Ask Question | login | Register
Notes
Question
Quiz
Tricks
Facts

5 August 2022

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात के धरमपुर में तीन सौ करोड़ रुपये से अधिक की श्रीमद् राजचंद्र मिशन की विभिन्न परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास किया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात के धरमपुर में 300 करोड़ रुपये से अधिक की श्रीमद् राजचंद्र मिशन की विभिन्न परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास किया। प्रधानमंत्री ने इस अवसर पर महिलाओं के लिए श्रीमद् राजचंद्र सेंटर ऑफ एक्सीलेंस की आधारशिला रखी। इस केंद्र से 700 से अधिक जनजातीय महिलाओं को रोजगार मिलेगा और हजारों अन्य लोगों को आजीविका प्रदान करेगा। श्री मोदी ने वलसाड जिले के धरमपुर में 250 बिस्तरों वाले श्रीमद राजचंद्र मल्टीस्पेशलिटी अस्पताल का उद्घाटन किया। यह मल्टीस्पेशलिटी अस्पताल 200 करोड़ रुपये की लागत से बनाया गया है। उन्होंने 150 बिस्तरों वाले श्रीमद राजचंद्र पशु अस्पताल की आधारशिला भी रखी। इस मौके पर गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सीआर पाटिल मौजूद थे। श्रीमद राजचंद्रजी एक जैन कवि, दार्शनिक, रहस्यवादी, विद्वान और सुधारक थे। उनका जन्म मोरबी (वर्तमान गुजरात) के पास वावनिया गाँव में हुआ था। उन्होंने कई दार्शनिक कविताएँ लिखीं, जिनमें से एक आत्मा सिद्धि है। वह महात्मा गांधी को आध्यात्मिक मार्गदर्शन प्रदान करने के लिए जाने जाते हैं।

भारत में नए रामसर स्थलों को मान्यता मिली

केंद्रीय पर्यावरण मंत्रालय के अनुसार, तमिलनाडु से 6 नई आर्द्रभूमि, और कर्नाटक, गोवा, मध्य प्रदेश और ओडिशा से 1-1 को “अंतर्राष्ट्रीय महत्व के आर्द्रभूमि” के रूप में रामसर मान्यता मिली है। 10 स्थलों को शामिल करने के साथ, देश में रामसर साइटों की कुल संख्या 64 हो गई है। नई मान्यता प्राप्त साइटें हैं :

  1. कुनथनकुलम पक्षी अभयारण्य – यह एक मानव निर्मित आर्द्रभूमि है, जो तमिलनाडु के तिरुनेलवेली जिले में स्थित है। यह प्रवासी जल पक्षियों और दक्षिण भारत में रहने वाले पक्षियों के प्रजनन के लिए सबसे बड़ा रिजर्व है। इस अभयारण्य में 190 एकड़ क्षेत्र में धान की भी सिंचाई होती है।
  2. नंदा झील – नंदा झील ताजे पानी का दलदल है, जो गोवा में जुआरी नदी के एक नाले के निकट स्थित है। यह स्थानीय लोगों को ऑफ-मानसून सीजन में पानी स्टोर करने में मदद करता है। इस झील के नीचे की ओर धान की खेती के लिए संग्रहित पानी का उपयोग किया जाता है। यह ब्लैक-हेडेड आइबिस, वायर-टेल्ड स्वॉलो, कॉमन किंगफिशर, ब्राह्मणी पतंग और कांस्य-पंख वाले जकाना का घर है।
  3. सतकोसिया गॉर्ज – यह ओडिशा में महानदी नदी के किनारे फैली हुई है। इसे 1976 में एक वन्यजीव अभयारण्य के रूप में स्थापित किया गया था। दक्कन प्रायद्वीप और पूर्वी घाट सतकोसिया में मिलते हैं। सतकोसिया गॉर्ज वेटलैंड दलदली और सदाबहार जंगलों के लिए जाना जाता है।
  4. मन्नार की खाड़ी बायोस्फीयर रिजर्व (GoMBR) – यह दक्षिण-पूर्वी तटरेखा में स्थित है और समृद्ध समुद्री पर्यावरण के लिए प्रसिद्ध है। यह रिजर्व विभिन्न महत्वपूर्ण और अत्यधिक खतरे वाली प्रजातियों जैसे व्हेल शार्क, डुगोंग, हरे समुद्री कछुए, समुद्री घोड़े, बालनोग्लोसस, डॉल्फ़िन, हॉक्सबिल कछुए आदि का घर है।
  5. वेम्बन्नूर वेटलैंड कॉम्प्लेक्स, तमिलनाडु
  6. वेलोड पक्षी अभयारण्य, तमिलनाडु
  7. वेदान्थंगल पक्षी अभयारण्य, तमिलनाडु
  8. उदयमार्थंदपुरम पक्षी अभयारण्य, तमिलनाडु
  9. रंगनाथिट्टू पक्षी अभयारण्य, कर्नाटक
  10. सिरपुर वेटलैंड, मध्य प्रदेश

एन वी रमन्‍ना ने उदय उमेश ललित को प्रधान न्‍यायाधीश बनाने की सिफारिश की

प्रधान न्‍यायाधीश एन वी रमन्‍ना ने उच्‍चतम न्‍यायालय में न्‍यायाधीश न्‍यायमूर्ति उदय उमेश ललित को उनके स्‍थान पर प्रधान न्‍यायाधीश बनाने की सिफारिश की है। उन्‍होंने विधि और न्‍याय मंत्री किरेन रिजिजू को अपनी सिफारिश भेज दी है। न्‍यायमूर्ति श्री रमन्‍ना इसी महीने सेवानिवृत्‍त हो रहे हैं। न्यायमूर्ति यू. यू. ललित ‘तीन तलाक’ की प्रथा को अवैध ठहराने समेत कई कई ऐतिहासिक फैसलों का हिस्सा रहे हैं। यदि वह अगले प्रधान न्यायाधीश नियुक्त होते हैं तो वह ऐसे दूसरे प्रधान न्यायाधीश होंगे, जिन्हें बार से सीधे शीर्ष अदालत की पीठ में पदोन्नत किया गया था। उनसे पहले न्यायमूर्ति एस. एम. सीकरी मार्च 1964 में शीर्ष अदालत की पीठ में सीधे पदोन्नत होने वाले पहले वकील थे। वह जनवरी 1971 में 13वें सीजेआई बने थे।

हरियाणा ने चिराग योजना शुरू की

हरियाणा सरकार ने हाल ही में हरियाणा चिराग योजना शुरू की है। इस योजना के तहत, सरकार निजी स्कूलों में सरकारी स्कूलों के आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग (EWS) के छात्रों को मुफ्त शिक्षा प्रदान करेगी। चिराग योजना का अर्थ है, “Chief Minister Equal Education Relief, Assistance and Grant” (Cheerag)। इसने 2007 में भूपिंदर सिंह हुड्डा की सरकार द्वारा शुरू की गई इसी तरह की योजना को बदल दिया है। यह योजना हरियाणा स्कूल शिक्षा नियम, 2003 के नियम 134 ए के अनुसार शुरू की गई थी। चीराग योजना के तहत सरकारी स्कूल के छात्र कक्षा 2 वीं से 12 वीं तक निजी स्कूल में दाखिला ले सकते हैं । हालांकि इसके लिए माता-पिता की वार्षिक सत्यापित आय 1.8 लाख रुपये से कम होगी।

असम का ‘मिशन भूमिपुत्र’

1 अगस्त 2022 को असम के मुख्यमंत्री डॉ. हिमंता बिस्वा सरमा ने ‘मिशन भूमिपुत्र’ का अनावरण किया। इस मिशन के तहत छात्रों को डिजिटल जाति प्रमाण पत्र सरल और डिजिटल तरीके से जारी किए जाएंगे। इसे जनजातीय कार्य विभाग और सामाजिक न्याय अधिकारिता विभाग द्वारा लागू किया जाएगा। ‘मिशन भूमिपुत्र’ जनता को आसान सार्वजनिक सेवा प्रदान करने के सरकार के मिशन को जारी रखेगा। इसके तहत सरकार द्वारा दो स्तंभ बनाए जाएंगे। यह मिशन जाति प्रमाण पत्र जारी करने की मैनुअल प्रणाली को खत्म कर देगा। यह बिना किसी गड़बड़ी के ऐसे दस्तावेजों को हासिल करने में लोगों की समस्या का भी समाधान करेगा।

आईएफएस श्वेता सिंह प्रधानमंत्री कार्यालय में निदेशक नियुक्त

भारतीय विदेश सेवा (आईएफएस) की अधिकारी श्वेता सिंह को प्रधानमंत्री कार्यालय में निदेशक (डायरेक्टर) पद पर नियुक्ति दी गई है। श्वेता सिंह 2008 बैच की आईएफएस अधिकारी हैं। कार्मिक मंत्रालय ने इसे लेकर आदेश जारी किया है। इसके मुताबिक, कैबिनेट की नियुक्ति समिति ने उनके तीन साल के कार्यकाल को मंजूरी दी है।

अमरीका में मंकीपॉक्स संक्रमण जन स्वास्थ्य आपात-स्थिति घोषित

अमरीका ने मंकीपॉक्स संक्रमण को जन स्वास्थ्य आपात-स्थिति घोषित किया है। अमरीका में विश्‍व के अन्‍य देशों की तुलना में बड़ी संख्‍या में मंकीपॉक्स संक्रमण की पुष्‍ट‍ि हुई है। देश में पिछले दो महीने के दौरान छह हजार से अधिक लोगों में इस संक्रमण की पुष्टि हुई है। यह घोषणा फिलहाल 90 दिनों के लिए प्रभावी रहेगी और इसे आगे भी बढ़ाया जा सकता है।

भारत और अमरीका अक्‍टूबर में उत्‍तराखंड के औली में व्‍यापक सैन्‍य अभ्‍यास करेंगे

भारत और अमरीका इस वर्ष अक्तूबर में उत्तराखंड के औली में एक पखवाड़े का सैन्य अभ्यास ‘‘युद्ध अभ्यास’’ करेंगे। दोनों देशों का यह 18वां संयुक्त युद्धाभ्यास 14 से 31 अक्तूबर तक चलेगा। इसका उद्देश्य दोनों देशों की सेनाओं के बीच सहयोग और अंतर-संचालकता बढ़ाना है। पिछला युद्धाभ्यास पिछले वर्ष अक्तूबर में अमरीका के अलास्का में हुआ था। भारत और अमरीका के बीच रक्षा सम्बन्ध पिछले कुछ वर्षों के दौरान और मजबूत हुआ है। जून, 2016 में अमरीका ने भारत को अपना प्रमुख रक्षा साझीदार घोषित किया था।

नशे से आजादी-राष्ट्रीय युवा और विद्यार्थी संवाद कार्यक्रम का आयोजन

सामाजिक न्याय और अधिकारिता विभाग ने नशा मुक्त भारत अभियान के अन्‍तर्गत नशे से आजादी-राष्ट्रीय युवा और विद्यार्थी संवाद कार्यक्रम का आयोजन किया। सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय नशा मुक्त भारत अभियान के नाम से एक प्रमुख अभियान चला रहा है। इसे 15 अगस्त 2020 को भारत के 272 जिलों में शुरू किया गया था। सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री डॉक्‍टर वीरेंद्र कुमार ने कहा कि मादक पदार्थों के सेवन से संबंधित विकार देश के सामाजिक ताने-बाने पर प्रतिकूल प्रभाव डालने वाली एक गंभीर समस्या है।

अमरीका की सीनेट ने फिनलैंड और स्‍वीडन के नेटो में शामिल होने के प्रस्‍ताव को मंजूरी दी

अमरीका की सीनेट ने फिनलैंड और स्‍वीडन के नेटो में शामिल होने के प्रस्‍ताव को मंजूरी दे दी। इन दोनों देशों के नेटो में शामिल होने संबंधी प्रस्‍ताव के अनुमोदन के लिए दो-तिहाई बहुमत की जरूरत थी। प्रस्‍ताव को 95 सांसदों का समर्थन मिला। अमरीका के राष्‍ट्रपति जो बाइडेन ने एक वक्‍तव्‍य में कहा कि इस ऐतिहासिक प्रस्‍ताव का पारित होना, नेटो के प्रति अमरीका की निरन्‍तर प्रतिबद्धता का संकेत है।

राज्‍यसभा ने परिवार न्यायालय संशोधन विधेयक 2022 पारित किया

संसद ने परिवार न्यायालय संशोधन विधेयक 2022 पारित कर दिया है। राज्यसभा ने सदन में हंगामे के बीच इस विधेयक को स्‍वीकृति दी। लोकसभा पहले ही विधेयक को मंजूरी दे चुकी है। इससे परिवार न्यायालय अधिनियम, 1984 में संशोधन का प्रावधान है। विधेयक राज्य सरकारों को परिवार न्‍यायालय स्थापित करने की अनुमति देता है। केंद्र सरकार को विभिन्न राज्यों में अधिनियम के लागू होने की तारीखों को अधिसूचित करने का अधिकार है। हिमाचल प्रदेश और नगालैंड की सरकारों ने अधिनियम के तहत अपने राज्यों में परिवार न्यायालय स्थापित की हैं।

सरकार ने वर्ष 2030 तक प्राथमिक ऊर्जा में प्राकृतिक गैस के उपयोग को 15 प्रतिशत बढ़ाने का लक्ष्य रखा

सरकार ने वर्ष 2030 तक प्राथमिक ऊर्जा के रूप में प्राकृतिक गैस के उपयोग को 15 प्रतिशत तक बढ़ाने का लक्ष्य रखा है। लोकसभा में पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस राज्य मंत्री रामेश्वर तेली ने कहा कि वर्तमान समय में प्राकृतिक गैस का उपयोग केवल छह दशमलव तीन प्रतिशत है। श्री तेली ने कहा कि प्राकृतिक गैस के उपयोग को बढ़ाने के लिए राष्ट्रीय गैस ग्रिड का 33 हजार पांच किलोमीटर तक विस्तार, सिटी गैस वितरण नेटवर्क का विस्तार, तरल प्राकृतिक गैस टर्मिनल की स्थापना जैसी पहल की गई हैं। उन्होंने कहा कि इस वर्ष मई के अंत तक चार हजार पांच सौ 31 सीएनजी केन्‍द्र स्थापित किए जा चुके हैं।

विदेश मंत्री सुब्रहमण्‍यम जयशंकर कंबोडिया के नोम पेन्ह में आसियान-भारत विदेश मंत्रियों की बैठक में शामिल हुए

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कंबोडिया के नोम पेन्ह में आसियान-भारत विदेश मंत्रियों की बैठक में भाग लिया। उन्होंने एक ट्वीट में सिंगापुर के विदेश मंत्री विवियन बालकृष्णन और अन्य आसियान देशों के विदेश मंत्रियों को बैठक में अच्छी चर्चा के लिए धन्यवाद दिया। डॉक्टर जयशंकर ने कहा कि भारत-प्रशांत, सागर कानून पर संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन, सम्पर्क, कोविड-19, आतंकवाद, साइबर सुरक्षा, यूक्रेन और म्यांमा पर प्रभावी रूप से चर्चा की गई। उन्होंने बताया कि डिजिटल, स्वास्थ्य, कृषि शिक्षा और हरित विकास आसियान-भारत साझेदारी को आगे बढ़ाएंगे। डॉक्टर जयशंकर ने कार्यक्रम से इतर श्रीलंका के विदेश मंत्री अली साबरी से मुलाकात की और उन्हें उनकी नई जिम्मेदारी के लिए बधाई दी। उन्होंने श्रीलंका के भरोसेमंद मित्र और विश्वसनीय भागीदार के रूप में श्रीलंका की भलाई और आर्थिक सुधार के लिए भारत की प्रतिबद्धता की पुष्टि की।

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने अन्य राज्यों के मुख्यमंत्रियों को स्कूलों, कॉलेजों के पाठ्यक्रम में लचित बोरफुकोन पर एक अध्याय शामिल करने का अनुरोध किया

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने अन्य राज्यों के मुख्यमंत्रियों को पत्र लिखकर स्कूलों, कॉलेजों के पाठ्यक्रम में लचित बोरफुकोन पर एक अध्याय शामिल करने का अनुरोध किया है। इस महान अहोम जनरल की 400वीं जयंती के सिलसिले में वर्ष भर चलने वाले समारोहों के अंतर्गत ऐसा किया गया है। मुख्यमंत्री ने आशा व्यक्त की कि लचित बोरफुकोन की वीरगाथाएं दूर-दूर तक फैलेंगी और प्रत्येक भारतीय उन पर गर्व करेगा। लचित बोरफूकन का जन्म 24 नवंबर, 1622 को हुआ था। इन्होंने वर्ष 1671 में हुए सराईघाट के युद्ध (Battle of Saraighat) में अपनी सेना का प्रभावी नेतृत्व किया, जिससे असम पर कब्ज़ा करने का मुगल सेना का प्रयास विफल हो गया था। इन्होंने भारतीय नौसैनिक शक्ति को मज़बूत करने, अंतर्देशीय जल परिवहन को पुनर्जीवित करने और नौसेना की रणनीति से जुड़े बुनियादी ढाँचे के निर्माण की प्रेरणा दी। राष्ट्रीय रक्षा अकादमी (NDA) के सर्वश्रेष्ठ कैडेट को लचित बोरफूकन स्वर्ण पदक प्रदान किया जाता है। सराईघाट का युद्ध वर्ष 1671 में गुवाहाटी में ब्रह्मपुत्र (Brahmaputra) नदी के तट पर लड़ा गया था। इसे एक नदी पर होने वाली सबसे बड़ी नौसैनिक लड़ाई के रूप में जाना जाता है, जिसमें मुगल सेना की हार और अहोम सेना की जीत हुई।

हैदराबाद में राज्य पुलिस एकीकृत कमान और नियंत्रण केंद्र का उद्घाटन

तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने हैदराबाद में राज्य पुलिस एकीकृत कमान और नियंत्रण केंद्र का उद्घाटन किया। यह अत्याधुनिक नियंत्रण केंद्र छह सौ करोड़ रुपये की लागत से बनाया गया है। देश में अपनी तरह का पहला ऐसा केंद्र राज्य को अपराध नियंत्रण में मदद करेगा। यह प्राकृतिक आपदाओं के दौरान नियंत्रण कक्ष के रूप में भी कार्य करेगा। इस अवसर पर श्री चन्‍द्रशेखर राव ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय मानकों की सुविधा से अपराध नियंत्रण में मदद मिलेगी। उन्‍होंने कहा कि यह केन्‍द्र प्राकृतिक आपदाओं के दौरान भी मदद करेगा।

नौसेना की महिला अधिकारियों के दल ने डोर्नियर 228 विमान पर उत्तरी अरब सागर में पहला स्वतंत्र समुद्री निगरानी मिशन पूरा किया

भारतीय नौसेना की महिला अधिकारियों के दल ने डोर्नियर 228 विमान पर सवार होकर उत्तरी अरब सागर में पहला स्वतंत्र समुद्री निगरानी मिशन पूरा कर इतिहास रच दिया है। मिशन को गुजरात के पोरबंदर में नौसेना एयर एन्क्लेव स्थित नौसेना की एयर स्क्वाड्रन-आई.एन.ए.एस.- 314 की पांच महिला अधिकारियों ने पूरा किया। मिशन की कप्तानी लेफ्टिनेंट कमांडर आंचल शर्मा ने की। उनकी टीम में पायलट लेफ्टिनेंट शिवांगी और लेफ्टिनेंट अपूर्वा गीते शामिल थीं। सामरिक और सेंसर अधिकारी के रूप में लेफ्टिनेंट पूजा पांडा और सब लेफ्टिनेंट पूजा शेखावत ने मिशन में सहयोग दिया। रक्षा मंत्रालय ने एक बयान में बताया कि इस अभियान के लिए महिला अधिकारियों ने कई महीनों तक प्रशिक्षण प्राप्त किया और इस ऐतिहासिक यात्रा से पहले इन्हें मिशन के बारे में विस्तृत जानकारी दी गई। आई.एन.ए.एस.- 314 गुजरात के पोरबंदर स्थित नौसेना की प्रमुख स्क्वाड्रन है। अपनी तरह के इस ऐतिहासिक उड़ान मिशन के बाद अब महिला अधिकारियों के लिए भी बड़ी जिम्मेदारी और चुनौतीपूर्ण भूमिकाओं के लिए संभावनाएं बढ़ गई हैं।

रिजर्व बैंक ने रेपो दर में आधे प्रतिशत वृद्धि की

भारतीय रिजर्व बैंक ने द्विमासिक मौद्रिक नीति में रेपो दर में आधे प्रतिशत वृद्धि की घोषणा की है। मुम्‍बई में रिजर्व बैंक के गर्वनर शक्तिकांत दास ने संवाददाता सम्‍मेलन में यह घोषणा की। रेपो दर अब पांच दशमलव चार प्रतिशत हो गई है। इससे पहले रिजर्व बैंक ने रेपो दर में पिछले चार म‍हीनों में दशमलव नौ प्रतिशत की वृद्धि की है। रेपो दर वह दर है, जिस पर वाणिज्यिक बैंक, रिजर्व बैंक से उधार लेते हैं। बैंक ने वर्ष 2022-23 के लिए आर्थिक वृद्धि दर सात दशमलव दो प्रतिश‍त रहने का अनुमान लगाया है।

AIC और AICC हेतु आवेदनों की मांग: नीति आयोग

हाल ही में अटल इनोवेशन मिशन (AIM) और नीति आयोग ने अपने दो प्रमुख कार्यक्रमों अटल इनक्यूबेशन सेंटर (AIC) और अटल कम्युनिटी इनोवेशन सेंटर (ACIC) के लिये आवेदनों की मांग की है। यह अनुप्रयोगों के लिये मांग इन्क्यूबेटर के वर्तमान पारिस्थितिकी तंत्र का विस्तार करने और उन्हें वैश्विक बेंचमार्क और सर्वोत्तम उपायों तक पहुँच प्रदान करने के लिये उठाया गया एक कदम है। AIC और ACIC दोनों कार्यक्रम विश्व स्तरीय संस्थानों की स्थापना करके देश में नवोन्मेषी पारिस्थितिकी तंत्र का निर्माण करने और उनका समर्थन करने की कल्पना करते हैं जो देश के नवोदित उद्यमियों को सहायता प्रदान करेंगे। AIC और ACIC भारत के स्टार्ट-अप कार्यक्रम और उद्यमिता पारिस्थितिकी तंत्र को समृद्ध बनाने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे और आत्मनिर्भर भारत के प्रयासों को सशक्त करेंगे। AIC भारत में स्टार्ट-अप और उद्यमियों के लिये एक सहायक पारिस्थितिकी तंत्र बनाते हुए नवाचार और उद्यमशीलता की भावना को बढ़ावा देने के लिये AIM और नीति आयोग की एक पहल है। ACIC की परिकल्पना में स्टार्ट-अप और नवाचारी इको-सिस्टम को मद्देनजर रखते हुये देश के उन सभी हिस्सों को रखा गया है, जहाँ तक नवाचारी इको-सिस्टम या तो पहुँच नहीं है या कम मात्रा में पहुँच है।

लगभग एक करोड़ सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों ने 25 महीनों के भीतर उद्यम पोर्टल पर पंजीकरण कराया

केंद्रीय सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्री के अनुसार, लगभग एक करोड़ सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों (MSMEs) ने 25 महीनों के भीतर उद्यम पोर्टल पर पंजीकरण कराया है। उद्यम पोर्टल को 1 जुलाई, 2020 को लॉन्च किया गया था। यह MSMEs के पंजीकरण के लिये स्थापित एक ऑनलाइन प्रणाली है, जिसे केंद्रीय सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय द्वारा शुरू किया गया है। इसके अलावा, यह केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (CBDT) और वस्तु और सेवा कर नेटवर्क (GSTN) के डेटाबेस से जुड़ा हुआ है। GSTN एक अनूठा और जटिल IT उद्यम है जो करदाताओं, केंद्र और विभिन्न राज्य सरकारों और अन्य हितधारकों के मध्य संचार और वार्ता के लिये एक नेटवर्क स्थापित करता है। यह पूरी तरह से ऑनलाइन है, इसके लिये किसी भी प्रकार के लिखित प्रमाण की आवश्यकता नहीं है और यह MSME के लिये व्यवसाय को सुगम बनाने की दिशा में एक कदम है।

राष्ट्रीय शिक्षा सोसायटी, जनजातीय कार्य मंत्रालय तथा सीबीएसई ने प्रायोगिक शिक्षण कार्यक्रम का शुभारंभ किया

जनजातीय छात्रों के लिये राष्ट्रीय शिक्षा सोसायटी (NESTS), जनजातीय कार्य मंत्रालय तथा सीबीएसई ने 3 अगस्त, 2022 को एकलव्य मॉडल आवासीय विद्यालय (EMRS) के प्रधानाध्यापकों और शिक्षकों के लिये 21वीं सदी के कार्यक्रमों के अंतर्गत प्रायोगिक शिक्षण कार्यक्रम का शुभारंभ किया। कार्यक्रम का पहला चरण 20 नवंबर, 2021 को शुरू किया गया था जिसमें 6 राज्यों, महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, कर्नाटक, त्रिपुरा और अरुणाचल प्रदेश में स्थित सीबीएसई और EMRS के 350 शिक्षकों ने भाग लिया था। दूसरे चरण में, 8 सप्ताह के पेशेवर विकास प्रशिक्षण कार्यक्रम में पहले चरण में शामिल राज्यों के अलावा गुजरात, हिमाचल प्रदेश, तेलंगाना और उत्तराखंड के EMRS के 300 शिक्षकों को शामिल करने का लक्ष्य रखा गया है। 21वीं सदी के लिये प्रायोगिक शिक्षण कार्यक्रम को शिक्षकों और प्रधानाध्यापकों के लिये एक ऑनलाइन कार्यक्रम के रूप में परिकल्पित किया गया है ताकि उन्हें कक्षा में शिक्षण को वास्तविक जीवन के अनुभवों के अनुकूल बनाने में मदद मिल सके। EMRS पूरे भारत में भारतीय जनजातियों (STs) के लिये मॉडल आवासीय विद्यालय बनाने की एक योजना है। इसकी शुरुआत वर्ष 1997-98 में हुई थी। जनजातीय मामलों के मंत्रालय द्वारा शिंदे (नासिक) में एकलव्य मॉडल आवासीय विद्यालय की योजना आसपास के आदिवासी क्षेत्रों में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा को बढ़ावा देने के लिये बनाई गई है। EMRS में सीबीएसई पाठ्यक्रम का अनुसरण किया जाता है।

आज़ादी सैट : अंतरिक्ष में इसरो का सबसे छोटा रॉकेट

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) 7 अगस्त, 2022 को ‘आज़ादी सैट’ ले जाने वाले अपने सबसे छोटे वाणिज्यिक रॉकेट ‘स्मॉल सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल (SSLV)’ को लॉन्च करेगा। इसे अंतरिक्ष में तिरंगा फहराने के लिए लॉन्च किया जाएगा। इसे सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र, श्रीहरिकोटा से लॉन्च किया जाएगा। भारत के ‘आज़ादी का अमृत महोत्सव’ के उत्सव को चिह्नित करने के लिए SSLV ‘आज़ादी सैट’ नामक एक सह-यात्री उपग्रह ले जाएगा। यह विशेष रूप से 75वें स्वतंत्रता दिवस के उत्सव के लिए तैयार किया गया है। यह वैज्ञानिक सोच को प्रोत्साहित करेगा और युवा लड़कियों के लिए अपने करियर के रूप में ‘अंतरिक्ष अनुसंधान’ को चुनने के अवसर पैदा करेगा। आज़ादी सैट में 75 पेलोड शामिल हैं। ये पेलोड भारत के 75 ग्रामीण सरकारी स्कूलों की 750 युवा छात्राओं द्वारा बनाए गए हैं। यह 8 किलोग्राम का क्यूबसैट है। 75 पेलोड में से प्रत्येक का वजन लगभग 50 ग्राम है। यह मिशन फेमटो-प्रयोगों का संचालन करेगा। ‘आज़ादी सैट’ में एक सॉलिड-स्टेट पिन डायोड-आधारित विकिरण काउंटर भी शामिल है, जो अपनी कक्षा में आयनकारी विकिरण को मापेगा, साथ ही इसमें एक लंबी दूरी के ट्रांसपोंडर भी है। इसरो अंतरिक्ष किड्ज इंडिया द्वारा विकसित ग्राउंड सिस्टम का उपयोग टेलीमेट्री और आजादीसैट के साथ कक्षा में संचार स्थापित करने के लिए करेगा।

दक्षिण कोरिया का पहला अंतरिक्ष यान चंद्रमा के लिए लांच किया गया

दक्षिण कोरिया ने 4 अगस्त, 2022 को अन्य देशों के साथ दौड़ में शामिल होकर, चंद्रमा के लिए अपना पहला अंतरिक्ष यान लॉन्च किया। दक्षिण कोरियाई चंद्र ऑर्बिटर भविष्य के लैंडिंग स्पॉट का निरीक्षण करेगा। कोरिया पाथफाइंडर लूनर ऑर्बिटर या फिर दानुरी (Danuri) जिसका अर्थ कोरियाई भाषा में चंद्रमा का आनंद लेना है इसे स्पेसएक्स के फाल्कन 9 लॉन्च वाहन पर लॉन्च किया गया था। यह दिसंबर 2022 में अपने गंतव्य पर पहुंचेगा। यदि यह मिशन सफल होता है, तो यह चीन, भारत और अमेरिका के अंतरिक्ष यान के साथ शामिल हो जाएगा जो पहले से ही चंद्रमा पर कार्य कर रहे हैं। भारत, रूस और जापान भी 2022-2023 में नए मिशन लांच करेंगे। नासा अगस्त 2022 में आर्टेमिस कार्यक्रम के तहत अपने मेगा मून रॉकेट को लॉन्च करने वाला है। इस मिशन के एक भाग के रूप में, एक खाली क्रू कैप्सूल को चंद्रमा पर भेजा जाएगा। दानुरी मिशन छह विज्ञान उपकरणों को ले जा रहा है, जिसमें नासा के लिए एक कैमरा शामिल है। यह चंद्रमा के ध्रुवों पर स्थायी रूप से छायादार, बर्फ से भरे गड्ढों के चित्र लेगा।

स्वदेश में निर्मित एटीजीएम का महाराष्ट्र में सफलतापूर्वक परीक्षण

स्वदेश में निर्मित लेजर-गाइडेड एंटी-टैंक गाइडेड मिसाइल-एटीजीएम का महाराष्ट्र में अहमद नगर के आर्मर्ड कोर सेंटर और स्कूल के सहयोग से रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन डीआरडीओ तथा भारतीय सेना द्वारा के.के. रेंज में मुख्य युद्धक टैंक एमबीटी अर्जुन से सफलतापूर्वक परीक्षण किया गया। मिसाइल ने सटीकता से प्रहार किया और दो अलग-अलग रेंज में लक्ष्यों को सफलतापूर्वक नष्ट कर दिया। टेलीमेट्री सिस्टम ने मिसाइलों के संतोषजनक उड़ान प्रदर्शन को दर्ज किया है। एटीजीएम को मल्टी-प्लेटफॉर्म लॉन्च क्षमता के साथ विकसित किया गया है और वर्तमान में एमबीटी अर्जुन की 120 मिमी राइफल्ड गन से तकनीकी मूल्यांकन परीक्षण चल रहा है।

मुरली श्रीशंकर लॉन्ग जंप में रजत पदक जीतने वाले पहले भारतीय पुरुष एथलीट

भारत के लॉन्ग जंपर मुरली श्रीशंकर ने भारत को ट्रैक एंड फील्ड में दूसरा पदक दिलाया है। श्रीशंकर ने मेन्स लॉन्ग जंप के फाइनल में 8.08 मीटर के बेस्ट जंप के साथ रजत पदक हासिल किया। इसी के साथ श्रीशंकर राष्ट्रमंडल खेलों के इतिहास में लॉन्ग जंप इवेंट में भारत के लिए रजत पदक जीतने वाले भारत के पहले पुरुष एथलीट बन गए हैं।इससे पहले महिलाओं में पूर्व एथलीट अंजू बॉबी जॉर्ज और प्रज्यूषा मलाइखल पदक जीत चुकी हैं। अंजू बॉबी ने 2002 राष्ट्रमंडल खेलों में लॉन्ग जंप में कांस्य और प्रज्यूषा ने 2010 राष्ट्रमंडल खेलों में रजत पदक जीता था। वहीं, पुरुषों में सुरेश बाबू ने 1978 राष्ट्रमंडल खेलों में कांस्य पदक जीता था। यह लॉन्ग जंप में भारत के लिए प्रज्यूषा के बाद दूसरा रजत पदक है।

राष्‍ट्रमण्‍डल खेलों में सुधीर ने पैरा पावर लिफि्टंग में भारत का पहला स्‍वर्ण पदक जीता

बर्मिंघम राष्‍ट्रमंडल खेलों के सातवें दिन भी भारत का शानदार प्रदर्शन जारी रहा। भारत्‍तोलन में पुरुष हैवीवेट के फाइनल में पैरालिफ्टर सुधीर ने 212 किलो वजन उठाकर स्‍वर्ण पदक जीता। राष्‍ट्रमंडल खेलों की पैरालिफ्टिंग में भारत के लिए ये पहला स्‍वर्ण पदक है।

44th Chess Olympiad: तानिया सचदेव ने भारत की महिला टीम को जीत दिलाई

तानिया सचदेव ने कड़ी मेहनत करते हुए एक कीमती अंक हासिल किया, जिससे भारत ए ने मामल्लापुरम में 44वें शतरंज ओलंपियाड में महिला वर्ग के चौथे दौर के मैच में हंगरी के खिलाफ 2.5-1.5 की सनसनीखेज जीत दर्ज की। कोनेरू हम्पी, द्रोणवल्ली हरिका और आर वैशाली के अपने-अपने मुकाबलों में ड्रॉ के साथ समाप्त होने के बाद, सचदेव ने इस अवसर पर शानदार प्रदर्शन किया। उसने निर्णायक अंक अर्जित करने के साथ-साथ टीम के लिए मैच हासिल करने के लिए जसोका गाल को हराया। तानिया सचदेवा एक भारतीय शतरंज खिलाड़ी है, जिन्होंने इंटरनेशनल मास्टर (आईएम) और महिला ग्रैंडमास्टर (डब्लूजीएम) के FIDE का खिताब जीता हुआ है। तानिया का जन्म 20 अगस्त 1986 को दिल्ली में हुआ था। वे 2005 में महिला ग्रैंडमास्टर खिताब से सम्मानित होने वाली आठवें भारतीय खिलाड़ी बनी।

Start Quiz! PRINT PDF

« Previous Next Affairs »

Notes

Notes on many subjects with example and facts.

Notes

QUESTION

Find Question on this Topic and many other subjects

Learn More

Test Series

Here You can find previous year question paper and mock test for practice.

Test Series

Download

Here you can download Current Affairs Question PDF.

Download

Join

Join a family of Rajasthangyan on


Contact Us Contribute About Write Us Privacy Policy About Copyright

© 2022 RajasthanGyan All Rights Reserved.