Ask Question | login | Register
Notes
Question
Quiz
Tricks
Facts

29 September 2021

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से 35 फसलों की विशेष किस्म राष्ट्र को समर्पित की

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने वीडियो कांफ्रेस के माध्यम से वि‍शेष गुणों वाली फसल की 35 किस्‍मों को राष्ट्र को समर्पित किया। प्रधानमंत्री ने कहा कि जलवायु परिवर्तन के कारण कई नई बीमारियां और स्थानीय रोग सामने आ रहे हैं जो कि मानव और पशुओं के स्वास्थ्य के लिए बडे खतरे उत्पन्न कर रहे हैं। इनका प्रभाव फसलों पर भी पड रहा है और इन मुद्दों पर गहन शोध की जरूरत है। श्री मोदी ने यह भी कहा कि नई पर्यावरणीय स्थितियों को ध्यान में रखते हुए बीजों की ऐसी किस्म तैयार करनी होंगी जो जो प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल करते हुए जलवायु परिवर्तन से संबंधित चुनौतियों से निपटने में सक्षम हों। इन किस्मों से कुपोषण की समस्या के उन्मूलन और फसलों को संरक्षित करने में मदद मिलेगी। देश के सभी भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद संस्‍थानों, राज्‍य और केन्‍द्रीय कृषि विश्‍वविद्यालयों और कृषि विज्ञान केन्‍द्र में इस कार्यक्रम का आयोजन किया। प्रधानमंत्री ने रायपुर में नैशनल बायोटिक स्‍ट्रेस टॉलरेंस इंस्‍टीट्यूट के नवनिर्मित परिसर का लोकार्पण किया। इस संस्थान की स्थापना जैविक संबंधी दिक्कतों को दूर करने में बुनियादी और रणनीतिक अनुसंधान करने, मानव संसाधन विकसित करने तथा नीतिगत सहायता प्रदान करने के लिए की गई है। प्रधानमंत्री ने कृषि विश्‍वविद्यालों को हरित परिसर पुरस्‍कार प्रदान किए। भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद संस्थान ने जलवायु परिवर्तन और कुपोषण की चुनौतयों से निपटने में सक्षम विशेष गुणों वाली फसल किस्मों को 2021 में विकसित किया। इनमें सुखे को बर्दास्‍त करने वाली चने की किस्‍म बिल्‍ट और मोजर, अरहर, सोयाबीन की जल्‍दी पकने वाली किस्‍म, चावल की प्रतिरोधी किस्‍में और गेंहू, बाजरा, मक्‍का, चना, विनोमा, कुटटू, बिंगेटविन और भाबाविन की जैविक किस्‍में शामिल हैं। इन विशेष लक्षणों वाली किस्में भी शामिल हैं जो कुछ फसलों में पाये जाने वाले पोषण विरोधी कारको को हल करती हैं जो मानव और पशु स्‍वास्‍थ्‍य पर प्रतिकूल प्रभाव डालते हैं।

कुल्लू में बनाया जायेगा बुनकर सेवा एवं डिजाइन संसाधन केंद्र

केंद्रीय वाणिज्य, उद्योग और कपड़ा मंत्री पीयूष गोयल ने हिमाचल प्रदेश के कुल्लू जिले में “बुनकर सेवा और डिजाइन संसाधन केंद्र” (Weaver Services and Design Resource Center) स्थापित करने की घोषणा की। यह केंद्र राज्य के आकर्षक हस्तशिल्प उत्पादों को प्रोत्साहित करने में मदद करेगा और इन उत्पादों को अंतर्राष्ट्रीय बाजार में निर्यात करने के लिए एक बेहतर मंच प्रदान करेगा। श्री पियूष गोयल ने हस्तशिल्प और हथकरघा कारीगरों के साथ एक संवाद कार्यक्रम को संबोधित करते हुए यह घोषणा की। 27 सितंबर, 2021 को हिमाचल प्रदेश के स्वर्ण जयंती वर्ष के उपलक्ष्य में ‘सेवा और समर्पण अभियान’ के तहत इस कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। हिमाचल प्रदेश में बुनाई में जबरदस्त प्रतिभा और क्षमता है। इस प्रकार, अधिक लाभ प्राप्त करने के लिए इन उत्पादों को अंतर्राष्ट्रीय बाजार में लाने के लिए राज्य और केंद्रीय मंत्रालयों द्वारा सक्रिय रूप से काम करने की आवश्यकता है। बुनकरों को अंतर्राष्ट्रीय बाजार में उनके उत्पादों के लिए बेहतर कीमत प्रदान करने के लिए डिजाइन, पैकेजिंग, गुणवत्ता और विपणन के आधुनिकीकरण पर अधिक ध्यान दिया जाना चाहिए।

भारत बना दुबई का दूसरा सबसे बड़ा व्यापार भागीदार

चीन के बाद भारत दुबई का दूसरा सबसे बड़ा व्यापारिक भागीदार बनकर उभरा है। दुबई सरकार के एक बयान के अनुसार, दुबई का 2021 की पहली छमाही (पहली छमाही) में चीन के साथ 86.7 बिलियन दिरहम का व्यापार था। इसके बाद भारत और अमेरिका क्रमशः दूसरे और तीसरे स्थान पर हैं। भारत के साथ व्यापार साल-दर-साल 74.5% बढ़कर 2021 में 67.1 बिलियन दिरहम हो गया है, जो वर्ष 2020 की पहली छमाही में 38.5 बिलियन दिरहम था। चीन ने साल-दर-साल 30.7% की वृद्धि दर्ज की। इसका H1 2021 में दुबई के साथ कुल 66.3 बिलियन दिरहम का व्यापार था। H1 2021 में, अमेरिका ने दुबई के साथ 32 बिलियन दिरहम का व्यापार किया। यह राशि 2020 में 31.7 बिलियन दिरहम से साल-दर-साल 1% बढ़ी है। सऊदी अरब को 30.5 अरब दिरहम के व्यापार मूल्य के साथ चौथे स्थान पर रखा गया था। 2020 की पहली तिमाही की तुलना में इसमें 26% की वृद्धि हुई है।

डॉक्‍टर एल. मुरुगन को मध्‍य प्रदेश से राज्‍यसभा के लिए निर्विरोध निर्वाचित घोषित कर दिया गया

केंद्रीय सूचना और प्रसारण, पशु तथा मत्‍स्‍य पालन और डेयरी राज्‍य मंत्री डॉक्‍टर एल. मुरुगन को मध्‍य प्रदेश से राज्‍यसभा के लिए निर्विरोध निर्वाचित घोषित कर दिया गया है। राज्‍य में मुख्‍य विपक्षी दल कांग्रेस ने राज्‍यसभा की रिक्‍त एकमात्र सीट के चुनाव के लिए उनके खिलाफ अपना उम्‍मीदवार नहीं खडा किया था।

केंद्रीय मंत्री और असम के पूर्व मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल असम से राज्यसभा के लिए निर्विरोध चुन लिए गए

केंद्रीय मंत्री और असम के पूर्व मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल असम से राज्यसभा के लिए निर्विरोध चुन लिए गए हैं। विपक्षी दलों ने उनके खिलाफ उम्मीदवार नहीं उतारा था। गुवाहाटी में श्री सोनोवाल ने राज्य सभा के लिए चुने जाने का प्रमाणपत्र प्राप्‍त किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा और प्रदेश भाजपा अध्यक्ष भाबेश कलीता भी मौजूद थे।

अमेरिका ने प्रधानमंत्री को 157 कलाकृतियों और पुरावशेषों को सौंपा

हाल ही में संयुक्त राज्य अमेरिका ने प्रधानमंत्री को 157 कलाकृतियों और पुरावशेषों को सौंपा, जिसमें नटराज की एक कांस्य मूर्ति भी शामिल थी। 10वीं शताब्दी में बने बलुआ पत्थर में रेवंता का बेस रिलीफ पैनल, 56 टेराकोटा के टुकड़े, कई कांस्य मूर्तियाँ तथा 11वीं और 14वीं शताब्दी से संबंधित ताँबे की वस्तुओं का एक विविध सेट भी इस मूर्ति के साथ भारत को सौंपा गया। सौंपी गई वस्तुओं की सूची में 18वीं शताब्दी की तलवार भी शामिल है, जिसमें फारसी में गुरु हरगोबिंद सिंह का उल्लेख है, इसके अतिरिक्त कुछ ऐतिहासिक पुरावशेषों में हिंदू धर्म, बौद्ध धर्म और जैन धर्म से संबंधित मूर्तियाँ भी शामिल हैं। नटराज (नृत्य के भगवान), हिंदू भगवान शिव ब्रह्मांडीय नर्तक के रूप में, विशेष तौर पर दक्षिण भारत में कई शैव मंदिरों में धातु या पत्थर की मूर्तियों के रूप में पाए जाते हैं। यह चोल मूर्तिकला का एक महत्त्वपूर्ण भाग है।

‘सेंटर ऑफ एक्सीलेंस ऑन क्वांटम टेक्नोलॉजीज़’

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान-दिल्ली’ (IIT-D) ने क्वांटम टेक्नोलॉजीज़ के विभिन्न डोमेन्स में होने वाली अनुसंधान गतिविधियों को एक मंच पर लाने हेतु ‘सेंटर ऑफ एक्सीलेंस ऑन क्वांटम टेक्नोलॉजीज़’ की स्थापना की है। यह ‘सेंटर ऑफ एक्सीलेंस’ भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान-दिल्ली में क्वांटम टेक्नोलॉजीज़ के क्षेत्र में की जा रही विभिन्न गतिविधियों में तालमेल एवं सुसंगतता लाएगा और शोधकर्त्ताओं को विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग तथा अन्य फंडिंग एजेंसियों से समर्थन प्राप्त करने में सहायता करेगा। ज्ञात हो कि संयुक्त राज्य अमेरिका, चीन, जापान और ब्रिटेन जैसे कई देशों ने इस क्वांटम टेक्नोलॉजीज़ के क्षेत्र में व्यापक निवेश किया है। इसी तर्ज पर भारत सरकार ने भी क्वांटम प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में अनुसंधान के लिये 8000 करोड़ रुपए के निवेश को मंज़ूरी दी है। विदित हो कि क्वांटम प्रौद्योगिकी, क्वांटम यांत्रिकी के सिद्धांतों पर आधारित है जिसे 20वीं शताब्दी की शुरुआत में प्रकृति में छोटे परमाणुओं और कणों का वर्णन करने के लिये विकसित किया गया था। तकनीक ने पहले चरण में भौतिक दुनिया के प्रकाश और पदार्थ के बारे में हमारी समझ विकसित की है, साथ ही लेज़र एवं सेमीकंडक्टर ट्रांज़िस्टर जैसे सर्वव्यापी आविष्कार किये हैं। हालाँकि अनुसंधान की एक सदी के बावजूद क्वांटम की दुनिया अभी भी रहस्यमय है और रोज़मर्रा की जिंदगी पर आधारित हमारे अनुभवों से दूर है।

वर्तमान विदेश व्यापार नीति (FTP) मार्च ’22 तक बढ़ाई गई

वाणिज्य मंत्री, पीयूष गोयल के अनुसार भारत की विदेश व्यापार नीति (Foreign Trade Policy – FTP) को 6 महीने के लिए 31 मार्च, 2022 तक बढ़ा दिया जाएगा। विदेश व्यापार नीति को इसके पिछले विस्तार से ठीक पहले बढ़ाया गया था जो 30 सितंबर, 2021 को समाप्त हो रहा है। 2015-2020 के लिए विदेश व्यापार नीति आर्थिक विकास को बढ़ाने के उद्देश्य से निर्यात को बढ़ावा देने के लिए बुनियादी रूपरेखा पर प्रकाश डालती है। केंद्र सरकार ने विदेश व्यापार नीति 2015-20 को 31 मार्च, 2020 को एक साल (31 मार्च, 2021 तक) के लिए बढ़ा दिया था। बाद में इसे 30 सितंबर, 2021 तक बढ़ा दिया गया था। विदेश व्यापार नीति के तहत, सरकार शुल्क मुक्त आयात प्राधिकरण (DFIA) और निर्यात संवर्धन पूंजीगत सामान (EPCG) जैसी विभिन्न योजनाओं के लिए प्रोत्साहन प्रदान करती है। विदेश व्यापार नीति (2015-20) को 1 अप्रैल, 2015 को लॉन्च किया गया था। यह भारत में वस्तुओं और सेवाओं के बढ़ते निर्यात, रोजगार सृजन और बढ़ते मूल्यवर्धन की रूपरेखा प्रदान करती है। यह नीति मेक इन इंडिया, स्किल इंडिया, डिजिटल इंडिया, स्टार्ट-अप इंडिया के साथ-साथ ईज ऑफ डूइंग बिजनेस पहल जैसी योजनाओं के अनुरूप है।

DRDO ने आकाश प्राइम मिसाइल के नए संस्करण का परीक्षण किया

रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) ने 27 सितंबर, 2021 को आकाश मिसाइल के एक नए संस्करण ‘आकाश प्राइम’ का परीक्षण किया है। इसे ओडिशा के चांदीपुर के इंटीग्रेटेड टेस्ट रेंज (ITR) से लॉन्च किया गया। इस मिसाइल ने परीक्षण के दौरान एक मानव रहित हवाई लक्ष्य को इंटरसेप्ट किया और उसे नष्ट कर दिया। आकाश प्राइम मिसाइल को इसकी सटीकता में सुधार के लिए एक स्वदेशी सक्रिय RF (रेडियो फ्रीक्वेंसी) सीकर से लैस किया गया है। उच्च ऊंचाई पर कम तापमान वाले वातावरण में अधिक विश्वसनीय प्रदर्शन लाने के लिए अन्य सुधार भी किए गए हैं। ITR के रेंज स्टेशनों में रडार, ETOS (इलेक्ट्रो ऑप्टिकल ट्रैकिंग सिस्टम) और टेलीमेट्री स्टेशन शामिल हैं। इसने मिसाइल प्रक्षेपवक्र और उड़ान मापदंडों की निगरानी में मदद की। आकाश मिसाइल एक मध्यम दूरी की मोबाइल सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल प्रणाली है। इसे रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) द्वारा विकसित किया गया था, भारत डायनेमिक्स लिमिटेड (BDL) ने इन मिसाइलों का उत्पादन किया है। भारत इलेक्ट्रॉनिक्स (BEL), टाटा पावर स्ट्रैटेजिक इंजीनियरिंग डिवीजन के साथ-साथ लार्सन एंड टुब्रो द्वारा निगरानी और अग्नि नियंत्रण रडार, मिसाइल लॉन्चर और सामरिक नियंत्रण और कमांड सेंटर विकसित किए गए थे। आकाश मिसाइल की रेंज 50-80 किमी तक और ऊंचाई 18,000 मीटर तक है। ये मिसाइलें लड़ाकू जेट, क्रूज मिसाइल, हवा से सतह पर मार करने वाली मिसाइलों के साथ-साथ बैलिस्टिक मिसाइलों जैसे हवाई लक्ष्यों को भी बेअसर कर सकती हैं।

ICRA ने वित्त वर्ष 22 के GDP विकास पूर्वानुमान को 9% तक संशोधित किया

रेटिंग एजेंसी ICRA ने वित्तीय वर्ष 2022 के लिए भारत के लिए अपने वास्तविक GDP विकास पूर्वानुमान को संशोधित किया है। इसका GDP अनुमान 8.5% से बदलकर 9% कर दिया गया है। ICRA ने GDP में वृद्धि का श्रेय वित्त वर्ष 22 की दूसरी तिमाही के लिए उज्ज्वल संभावनाओं को दिया, जो तेजी से कोविड -19 टीकाकरण, खरीफ उत्पादन के स्वस्थ अग्रिम अनुमानों के साथ-साथ संबंधित नकदी प्रबंधन उपायों को आसान बनाने के परिणामस्वरूप संभव हुआ है। वित्त वर्ष 2022 की दूसरी और तीसरी तिमाही में कृषि, वानिकी और मछली पकड़ने में GVA वृद्धि के पूर्वानुमान को संशोधित कर 3% (2% से) कर दिया गया है। ICRA के अनुसार, कोविड-19 टीकों की व्यापक कवरेज से आत्मविश्वास बढ़ेगा, जो बदले में, संपर्क-गहन सेवाओं की मांग को फिर से सक्रिय करेगा। यह कोविड-19 महामारी से सबसे अधिक प्रभावित अर्थव्यवस्था के हिस्से को पुनर्जीवित करने में मदद करेगा। ICRA के अनुमान के अनुसार, लगभग तीन-चौथाई भारतीय वयस्कों को 2021 के अंत तक अपना दूसरा कोविड -19 टीका प्राप्त होगा।

CSIR नवाचार पुरस्कार प्रदान किया गया

उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने 26 सितंबर, 2021 को वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद (CSIR) नवाचार प्रस्तुत किया। एक वर्चुअल समारोह में उडुपी जिले के दो कक्षा 10 के छात्रों को पुरस्कार प्रदान किए गए। वे छात्र हैं अनुषा और रक्षिता नाइक। उन्हें “गैस सेविंग किट” नाम की अपनी परियोजना के लिए पुरस्कार मिला है। यह पुरस्कार केंद्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय द्वारा प्रायोजित किया गया था, जो डाक के माध्यम से एक सप्ताह में छात्रों तक पहुंच जाएगा। इसमें 20,000 रुपये का नकद पुरस्कार शामिल है। कुल मिलाकर, देश भर से 14 स्कूलों को पुरस्कृत किया गया है। 14 स्कूलों में से चारमक्की नारायण शेट्टी मेमोरियल गवर्नमेंट हाई स्कूल यह पुरस्कार पाने वाला एकमात्र सरकारी स्कूल है। CSIR की स्थापना सितंबर 1942 में भारत सरकार द्वारा एक स्वायत्त निकाय के रूप में की गई थी। यह भारत का सबसे बड़ा अनुसंधान एवं विकास संगठन है। यह मुख्य रूप से विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय द्वारा वित्त पोषित है।

GST दरों को युक्तिसंगत बनाएगा मंत्रियों का समूह

सरकार ने कर्नाटक के मुख्यमंत्री बासवराज एस. बोम्मई की अध्यक्षता में मंत्रियों के एक समूह (GoM) को कर दरों के युक्तिकरण का प्रस्ताव देने और दो महीने के भीतर विभिन्न कर स्लैब के विलय पर विचार करने का काम सौंपा है। इस कदम के साथ, सरकार वस्तु व सेवा कर व्यवस्था के तहत कई कर दरों में बदलाव के लिए मंच तैयार करना चाहती है। वर्तमान में, GST शासन में पांच व्यापक कर स्लैब हैं, शून्य, 5%, 12%, 18% और 28%। इसके अलावा, कुछ सामानों पर 28% की दर से अधिक उपकर लगाया जाता है और कीमती पत्थरों और हीरे जैसी वस्तुओं के लिए विशेष दरें तय की जाती हैं। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 17 सितंबर को GST परिषद की बैठक के बाद राजस्व बढ़ाने के लिए दो GoM स्थापित करने की घोषणा की थी। इनमे से एक पैनल विसंगतियों को ठीक करने के लिए कर दर युक्तिकरण के मुद्दों पर काम करेगा। इस बैठक के दौरान, वित्त मंत्री ने संकेत दिया था कि GST के तहत प्रभावी कर की दर मूल राजस्व तटस्थ दर 15.5% से घटकर 11.6% हो गई है। वित्त मंत्रालय द्वारा 24 सितंबर को सात सदस्यीय समूह का गठन किया गया था। इस समूह का नेतृत्व बासवराज बोम्मई कर रहे हैं और इसमें पश्चिम बंगाल के पश्चिम बंगाल के वित्त मंत्री अमित मित्रा और केरल के वित्त मंत्री के.एन. बालगोपाल के अलावा गोवा, उत्तर प्रदेश, बिहार और राजस्थान से GST परिषद के सदस्य शामिल हैं। इस समूह को तत्काल बदलाव की सिफारिश करने और GST दर संरचना में अल्पकालिक और मध्यम अवधि के बदलाव के लिए एक रोडमैप की सिफारिश करने के लिए कहा गया है।

स्विट्जरलैंड ने समलैंगिक विवाह को कानूनी मान्यता दी

स्विट्जरलैंड में मतदाताओं ने 26 सितंबर, 2021 को समलैंगिक विवाह को वैध बनाने का फैसला किया। यह स्विट्जरलैंड को ऐसा करने वाले पश्चिमी यूरोप के अंतिम देशों में से एक बनाता है। सभी जोड़ों के लिए शादी के विकल्प को खोलने के अलावा, सरकार ने स्विट्जरलैंड के विवाह कानून में एक संशोधन को भी मंजूरी दी जिसे मतदाताओं के लिए एक जनमत संग्रह में रखा गया था। यह कानून समलैंगिक जोड़ों को शुक्राणु बैंकों (sperm banks) तक पहुंच प्रदान करने के साथ-साथ समलैंगिक जोड़ों को बच्चे गोद लेने की भी अनुमति देता है। इस संशोधित कानून के तहत समलैंगिक जोड़े सिविल वेडिंग कर सकेंगे। उन्हें विषमलैंगिक जोड़ों के समान संस्थागत और कानूनी अधिकार दिए जाएंगे। जनमत संग्रह के माध्यम से इस कानून को मंजूरी दी गई थी। 64.1% मतदाताओं ने कानून परिवर्तन को स्वीकार किया। इसे शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में भी मजबूत समर्थन मिला। संघीय सरकार ने वर्ष 2020 में विवाह कानूनों को मंजूरी दी है और इसी क्रम में संसद ने भी सभी जोड़ों को समान अधिकार प्रदान करते हुए उन्हें मंजूरी दी थी।

56 एयरबस C-295 सैन्य विमानों के लिए 2.5 अरब डॉलर अनुबंध पर हस्ताक्षर किए गए

रक्षा मंत्रालय ने 56 Airbus C-295 विमानों के अधिग्रहण के लिए $2.5 बिलियन के अनुबंध पर हस्ताक्षर किए हैं। 56 एयरबस C-295 विमान भारतीय वायु सेना (IAF) के एवरो HS-748 विमानों के पुराने बेड़े की जगह लेंगे। इस अनुबंध के अनुसार, एयरबसफ्लाई-अवे’ स्थिति में पहले 16 विमानों की डिलीवरी करेगी। इसे स्पेन के सेविले में अंतिम असेंबली लाइन से डिलीवर किया जाएगा। अन्य 40 विमान भारत में टाटा एडवांस्ड सिस्टम्स (TASL) द्वारा निर्मित और असेंबल किए जाएंगे। एयरबस और TASL के बीच औद्योगिक साझेदारी के तहत भारत में इन विमानों का विनिर्माण किया जाएगा। भारतीय वायु सेना दुनिया भर में C-295 विमान का 35वां संचालक बन जाएगा। “एव्रो रिप्लेसमेंट प्रोग्राम” के तहत, एक निजी क्षेत्र की फर्म पहली बार भारत में एक पूरे विमान का निर्माण करेगी। यह निर्माण, असेंबली, परीक्षण और योग्यता, वितरण से लेकर विमान के जीवनचक्र के रखरखाव तक एक संपूर्ण औद्योगिक पारिस्थितिकी तंत्र विकसित करेगा।

DFC और USAID ने भारत के लिए $55 मिलियन गारंटी कार्यक्रम की घोषणा की

US International Development Finance Corporation (DFC) और United States Agency for International Development (USAID) ने संयुक्त रूप से भारत में $55 मिलियन के क्रेडिट गारंटी कार्यक्रम को प्रायोजित करने का निर्णय लिया है। यह घोषणा 24 सितंबर, 2021 को की गई थी। यह क्रेडिट गारंटी कार्यक्रम कोविड-19 के आर्थिक प्रभाव को दूर करने का प्रयास करता है। यह कार्यक्रम किसान उत्पादक संगठनों, अग्री-टेक कंपनियों और कृषि क्षेत्र के लिए स्वच्छ ऊर्जा समाधान में लगी कंपनियों को ऋण का समर्थन करेगा। इस वित्तीय सहायता को राबो फाउंडेशन (Rabo Foundation) के नेतृत्व में तकनीकी सहायता से पूरा किया जाएगा। तकनीकी सहायता व्यवसाय प्रबंधन के क्षेत्रों पर ध्यान केंद्रित करेगी और बाजारों के लिए मजबूत संबंध बनाने में मदद करेगी। भारत में किसान उत्पादक संगठनों को ऋण तीन ऋणदाताओं समुन्नती फाइनेंशियल, अवंती फाइनेंस और मानवीय द्वारा प्रदान किया जाएगा। यह पहल इसलिए शुरू की गई थी, क्योंकि USAID का मानना ​​है कि किसानों को स्वच्छ और सस्ती तकनीक तक पहुंच प्रदान करने से समुदाय की आजीविका और जलवायु लचीलापन में सुधार होगा। स्वच्छ प्रौद्योगिकियां कृषि मांग को पूरा करने, खाद्य असुरक्षा को दूर करने के साथ-साथ पोषण संबंधी परिणामों में सुधार के लिए एक स्थायी विकल्प भी प्रदान करती हैं। यह समर्थन पहल कमजोर किसान समुदायों की स्वास्थ्य और आर्थिक जरूरतों को पूरा करेगी।

इटली ने भारत के कोविशील्ड वैक्सीन को मान्यता दी

इटली ने 24 सितंबर, 2021 को कोरोनावायरस के खिलाफ कोविशील्ड वैक्सीन को मान्यता दी है। कोरोनोवायरस के खिलाफ कोविशील्ड वैक्सीन को ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और एस्ट्राजेनेका द्वारा संयुक्त रूप से विकसित किया गया था, जबकि इसे सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा निर्मित किया गया था। इटली द्वारा इस मान्यता के साथ, कोविशील्ड वैक्सीन लगाने वाले भारतीय अब एक इतालवी ग्रीन पास प्राप्त करने के पात्र होंगे। G20 स्वास्थ्य मंत्रियों की बैठक के लिए स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया इटली के रोम दौरे पर थे। उन्होंने 6 सितंबर को इटली के स्वास्थ्य मंत्री के साथ बातचीत की। इस बैठक के दौरान उन्होंने अन्य मुद्दों के साथ-साथ टीकाकृत भारतीय छात्रों के लिए यात्रा को प्राथमिकता देने पर चर्चा की। यूरोपीय संघ (EU) के 16 देशों ने अब तक भारत के कोविशील्ड वैक्सीन को मान्यता दी है। यह मान्यता नागरिकों के लिए यूरोपीय संघ के डिजिटल कोविड प्रमाणपत्र या “ग्रीन पास” का लाभ उठाना आसान बना देगी। इटली के अलावा स्विट्जरलैंड, ऑस्ट्रिया, आइसलैंड, बुल्गारिया, फिनलैंड, ग्रीस, जर्मनी, लातविया, हंगरी, आयरलैंड, स्लोवेनिया, नीदरलैंड, स्पेन, स्वीडन, एस्टोनिया जैसे देशों ने वैक्सीन को मान्यता दी है।

मद्रास हाईकोर्ट ने तमिलनाडु में रह रहे विदेशी नागरिकों के बारे में सूचना इकट्ठा करने के लिए एक अलग डिवीजन का गठन करने के आदेश दिए

मद्रास उच्‍च न्‍यायालय ने तमिलनाडु में रह रहे विदेशी नागरिकों के बारे में सूचना इकट्ठा करने के लिए राज्‍य के पुलिस म‍हानिदेशक से एक अलग डिवीजन का गठन करने के आदेश दिए है। राज्‍य में विदेशी नागरिकों के निर्धारित अवधि से ज्‍यादा समय तक रूके रहने के एक मामले में सुनवाई करते हुए न्‍यायमूर्ति ने कहा कि श्रीलंका, नाइजीरिया, चीन, ईरान और बांग्‍लादेश के तेरह हजार दो सौ नवासी नागरिक वीजा की समय से अधिक अवधि तक चेन्‍नई, तिरूचिरापल्‍ली और मदुरै में रह रहे हैं। आदेश में यह भी कहा गया है कि उनमें से कई लोग आपराधिक गतिविधियों में शामिल है और जेल में सजा काट रहे हैं। न्‍यायालय ने पुलिस महानिदेशक से ऐसे लोगों की निगरानी करने और उन्‍हें उनके देश वापस भेजने को सुनिश्चित बनाने को कहा है।

शहीद भगत सिंह की 114वीं जयंती

28 सितंबर, 2021 को शहीद भगत सिंह की 114वीं जयंती के अवसर पर देश भर में उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की गई। भगत सिंह का जन्म 28 सितंबर, 1907 को ब्रिटिश भारत के पंजाब प्रांत के लायलपुर ज़िले में हुआ था, जो कि वर्तमान में पाकिस्तान में है। असहयोग आंदोलन को वापस लिये जाने के बाद भगत सिंह युवा क्रांतिकारी आंदोलन’ में शामिल हो गए और भारत से ब्रिटिश सरकार को हिंसक तरीके से हटाने की वकालत करने लगे। भगत सिंह, करतार सिंह सराभा को अपना आदर्श मानते थे। जो गदर पार्टी के संस्थापक सदस्य थे। वर्ष 1926 में उन्होंने भारतीय समाजवादी युवा संगठन ‘नौजवान भारत सभा’ की स्थापना की। भगत सिंह ‘हिंदुस्तान रिपब्लिकन एसोसिएशन’ में भी शामिल हुए जिसके प्रमुख नेताओं में चंद्रशेखर आज़ाद और राम प्रसाद बिस्मिल आदि शामिल थे। वर्ष 1928 में चंद्रशेखर आज़ाद के नेतृत्त्व में दिल्ली के फिरोजशाह कोटला मैदान में ‘हिंदुस्तान रिपब्लिकन एसोसिएशन’ का नाम बदलकर ‘हिंदुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन एसोसिएशन’ (HSRA) कर दिया गया। HSRA के दो सदस्यों भगत सिंह तथा बटुकेश्वर दत्त ने 8 अप्रैल, 1929 को दिल्ली में केंद्रीय विधानसभा में बम फेंका, दोनों को गिरफ्तार कर केंद्रीय असेंबली बम कांड के अंतर्गत मुकदमा चलाया गया और 23 मार्च, 1931 को भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव को फाँसी दे दी गई।

राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण स्थापना दिवस

27 सितंबर, 2021 को ‘राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण’ का स्थापना दिवस आयोजित किया गया। राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण भारत में आपदा प्रबंधन के लिये शीर्ष वैधानिक निकाय है। औपचारिक रूप से इसका गठन 27 सितंबर, 2006 को आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2005 के तहत किया गया था। प्रधानमंत्री इसका अध्यक्ष होता है और इसके अलावा अन्य नौ सदस्यों की नियुक्ति की जाती है, इनमें से एक सदस्य को उपाध्यक्ष के पद पर नियुक्त किया जाता है। इसका प्राथमिक उद्देश्य प्राकृतिक या मानव निर्मित आपदाओं के दौरान प्रतिक्रियाओं हेतु समन्वय कायम करना और आपदा-प्रत्यास्थ (आपदाओं में लचीली रणनीति) व संकटकालीन प्रतिक्रिया हेतु क्षमता निर्माण करना है। यह आपदाओं के संबंध में समय पर प्रभावी प्रतिक्रिया के लिये आपदा प्रबंधन नीतियाँ, योजनाएँ और दिशा-निर्देश तैयार करने हेतु यह एक शीर्ष निकाय है। इसके अलावा अधिनियम के तहत भारत में आपदा प्रबंधन और उसके प्रति एक समग्र व एकीकृत दृष्टिकोण विकसित करने हेतु संबंद्ध राज्यों के मुख्यमंत्रियों के नेतृत्व में ‘राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरणों’ (SDMAs) की स्थापना की परिकल्पना की गई है।

Start Quiz! PRINT PDF

« Previous Next Affairs »

Notes

Notes on many subjects with example and facts.

Notes

QUESTION

Find Question on this Topic and many other subjects

Learn More

Test Series

Here You can find previous year question paper and mock test for practice.

Test Series

Download

Here you can download Current Affairs Question PDF.

Download

Join

Join a family of Rajasthangyan on


Contact Us Contribute About Write Us Privacy Policy About Copyright

© 2021 RajasthanGyan All Rights Reserved.