वॉर मेमोरियल’ का उद्घाटन किया। लद्दाख के ‘चुशुल’ में स्थित यह स्मारक 15,000 फीट से अधिक की ऊँचाई पर मौजूद है और भारत-चीन सीमा के बहुत ही करीब स्थित है। यह 13 कुमाऊँ रेजिमेंट की चार्ली कंपनी के सैनिकों का सम्मान करता है, जिन्होंने 1962 के युद्ध के दौरान कैलाश पर्वतमाला और आसपास के क्षेत्रों की रक्षा की थी। ‘रेजांग ला’, ‘स्पैंगुर गैप’ (Pangur Gap) से 11 किलोमीटर दक्षिण में स्थित दर्रा है, जहाँ से वर्ष 1962 के युद्ध के दौरान लगभग दो हज़ार चीनी सैनिकों ने 13 कुमाऊँ रेजिमेंट की ‘मेजर शैतान सिंह’ के नेतृत्व वाली चार्ली कंपनी के 114 जवानों पर हमला किया था। इस युद्ध के दौरान ‘मेजर शैतान सिंह’ के साथ-साथ चार्ली कंपनी के 98 जवान शहीद हुए थे।

रानी लक्ष्‍मीबाई की 193वीं जयंती

19 नवंबर, 2021 को रानी लक्ष्मीबाई की 193वीं जयंती मनाई गई। रानी लक्ष्मीबाई का जन्म 19 नवंबर, 1828 को वाराणसी में हुआ था और उनके बचपन का नाम ‘मणिकर्णिका तांबे’ था। उन्होंने बचपन में ही घुड़सवारी, तलवारबाज़ी और निशानेबाज़ी जैसी कलाओं में निपुणता हासिल कर ली थी। वर्ष 1842 में 14 वर्ष की उम्र में इनका विवाह झाँसी के महाराजा ‘गंगाधर राव’ के साथ कर दिया गया, उसके बाद से इन्हें ‘लक्ष्मीबाई’ के नाम से जाना गया। महाराजा की मृत्यु के बाद अंग्रेज़ों ने ‘व्यपगत सिद्धांत’ (Doctrine of Lapse) का हवाला देते हुए महाराजा के दत्तक पुत्र दामोदर राव को झाँसी के सिंहासन का कानूनी उत्तराधिकारी स्वीकार करने से इनकार कर दिया। इस सिद्धांत के मुताबिक, यदि ईस्ट इंडिया कंपनी के प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष नियंत्रण में आने वाली किसी रियासत के शासक के पास कानूनी तौर पर पुरुष उत्तराधिकारी नहीं है तो कंपनी द्वारा इस रियासत का अधिग्रहण कर लिया जाएगा। रानी लक्ष्मीबाई ने इस व्यवस्था का विरोध किया और जून 1857 में रानी लक्ष्मीबाई के नेतृत्व में झाँसी में विद्रोह प्रारंभ हो गया। ज्ञात हो कि यह वही समय था जब मेरठ में कंपनी के भारतीय सिपाहियों ने विद्रोह किया था, तत्पश्चात् यह विद्रोह कानपुर, बरेली, झाँसी, दिल्ली, अवध आदि स्थानों तक फैल गया। 1857 के विद्रोह में रानी लक्ष्मीबाई की काफी महत्त्वपूर्ण भूमिका मानी जाती है। झाँसी की सुरक्षा करते हुए ईस्ट इंडिया कंपनी के साथ हुए युद्ध में 17 जून, 1858 को रानी लक्ष्मीबाई की मृत्यु हो गई।

इंदिरा गांधी की जयंती

19 नवंबर, 2021 को उपराष्‍ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को उनकी जयंती पर श्रद्धा सुमन अर्पित किये। देश के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू की पुत्री इंदिरा गांधी का जन्म 19 नवंबर, 1917 को प्रयागराज (इलाहाबाद) में हुआ था। 1950 के दशक की शुरुआत में उन्होंने अनौपचारिक रूप से अपने पिता पंडित जवाहरलाल नेहरू के निजी सहायक के रूप में कार्य किया। वर्ष 1955 में वे काॅन्ग्रेस कार्यसमिति में शामिल हुईं और वर्ष 1959 में उन्हें काॅन्ग्रेस का अध्यक्ष चुन लिया गया। वर्ष 1964 में प्रधानमंत्री नेहरू की मृत्यु के बाद उन्होंने लाल बहादुर शास्त्री के नेतृत्त्व में कैबिनेट मंत्री के रूप में कार्य किया, किंतु लाल बहादुर शास्त्री की आकस्मिक मृत्यु के बाद वर्ष 1966 में वे देश की 5वीं प्रधानमंत्री बनीं। वर्ष 1975 में उनके कार्यकाल के दौरान भारत में आपातकाल लागू किया गया, जो कि भारतीय लोकतंत्र के इतिहास का एक ‘काला अध्याय’ माना जाता है। 31 अक्तूबर, 1984 को दो सिख अंगरक्षकों द्वारा उनकी हत्या कर दी गई।

स्वच्छ सर्वेक्षण 2021

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद 'स्वच्छ सर्वेक्षण 2021' में स्वच्छ एवं अपशिष्ट मुक्त होने संबंधी स्टार रेटिंग प्राप्त करने वाले 342 शहरों को सम्मानित करेंगे। इसमें 9 पाँच सितारा शहर, 166 तीन सितारा शहर, 167 एक सितारा शहर शामिल हैं। केंद्रीय आवास एवं शहरी मामलों के मंत्रालय (MOHUA) द्वारा शहरों को सम्मानित करने हेतु राजधानी दिल्ली स्थित ‘विज्ञान भवन’ में 'स्वच्छ अमृत महोत्सव' का आयोजन किया जा रहा है। ‘स्वच्छ सर्वेक्षण’ के इस छठे संस्करण में 4,320 शहरों ने हिस्सा लिया था, जिससे यह विश्व का सबसे बड़ा शहरी स्वच्छता सर्वेक्षण बन गया है। केंद्रीय आवास एवं शहरी मामलों के मंत्रालय के मुताबिक, 1,100 से अधिक अतिरिक्त शहरों में अपशिष्ट के स्रोत को अलग करने का कार्य शुरू कर दिया गया है, जबकि करीब 1,800 शहरी स्थानीय निकाय सफाई कर्मचारियों को कल्याणकारी लाभ प्रदान कर रहे हैं।

Start Quiz! PRINT PDF

« Previous Next Affairs »

Notes

Notes on many subjects with example and facts.

Notes

QUESTION

Find Question on this Topic and many other subjects

Learn More

Test Series

Here You can find previous year question paper and mock test for practice.

Test Series

Download

Here you can download Current Affairs Question PDF.

Download

Join

Join a family of Rajasthangyan on


Contact Us Contribute About Write Us Privacy Policy About Copyright

© 2021 RajasthanGyan All Rights Reserved.