Ask Question | login | Register
Notes
Question
Quiz
Tricks
Facts

13 August 2022

शहरों और नगरपालिकाओं की भिक्षावृत्ति से मुक्ति के लिए 'स्‍माईल कार्यक्रम का शुभारंभ

सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री डॉक्टर वीरेंद्र कुमार ने नई दिल्ली में 'स्‍माईल : आजीविका और उद्यम के लिए वंचित व्यक्तियों के लिए सहायता' पहल का शुभारंभ किया। इसका उद्देश्य शहरों, कस्बों और नगरपालिका क्षेत्रों को भिक्षावृत्ति से मुक्त बनाना है। इसके अलावा विभिन्न हितधारकों की समन्वित कार्रवाई के माध्यम से भिखारियों के व्यापक पुनर्वास की रणनीति बनाना भी है। मंत्रालय ने वर्ष 2025-26 तक परियोजना के लिए कुल सौ करोड़ रुपये का बजट आवंटित किया है। परियोजना के माध्यम से मंत्रालय, भिखारियों के समग्र पुनर्वास के लिए एक व्यवस्था विकसित करेगा।

भारतीय वायुसेना की टुकड़ी संयुक्‍त अभ्‍यास उदारशक्ति के लिए मलेशिया पहुंची

भारतीय वायुसेना की टुकड़ी मलेशिया की वायुसेना के साथ संयुक्‍त अभ्‍यास उदारशक्ति के लिए मलेशिया पहुंच गई है। भारतीय दल हवाई अड्डे से सीधे अपने गंतव्य, कुआंतान के आरएमएएफ बेस के लिए रवाना हुआ। भारतीय वायुसेना और रॉयल मलेशियन एयरफोर्स के बीच यह पहला द्विपक्षीय सैन्‍य अभ्‍यास है। वायुसेना इस अभ्‍यास में सुखोई 30, एमकेआई और सी-17 विमानों के साथ जबकि मलेशियाई वायुसेना सुखोई-30 एमकेएम विमानों के साथ अभ्‍यास में शामिल होगी। चार दिन के दौरान दोनों देशों की वायुसेना हवा में विभिन्‍न प्रकार के युद्ध अभ्‍यास करेगी।

जेम्स मारेप फिर बने पापुआ न्यू गिनी के प्रधानमंत्री

पापुआ न्यू गिनी की संसद ने देश में चुनाव के बाद प्रधानमंत्री जेम्स मारेप को फिर से शीर्ष पद के लिए नामित किया। ऑस्ट्रेलियन ब्रॉडकास्टिंग कॉर्प की खबर के मुताबिक, चुनाव के बाद संसद की पहली बैठक में मारेप को अगली गठबंधन सरकार का नेतृत्व करने के लिए निर्विरोध नामित किया गया।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर को मिलेगा फ्रांस का सर्वोच्च नागरिक सम्मान

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर को फ्रांस का सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘शेवेलेयर दी ला लीजन दी ऑनर’ से सम्मानित किया जाएगा। कई दलों के नेताओं ने थरूर को इस प्रतिष्ठित सम्मान के लिए बधाई दी। फ्रांस की सरकार थरूर के लेखन और भाषणों के चलते उन्हें इस सम्मान से नवाज रही है। भारत में फ्रांस के राजदूत इमैनुएल लेनेन ने थरूर को लिखित रूप से इस सम्मान के बारे में सूचित किया है।

ISRO ने वर्चुअल स्पेस म्यूजियम “SPARK” लॉन्च किया

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने एक इंटरैक्टिव इंटरफेस के साथ कई इसरो मिशनों को प्रदर्शित करने के लिए 'स्पार्क' अंतरिक्ष संग्रहालय नामक एक डिजिटल प्लेटफॉर्म लॉन्च किया है। 'स्पार्क' अंतरिक्ष संग्रहालय के रूप में जाना जाने वाला डिजिटल प्लेटफॉर्म इसरो के अध्यक्ष एस सोमनाथ द्वारा लॉन्च किया गया था। इसरो ने https://spacepark.isro.gov.in नाम की साइट लॉन्च की है। जिसपर आप कई तरह के दस्तावेज, तस्वीरें, वीडियो देख सकते है। ये सभी इसरो के इतिहास और लॉन्च से जुड़े हुए हैं। मिशन की कहानियां, रॉकेट्स, सैटेलाइट्स और अन्य वैज्ञानिक मिशनों की जानकारियां मौजूद हैं। इस वेबसाइट का बीटा वर्जन इसरो की साइट पर मौजूद है। स्पार्क (SPARK) इसरो का पहला थ्रीडी वर्चुअल स्पेस टेक पार्क है। इस पार्क में म्यूजियम है। थियेटर हैं। ऑब्जरवेटरी और बगीचे भी हैं। बच्चों के खेलने के पार्क के अलावा असली आकार के रॉकेट भी दिखाए गए हैं।

यूक्रेन के जापोरिषजिया परमाणु संयंत्र पर कल फिर बमबारी हुई

यूक्रेन के ज़पोरिष् ज़‍िया परमाणु संयंत्र पर बमबारी हुई। परमाणु संयंत्र पर हमले के लिए यूक्रेन और रूस एक-दूसरे पर आरोप लगा रहे हैं। यूक्रेन की एनरगोटम एजेंसी ने कहा कि बिजलीघर के परिसर में पांच बार गोलाबारी हुई। परिसर में जिस जगह रेडियोएक्टिव सामग्री रखी है, वहां भी हमला हुआ। दूसरी तरफ रूस की तास समाचार एजेंसी ने रूस के अधिकारियों के हवाले से खबर दी है कि यूक्रेन ने संयंत्र पर दो बार गोलााबरी की जिससे कर्मचारियों की शिफ्ट बदलने की प्रक्रिया बाधित हुई। संयुक्‍त राष्‍ट्र महासचिव एंतोनियो गुतेरस ने दोनों पक्षों से परमाणु संयंत्र के निकट लड़ाई रोकने का आ‍ह्वान किया है। सुरक्षा परिषद की बैठक में अमरीका ने बिजलीघर के आसपास के क्षेत्रों को सैन्‍य रहित करने की तरफदारी की। अमरीका ने अंतर्राष्‍ट्रीय परमाणु उर्जा एजेंसी - आई.ए.ई.ए. को घटनास्‍थल का निरीक्षण करने का आग्रह किया। ज़पोरिष् ज़‍िया परमाणु संयंत्र संघर्ष क्षेत्र में सीमा के निकट स्थित है। इस संयंत्र पर रूस की सेना का नियंत्रण है और यूक्रेन के कर्मचारी काम कर रहे हैं।

लातविया और एस्‍टोनिया ने चीन और दर्जनभर मध्‍य और पूर्वी यूरोपीय देशों के बीच सहयोग की संधि से हटने का फैसला किया

लातविया और एस्‍टोनिया ने चीन और दर्जनभर मध्‍य और पूर्वी यूरोपीय देशों के बीच सहयोग की संधि से हटने का फैसला किया है। यह कदम ताइवान में सैन्‍य दबाव बढ़ाने को लेकर पश्चिमी देशों द्वारा चीन की आलोचना को देखते हुए उठाया गया है। लातविया और एस्‍टोनिया दोनों ने कहा है कि वे नियम आधारित अंतरराष्‍ट्रीय व्‍यवस्‍था और मानवाधिकारों का सम्‍मान करते हुए, चीन के साथ रचनात्‍मक और प्रगतिशील संबंध जारी रखेंगे।

आर्कटिक पिछले 40 वर्षों में शेष ग्रह की तुलना में लगभग चार गुना तेजी से गर्म हुआ

एक नए शोध के अनुसार, आर्कटिक पिछले 40 वर्षों में शेष ग्रह की तुलना में लगभग चार गुना तेजी से गर्म हुआ है। यह 2019 में संयुक्त राष्ट्र के जलवायु विज्ञान पैनल के पिछले अनुमानों की तुलना में बहुत अधिक है। हालांकि, फिनिश मौसम विज्ञान संस्थान के शोधकर्ताओं ने एक अध्ययन में पाया कि हाल के दशकों में उत्तरी ध्रुव के आसपास तापमान में वृद्धि की गति शेष ग्रह की तुलना में चार गुना अधिक थी। आर्कटिक में 1979 के बाद के तापमान के अपने विश्लेषण को प्रस्तुत करते हुए, शोधकर्ताओं ने कहा, इस क्षेत्र के कुछ हिस्से, विशेष रूप से नॉर्वे और रूस के उत्तर में बैरेंट्स सागर, सात गुना तेजी से गर्म हो रहे हैं।

युवा संवाद ‘इंडिया@2047’

केंद्रीय शिक्षा एवं कौशल विकास और उद्यमिता मंत्री श्री धर्मेंद्र प्रधान तथा केंद्रीय युवा कार्यक्रम एवं खेल मंत्री श्री अनुराग ठाकुर ने 12 जुलाई, 2022 को नई दिल्‍ली में युवा संवाद इंडिया @ 2047 को संबोधित किया। इस कार्यक्रम में राष्‍ट्रीय युवा पुरस्‍कार विजेता और युवा प्रतिनिधियों सहित लगभग चार सौ युवा भाग ले रहे हैं। अंतर्राष्‍ट्रीय युवा प्रतिनिधियों के रूप में भारत का प्रतिनिधित्‍व करने के लिये युवा कार्य मंत्रालय ने इन्‍हें विभिन्‍न देशों में भेजा था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रेरणा और मार्गदर्शन के तहत भारत, लोगों और उपलब्धियों के गौरवमय इतिहास तथा स्‍वतंत्रता के 75 वर्ष के अवसर पर आज़ादी का अमृत महोत्‍सव मना रहा है। इस महोत्‍सव के अंग के रूप में 8 अगस्‍त से 14 अगस्‍त तक का सप्‍ताह (आइकॉनिक वीक) युवा कार्य और खेल मंत्रालय को आवंटित किया गया है। यह कार्यक्रम प्रतिभागी युवाओं को राष्‍ट्रीय और अंतर्राष्‍टीय महत्त्व के विभिन्‍न मुद्दों पर विचार व्‍यक्‍त करने का अवसर उपलब्‍ध कराएगा। इस वर्ष 15 अगस्त 2022 को देश की आजादी के 75 वर्ष पूरे हो जाएँगे। आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने के 75 हफ्ते पहले, 12 मार्च, 2021 को केंद्र सरकार नेआजादी के अमृत महोत्सव का शुभारंभ किया था जो कि 15 अगस्त 2023 तक चलेगा।

आयुष मंत्रालय और इलेक्ट्रॉनिक्स व सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय (एमईआईटीवाई) ने एमओयू पर हस्ताक्षर किए

आयुष ग्रिड परियोजना के तहत आयुष क्षेत्र के डिजिटलीकरण के लिए आयुष मंत्रालय को 3 साल की अवधि के लिए तकनीकी सहायता प्रदान करने के लिए आयुष मंत्रालय और इलेक्ट्रॉनिक्स व सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय (एमईआईटीवाई) के बीच एक सहमति पत्र (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए गए। यह एमओयू दरअसल पिछले एमओयू की ही निरंतरता को दर्शाता है, जिस पर वर्ष 2019 में हस्ताक्षर किए गए थे। यह निर्णय लिया गया कि ये दोनों ही मंत्रालय आपसी सहयोग से काम करना जारी रखेंगे और एमईआईटीवाई के साथ-साथ एमईआईटीवाई के अधीनस्‍थ संगठन भी आयुष ग्रिड परियोजना के लिए आवश्यक सभी तकनीकी सहायता प्रदान करेंगे जिसमें उभरती प्रौद्योगिकियों को अपनाना भी शामिल है।

श्री अर्जुन राम मेघवाल ने 'स्‍वतंत्रता की वीरगाथा-ज्ञात और कम-ज्ञात संग्राम' प्रदर्शनी का उद्घाटन किया

संस्कृति और संसदीय कार्य राज्य मंत्री श्री अर्जुन राम मेघवाल ने नई दिल्ली में 'स्वतंत्रता की वीरगाथा: ज्ञात और कम-ज्ञात संग्राम' प्रदर्शनी का उद्घाटन किया। प्रदर्शनी का आयोजन भारतीय राष्ट्रीय अभिलेखागार ने किया है। यह प्रदर्शनी भारत के राष्ट्रीय अभिलेखागार में रखे गए मूल सरकारी दस्तावेजों, कार्टोग्राफिक रिकॉर्ड, समाचार पत्रों, निजी पत्रों, समकालीन तस्वीरों और प्रतिबंधित साहित्य पर आधारित है। यह प्रदर्शनी देश के विभिन्न हिस्सों में कई क्रांतिकारी आंदोलनों और संघर्षों की एक झलक प्रदान करती है, जिनमें जंगल महल का विद्रोह, या चुआर विद्रोह (1771- 1809) (पश्चिम बंगाल), संबलपुर विद्रोह, ओडिशा (1827-62), महान विद्रोह (1857), कूका नामधारी आंदोलन, पंजाब (1871), प्लेग कमिश्नर की हत्या, पुणे (चापेकर ब्रदर्स 1897), मुंडा विद्रोह, रांची (1894), अनुशीलन समिति (1902), अलीपुर बम षडयंत्र केस (1908), हावड़ा गैंग केस (1910), दिल्ली-लाहौर षडयंत्र केस (1912), ग़दर पार्टी 1913, चंपारण सत्याग्रह (1917), असहयोग आंदोलन (1920), चौरी चौरा (1922), रम्पा विद्रोह, विशाखापत्तनम, आंध्र प्रदेश (1922-24) , हिंदुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन एसोसिएशन (एचएसआरए) 1923, काकोरी षडयंत्र केस (1925), नवजवान सभा (1926-31), कीर्ति किसान आंदोलन, 1927, चटगांव शस्त्रागार छापे (1930), सविनय अवज्ञा आंदोलन / दांडी मार्च (1930), सेंट्रल असेंबली बम केस (1929) और लाहौर षडयंत्र केस (1931), हरेका आंदोलन (रानी गैडिललियू 1930), द इंडियन इंडिपेंडेंस लीग (1920 से 1940), भारत छोड़ो आंदोलन, 1942 और रॉयल इंडियन नेवी विद्रोह 1946 आदि शामिल हैं। भारत का राष्ट्रीय अभिलेखागार संस्कृति मंत्रालय के तहत एक संलग्न कार्यालय है। यह सार्वजनिक अभिलेख अधिनियम, 1993 और सार्वजनिक अभिलेख नियम, 1997 के कार्यान्वयन के लिए नोडल एजेंसी है।

श्री अनुराग सिंह ठाकुर और श्री जी किशन रेड्डी नई दिल्ली में एकेएएम के तहत आयोजित ‘बढ़े चलो’ कार्यक्रम के भव्य फाइनल में शामिल हुए

देश के 70 शहरों में 7 दिन तक चले शानदार कार्यक्रमों के बाद तालकटोरा स्टेडियम में हुए भव्य फाइनल के साथ अखिल भारतीय कार्यक्रम बढ़े चलो का समापन हो गया। संस्कृति मंत्रालय ने आजादी का अमृत महोत्सव के तत्वावधान में 5 अगस्त, 2022 से “बढ़े चलो” के आयोजन की शुरुआत की थी। केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण और युवा कार्यक्रम एवं खेल मंत्री श्री अनुराग ठाकुर, संस्कृति, पर्यटन और उत्तर पूर्वी क्षेत्र विकास मंत्री श्री जी. किशन रेड्डी ने इस भव्य फाइनल की शोभा बढ़ाई। संस्कृति मंत्रालय में सचिव श्री गोविंद मोहन भी इस अवसर पर उपस्थित रहे। इस अवसर पर श्री जी के रेड्डी और श्री अनुराग ठाकुर ने कार्यक्रम में शामिल हजारों प्रतिभागियों के साथ हर घर तिरंगा का संकल्प लिया।

रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने नई दिल्ली में वीर गाथा प्रतियोगिता के 25 विजेताओं को सम्मानित किया

रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने 12 अगस्त, 2022 को नई दिल्ली में 'वीर गाथा' प्रतियोगिता (सुपर-25) के 25 विजेताओं को सम्मानित किया। वीर गाथा, 'आजादी का अमृत महोत्सव' के एक भाग के तहत शुरू की गई अनूठी परियोजनाओं में से एक है। इसका आयोजन सशस्त्र बलों के वीरतापूर्ण कार्यों और बलिदानों के बारे में बच्चों को प्रेरित करने और जागरूकता फैलाने के लिए किया गया था। 21 अक्टूबर से 20 नवंबर, 2021 की अवधि में आयोजित इस राष्ट्रव्यापी प्रतियोगिता में 4,788 विद्यालयों के 8.04 लाख से अधिक छात्रों को निबंध, कविता, चित्र और मल्टीमीडिया प्रस्तुतियों के माध्यम से प्रेरणादायक कहानियों को साझा करने के लिए प्रोत्साहित किया गया था। इस प्रतियोगिता में कई दौर के मूल्यांकन के बाद 25 छात्रों का चयन किया गया और उन्हें 'सुपर-25' घोषित किया गया। स्वतंत्रता दिवस- 2022 समारोह मनाए जाने के क्रम में श्री राजनाथ सिंह ने इन सुपर-25 छात्रों को 10,000 रुपये नकद पुरस्कार, एक पदक और एक प्रमाणपत्र के साथ सम्मानित किया।

विश्व हाथी दिवस – 2022 पेरियार में मनाया गया

केंद्रीय पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्री श्री भूपेंद्र यादव, केंद्रीय पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन राज्यमंत्री श्री अश्विनी कुमार चौबे तथा केरल के वन और वन्यजीव मंत्री श्री ए.के. शशिंद्रन और कई अन्य गणमान्य लोगों की उपस्थिति में केरल के पेरियार में विश्व हाथी दिवस - 2022 मनाया गया। केंद्रीय मंत्री ने "भारत के हाथी अभयारण्य: एक एटलस", "भारत के हाथी अभयारण्य: भूमि उपयोग भूमि आच्छादन वर्गीकरण", "हाथियों की देखभाल: कैद में स्वास्थ्य और कल्याण का प्रबंधन" और "ट्रम्पेट" का विशेष संस्करण जारी किया। हाथी परियोजना के 30 वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य में, सभी गणमान्य व्यक्तियों द्वारा भारत में हाथी संरक्षण पर एक पोस्टर जारी किया गया। माननीय मंत्री द्वारा की गई पहल में पहली बार गज गौरव पुरस्कार स्थानीय समुदायों, फ्रंटलाइन स्टाफ और जमीनी स्तर पर काम कर रहे महावतों के सराहनीय प्रयासों के लिए जंगली और कैद में हाथियों के संरक्षण के लिए प्रदान किया गया था। इस वर्ष तमिलनाडु के अनामलाई से संबंधित मालासर समुदाय और केरल तथा असम के महावतों को केंद्रीय पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री द्वारा गज गौरव पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

डॉ जितेंद्र सिंह ने 'रस्टी स्काईज एंड गोल्डन विंड्स' पुस्तक का विमोचन किया

विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय के केंद्रीय राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉ जितेंद्र सिंह ने जम्मू में सातवीं कक्षा की छात्रा 11 वर्षीय सन्निध्या शर्मा द्वारा लिखित 'रस्टी स्काईज एंड गोल्डन विंड्स' नामक एक कविता पुस्तक का विमोचन किया। पुस्तक ब्लू-रोज पब्लिशर्स द्वारा प्रकाशित की गई है। केंद्रीय मंत्री ने इस छोटी सी उम्र में अपनी कविताओं के संग्रह और उनकी दुर्लभ उपलब्धि के रूप में अपने विचारों को क्रिस्टलीकृत करने में छोटे लेखक के प्रयासों की सराहना की और उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की।

रूस ने ईरान के उपग्रह को कक्षा में सफलतापूर्वक लॉन्च किया

रूस ने दक्षिणी कजाकिस्तान में बैकोनूर से एक ईरानी उपग्रह को लॉन्च किया है। रूस की अंतरिक्ष एजेंसी ने कहा कि सुदूर खय्याम संवेदन उपग्रह, जिसका नाम 11 वीं शताब्दी के फारसी कवि और दार्शनिक उमर खय्याम के नाम पर रखा गया था, को कजाकिस्तान के बैकोनूर कोस्मोड्रोम से एक रूसी सोयुज रॉकेट द्वारा लॉन्च किया गया और सफलतापूर्वक कक्षा में प्रवेश किया है। जानकारी के अनुसार ईरान की अंतरिक्ष एजेंसी को उपग्रह से भेजा गया पहला टेलीमेट्री डेटा प्राप्त हुआ है।

AIFF के साल के सर्वश्रेष्ठ फुटबॉलर चुने गए सुनील छेत्री और मनीषा कल्याण

भारत की नेशनल फुटबॉल टीम के कप्तान सुनील छेत्री को 2021-22 सत्र के लिए अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ (एआईएफएफ) का साल का सर्वश्रेष्ठ पुरुष फुटबॉलर चुना गया है, जबकि महिला वर्ग में मनीषा कल्याण को यह सम्मान मिला। छेत्री को सातवीं बार यह पुरस्कार मिला है, जबकि मनीषा पहली बार इस पुरस्कार के लिए चुनीं गईं। सक्रिय अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ियों के बीच तीसरे सर्वाधिक गोल करने वाले खिलाड़ी छेत्री को 2007 में पहली बार इस पुरस्कार के लिए चुना गया था। उन्होंने इसके बाद 2011, 2013, 2014, 2017 और 2018-19 सत्र में भी यह पुरस्कार जीता।

महर्षि अरबिंदो घोष की 150वीं जयंती

महर्षि अरबिंदो घोष की 150वीं जयंती और स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ के अवसर पर केंद्रीय संस्कृति मंत्रालय 12 अगस्त, 2022 से 15 अगस्‍त, 2022 तक देश भर के 75 कारागारों में अरबिंदो के जीवन और दर्शन पर आधाारित कार्यक्रमों का आयोजन कर रहा है। इन कार्यक्रमों का उद्देश्य श्री अरबिंदो के दर्शन, योग और ध्यान, साथ ही आत्‍मचिंतन और आत्‍मबोध के माध्यम से कैदियों के जीवन में सुधार लाना है। मंत्रालय ने इन कार्यक्रमों के संचालन के लिये आध्‍यात्मिक विभूतियों और संगठनों के साथ भागीदारी की है। रामकृष्ण मिशन, पतंजलि, आर्ट ऑफ लिविंग, ईशा फाउंडेशन और सत्संग फाउंडेशन सहित पाँच संगठनों को 12 से 15 अगस्त तक देश के 23 राज्यों की जेलों में योग, ध्यान और श्री अरबिंदो की शिक्षायें प्रदान करने के कार्यक्रम आयोजित करने हेतु अनुबंधित किया गया है। अरबिंदो घोष का जन्म 15 अगस्त, 1872 को कलकत्ता में हुआ था। वह योगी, दार्शनिक, कवि और भारतीय राष्ट्रवादी थे जिन्होंने आध्यात्मिक विकास के माध्यम से पृथ्वी पर दिव्य जीवन के दर्शन को प्रतिपादित किया। वर्ष 1902 से 1910 तक उन्होंने भारत को अंग्रेज़ों से मुक्त कराने हेतु संघर्ष में भाग लिया। उनकी राजनीतिक गतिविधियों के परिणामस्वरूप उन्हें वर्ष 1908 (अलीपुर बम कांड) में कैद कर लिया गया था। पांडिचेरी में उन्होंने आध्यात्मिक साधकों के एक समुदाय की स्थापना की, जिसने वर्ष 1926 में श्री अरबिंदो आश्रम के रूप में आकार लिया। 5 दिसंबर, 1950 को पांडिचेरी में उनका निधन हो गया।

विश्व संस्कृत दिवस

12 अगस्त, 2022 के दिन को विश्व संस्कृत दिवस के रूप में मनाया गया। हर साल श्रावण पूर्णिमा के अवसर पर इस दिवस का आयोजन किया जाता है। संस्कृत को दुनिया की सबसे पुरानी भाषाओं में से एक होने का गौरव प्राप्त है। इसे देवताओं की भाषा भी कहा जाता है। दुनिया की सबसे शुरुआती भाषाओं में से एक होने का गौरव प्राप्त करने वाली यह भाषा भारतीय इतिहास के लिए काफी महत्वपूर्ण है।

विश्व हाथी दिवस

हर वर्ष 12 अगस्त को पूरी दुनिया में इस राजसी जीव के प्रति समर्पण व्यक्त करने और इसकी पहचान के महत्व को दर्शाने के लिए विश्व हाथी दिवस मनाया जाता है। दुर्भाग्य से पूरी दुनिया में शिकार की वजह से हम हाथियों को खोते जा रहे हैं। इसके अलावा हाथियों को मानव के दुर्व्यवहार, दिन-प्रतिदिन बढते शहरीकरण और उनके प्राकृतिक प्रवास कम होने जैसी चुनौतियो का सामना करना पड रहा है। 12 अगस्त 2012 को पहली बार हाथी दिवस मनाया गया। थाइलैंड के संगठन एलिफेंट रि-इंट्रोडक्शन फाउंडेशन ने कनाडा की फिल्म निर्माता पेट्रिशिया सिम्स के साथ मिलकर हाथी दिवस मनाने की पहल की थी। इस दिवस को मनाने का उद्देश्य हाथियों के शिकार, हाथी दांत के अवैध व्यापार को रोकने, जंगल में उनके प्रवास को संरिक्षत और उनके उन्मुक्त रूप से घूमने फिरने के लिए अभ्यारण्य उपलब्ध कराने के लिए काम करने वाले संगठनों की मदद करना भी है। प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने कहा है कि देश में पिछले आठ वर्षों में हाथी अभयारण्यों की संख्‍या में बढ़ोतरी हुई है। विश्‍व हाथी दिवस के अवसर पर श्री मोदी ने कहा कि एशिया के करीब साठ प्रतिशत हाथी भारत में हैं।

अंतर्राष्‍ट्रीय युवा दिवस

समाज के विकास में युवाओं के योगदान के सम्‍मान में अंतर्राष्‍ट्रीय युवा दिवस प्रत्‍येक वर्ष 12 अगस्‍त को मनाया जाता है। दुनिया भर में युवाओं के साथ होने वाले अन्‍याय के विरूद्ध आवाज उठाना भी यह दिवस मनाने का उद्देश्‍य है। युवा न केवल कल के नेता हैं बल्कि वे आज भी समाज में व्‍यापक बदलाव कर रहे हैं। संयुक्‍त राष्‍ट्र संघ के अनुसार अंतर्राष्‍ट्रीय युवा दिवस का उद्देश्‍य इस संदेश का व्‍यापक प्रचार प्रसार करना है कि सतत विकास लक्ष्‍य हासिल करने के लिए सभी पीढि़यों को कार्य करने की आवश्‍यकता है। इसका उद्देश्‍य यह सुनिश्चित करना भी है कि विकास की दौड़ से कोई भी व्‍यक्ति पीछे न छूटे। इस वर्ष, यह दिवस “Intergenerational solidarity: Creating a world for all ages” थीम के तहत मनाया जा रहा है। व्‍यक्ति की उम्र के आधार पर भेदभाव की परिपाटी को आयुवाद या एजि़ज्‍म कहते हैं। यह भी अंतर्राष्‍ट्रीय युवा दिवस का विषय है। संयुक्‍त राष्‍ट्र महासभा ने 1965 में युवाओं को शिक्षित और प्रेरित करने के लिए सक्रिय रूप कार्य शुरू किया था। संघ ने शांति के मूल्‍य, दूसरों के सम्‍मान और बौद्धिक समझ को प्रोत्‍साहन देने की घोषणा को स्‍वीकृति दी थी।

अन्नाद्रमुक के पहले सांसद माया थेवर का निधन

अन्नाद्रमुक के पहले सांसद के. माया थेवर का तमिलनाडु के डिंडीगुल में उनके पैतृक गांव चिन्नालपट्टी में उम्र संबंधी बीमारी के बाद निधन हो गया। वह 87 वर्ष के थे। अन्नाद्रमुक के पहले सांसद थे। उन्होंने 1973 में डिंडीगुल लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र में उपचुनाव लड़कर पार्टी की पहली जीत दर्ज करके राजनीति की दुनिया में प्रवेश करने के लिए पार्टी का नेतृत्व किया। इसके अलावा, यह श्री माया थेवर थे जिन्होंने प्रतिष्ठित 'दो पत्ती' का प्रतीक चुना था। बाद में वह अन्नाद्रमुक छोड़कर द्रमुक में शामिल हो गए।

Start Quiz! PRINT PDF

« Previous Next Affairs »

Notes

Notes on many subjects with example and facts.

Notes

QUESTION

Find Question on this Topic and many other subjects

Learn More

Test Series

Here You can find previous year question paper and mock test for practice.

Test Series

Download

Here you can download Current Affairs Question PDF.

Download

Join

Join a family of Rajasthangyan on


Contact Us Contribute About Write Us Privacy Policy About Copyright

© 2022 RajasthanGyan All Rights Reserved.