Ask Question | login | Register
Notes
Question
Quiz
Tricks
Facts

25 January 2022

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने राष्‍ट्रीय बाल पुरस्कार विजेताओं को ब्लॉकचेन तकनीक के माध्‍यम से डिजिटल प्रमाणपत्र प्रदान किए

इस साल 29 बच्चों को प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। ये बच्चे देश के सभी क्षेत्रों से नवाचार (7), सामाजिक सेवा (4), शैक्षिक (1), खेल (8), कला और संस्कृति (6) और वीरता (3) श्रेणियों में अपनी असाधारण उपलब्धियों के लिए चुने गए हैं। 21 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के इन पुरस्कार विजेताओं में 15 लड़के और 14 लड़कियां हैं। बच्चों के असाधारण कार्यों को सम्मानित करने और उन्हें प्रेरित करने के लिए राष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर और आजादी का अमृत महोत्सव के हिस्से के रूप में एक वर्चुअल समारोह आयोजित किया गया था। पीएमआरबीपी 2021और 2022 के पुरस्कार विजेता अपने माता-पिता और अपने-अपने जिले के जिला मजिस्ट्रेट के साथ संबंधित जिला मुख्यालय से इस कार्यक्रम में शामिल हुए। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने समारोह के दौरान राष्ट्रीय ब्लॉकचेन परियोजना के तहत आईआईटी कानपुर द्वारा विकसित ब्लॉकचेन संचालित तकनीक का उपयोग करके पीएमआरबीपी 2021 और 2022 के 61 विजेताओं को डिजिटल प्रमाण पत्र प्रदान किए। इसमें डिजिटल सर्टिफिकेट को प्राप्तकर्ता के मोबाइल पर इंस्टॉल किए गए डिजिटल वॉलेट में स्टोर किया जाता है। ब्लॉकचेन संचालित तकनीक का उपयोग करके जारी किए गए ये डिजिटल प्रमाणपत्र ऐसे हैं जिनकी नकल नहीं की जा सकती। ये विश्व स्तर पर सत्यापन योग्य, चुनिंदा रूप से प्रकट करने योग्य और उपयोगकर्ता सामग्री के प्रति संवेदनशील हैं। पुरस्कार विजेताओं को प्रमाण पत्र देने के लिए पहली बार ब्लॉक चेन टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया गया है। पीएमआरबीपी 2022 के पुरस्कार विजेताओं को 1,00,000/- रुपये का नकद पुरस्कार दिया गया, जिसे कार्यक्रम के दौरान प्रधानमंत्री द्वारा विजेताओं के संबंधित खातों में ऑनलाइन स्थानांतरित किया गया।

हिमाचल प्रदेश और हरियाणा करेंगे आदि बद्री बांध का निर्माण

21 जनवरी, 2022 को हरियाणा और हिमाचल प्रदेश सरकारों ने यमुनानगर ज़िले के आदि बद्री में बाँध बनाने के लिये एक समझौते पर हस्ताक्षर किये। यह बाँध पौराणिक सरस्वती नदी का कायाकल्प करेगा। यह हरियाणा में हिमाचल प्रदेश की सीमा के पास स्थित है। इस स्थान को सरस्वती नदी का उद्गम स्थल माना जाता है। सरस्वती नदी के जीर्णोद्धार से धार्मिक मान्यताओं को भी पुनर्जीवित किया जाएगा। इस क्षेत्र को तीर्थस्थल के रूप में भी विकसित किया जाएगा। यह बाँध हिमाचल प्रदेश में 31.66 हेक्टेयर भूमि पर बनाया जाएगा। इसकी चौड़ाई 101.06 मीटर और ऊँचाई 20.5 मीटर होगी। परियोजना की कुल लागत 215.33 करोड़ रुपए है। आदि बद्री बाँध को सोम नदी से भी पानी मिलेगा जो यमुनानगर में आदि बद्री के पास यमुना नदी में मिलती है। बाँध की क्षमता हर साल 224.58 हेक्टेयर मीटर जल की होगी। इसमें से हिमाचल प्रदेश और हरियाणा को 61.88 हेक्टेयर पानी मिलेगा जबकि शेष सरस्वती नदी में प्रवाहित होगा।

जेडएसआई नेयूनेस्को के विश्व धरोहर स्थल का टैग प्राप्त करने हेतु मेघालय के लिविंग रूट ब्रिज़ के लिये कुछ हरित नियमों को रेखांकित किया

हाल ही में भारतीय प्राणी सर्वेक्षण (जेडएसआई) ने यूनेस्को के विश्व धरोहर स्थल का टैग प्राप्त करने हेतु मेघालय के लिविंग रूट ब्रिज़ के लिये कुछ हरित नियमों को रेखांकित किया है। इन ब्रिजेज़ को जिंग कीेंग ज़्रि (Jing Kieng Jri) भी कहा जाता है। इनका निर्माण पारंपरिक जनजातीय ज्ञान का प्रयोग करके रबर के वृक्षों की जड़ों को जोड़-तोड़ कर किया जाता है। सामान्यतः इन्हें धाराओं या नदियों को पार करने के लिये बनाया जाता है। मुख्यतः मेघालय की खासी और जयंतिया पहाड़ियों में सदियों से फैले 15 से 250 फुट के ये ब्रिज़ विश्व प्रसिद्ध पर्यटन का आकर्षण भी बन गए हैं। ये लोचदार होते हैं। इन्हें आसानी से जोड़ा जा सकता है। ये पौधे उबड़-खाबड़ और पथरीली मिट्टी में उगते हैं। मेघालय के मुख्यमंत्री ने यूनेस्को को इस राज्य को पहाड़ी राज्य के रूप में मान्यता देने की वकालत की, जिसने इसके निर्माण के 50वें वर्ष को चिह्नित किया। मेघालय वर्ष 1972 से 21 जनवरी को अपना राज्य स्थापना दिवस मनाता है। वन्यजीव विविधता और स्वास्थ्य कार्ड तैयार करना मेघालय के लिविंग रूट ब्रिज के लिये यूनेस्को टैग अर्जित करने हेतु आवश्यक शर्तें होंगी।

जापान के पूर्व पीएम शिंजो आबे को दिया गया नेताजी अवार्ड 2022

जापान के पूर्व प्रधान मंत्री शिंजो आबे को नेताजी रिसर्च ब्यूरो द्वारा नेताजी पुरस्कार 2022 से सम्मानित किया गया। कोलकाता में जापान के महावाणिज्य दूत नाकामुरा युताका ने श्री आबे की ओर से नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती पर एल्गिन रोड स्थित आवास पर एक समारोह में सम्मान प्राप्त किया। भारत में जापानी राजदूत सतोशी सुजुकी ने नई दिल्ली से आनलाइन माध्यम से कार्यक्रम को संबोधित किया। प्रसिद्ध मुक्ति सेनानी के भतीजे और नेताजी रिसर्च ब्यूरो के निदेशक सुगाता बोस (Sugata Bose) के अनुसार, आबे नेताजी के जबरदस्त प्रशंसक हैं। इसके अलावा, जनवरी 2021 में, भारत ने जापान के पूर्व प्रधान मंत्री शिंजो आबे को देश के दूसरे सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म विभूषण से सम्मानित किया।

इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने आई.सी.ई.ए. के साथ इलेक्ट्रॉनिक्स क्षेत्र के लिए पांच वर्ष का रोडमैप और दृष्टिकोण दस्तावेज जारी किया

इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने आई.सी.ई.ए. के साथ मिलकर इलेक्ट्रॉनिक्स क्षेत्र के लिए 5 वर्ष का रोडमैप और दृष्टिकोण दस्तावेज जारी किया। इसका शीर्षक है - 2026 तक तीन सौ बिलियन डॉलर का सतत इलेक्ट्रॉनिक्स विनिर्माण और निर्यात। यह रोडमैप दो-भाग वाले विज़न दस्तावेज़ का दूसरा खंड है। इसका पहला भाग पिछले वर्ष नवंबर महीने में जारी किया गया था। सरकार ने अगले 6 वर्षों में चार पीएलआई योजनाओं - सेमीकंडक्टर और डिजाइन, स्मार्टफोन, आईटी हार्डवेयर और घटकों में लगभग 17 बिलियन अमेरिकी डॉलर देने का वादा किया है। इलेक्ट्रॉनिक्स क्षेत्र, कुल घरेलू मूल्यवर्धन का विजन दस्तावेज़ में ध्यान केंद्रित करने की भी सिफारिश करता है। यह रिपोर्ट एक प्रतिस्पर्धी शुल्क संरचना की भी मांग करती है। इसमें इलेक्ट्रॉनिक घटकों और सभी नियामक अनिश्चितताओं को दूर करना भी अपेक्षित है।

राष्ट्रीय महिला आयोग ने 'सेव द गर्ल चाइल्ड' विषय पर वेबिनार का आयोजन किया

राष्ट्रीय महिला आयोग ने राष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर सेव द गर्ल चाइल्ड विषय पर एक वेबिनार का आयोजन किया। इसका उद्देश्य बालिकाओं के अधिकारों को बढ़ावा देना और उनकी शिक्षा, स्वास्थ्य तथा पोषण सहित लड़कियों से संबंधित विभिन्न विषयों पर जागरूकता बढ़ाना है। उसका उद्देश्य बालिकाओं के प्रति समाज के दृष्टिकोण में बदलाव लाने के साथ साथ एक नए दृष्टिकोण को बढ़ावा देना और उनके साथ होने वाले भेदभाव को कम करने के लिए जागरूकता पैदा करना था। राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने लड़कियों की शिक्षा, स्वास्थ्य, स्वतंत्रता और निर्णय लेने के अधिकार से संबंधित विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की।

ढाका में 20वें अंतर्राष्ट्रीय फिल्म समारोह में कूझंगल फ्रॉम इंडिया ने एशियाई फिल्म प्रतियोगिता खंड में सर्वश्रेष्ठ फिल्म का पुरस्कार जीता

ढाका में 20वें अंतर्राष्ट्रीय फिल्म समारोह में पीएस विनोदराज निर्देशित फिल्म कूझंगल फ्रॉम इंडिया ने एशियाई फिल्म प्रतियोगिता खंड में सर्वश्रेष्ठ फिल्म का पुरस्कार जीता। इसके अलावा, फिल्मों के लिए दिए गए 17 पुरस्कारों में चार और भारतीय प्रविष्टियां भी शामिल थीं। जयसूर्या को रंजीत शंकर निर्देशित फिल्म सनी के लिए सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का पुरस्कार, सर्वश्रेष्ठ पटकथा लेखक इंद्रनील रॉयचौधरी और सुगाता सिन्‍हा को भारत-बांग्लादेश फिल्म मायर जोंजाल के लिए तथा विशेष दर्शक पुरस्कार एमी बरुआ निर्देशित फिल्म सेमखोर को दिया गया। नेपाल से सुजीत बिदारी निर्देशित फिल्म आईना झ्याल को पुतली को सर्वश्रेष्ठ निर्देशक का पुरस्कार मिला।

डॉ. मनसुख मांडविया ने पुनर्निर्मित सीजीएचएस वेबसाइट और मोबाइल एप "माईसीजीएचएस" को लॉन्च किया

केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ. मनसुख मांडविया ने डिजिटल माध्यम से पुनर्निर्मित सीजीएचएस (केंद्रीय सरकार स्वास्थ्य योजना) वेबसाइट (www.cghs.gov.in) और मोबाइल एप, "माइसीजीएचएस" को लॉन्च किया। इस दौरान केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण राज्य मंत्री डॉ. भारती प्रवीण पवार भी उपस्थित थीं। इस वेबसाइट में कई अद्यतन विशेषताएं हैं, जो 40 लाख से अधिक लाभार्थियों (सेवारत और सेवानिवृत्त कर्मी, दोनों) को उनके घरों से ही रियल टाइम की जानकारी के साथ अत्यधिक लाभान्वित करेंगी।

एशियाई खेलों की स्क्वॉश स्‍पर्धा में बेहतर प्रदर्शन के लिए मंत्रालय ने क्रिस वॉकर की नियुक्ति को मंजूरी दी

युवा कार्यक्रम एवं खेल मंत्रालय ने इस साल के अंत में होने वाली एशियाई खेलों में भारतीय टीम के बेहतर प्रदर्शन को ध्यान में रखते दो बार के विश्व स्क्वॉश चैंपियनशिप पदक विजेता क्रिस वॉकर को विदेशी कोच के रूप में नियुक्त करने की मंजूरी दी है। स्क्वॉश और साइक्लिंग में इंग्लैंड का प्रतिनिधित्व करने वाले वॉकर को 16 सप्ताह के लिए अनुबंधित किया गया है।

सऊदी अरब ने यमन में एयर स्ट्राइक की

सऊदी नेतृत्व वाले गठबंधन ने हाल ही में यमन में हवाई हमले किए। इस हमले में 100 से ज्यादा लोग मारे गए। यमन के सादा क्षेत्र (Saada region) में यह हवाई हमले किए गए। सादा क्षेत्र में हौथियों (Houthis) की मजबूत पकड़ है। यह हमला संयुक्त अरब अमीरात पर हौथियों के हमले की प्रतिक्रिया थी। यमन संकट 2011 में शुरू हुआ था। यमन में एक विद्रोह ने 2011 में तत्कालीन राष्ट्रपति अली अब्दुल्ला सालेह को इस्तीफा देने के लिए मजबूर किया। साथ ही, उन्हें अपनी शक्तियों को अब्दराबुह मंसूर हादी (Abdrabbuh Mansour Hadi) को सौंपने के लिए मजबूर होना पड़ा। हादी आतंकवादियों की घुसपैठ, अलगाववादी आंदोलन और जिहादियों के हमलों को नहीं संभाल सके। अंततः देश में बेरोजगारी, भ्रष्टाचार और खाद्य असुरक्षा बढ़ी। हौथी आंदोलन (Houthi Movement) ने राजनीतिक अस्थिरता का फायदा उठाया। हौथी आंदोलन का नेतृत्व शिया मुसलमान कर रहे हैं। वे देश में अल्पसंख्यक हैं। उन्होंने सादा प्रांत पर कब्जा कर लिया और धीरे-धीरे दक्षिण की ओर बढ़ने लगे। यहां तक ​​कि सुन्नी और अन्य सामान्य यमनियों ने भी शियाओं का समर्थन करना शुरू कर दिया। हौथियों ने धीरे-धीरे यमन की राजधानी सना पर अधिकार कर लिया।

भारत में स्टार्ट-अप उद्योग बढ़ कर 330 बिलियन डॉलर पर पहुंचा : NASSCOM

NASSCOM का अर्थ National Association of Software and Service Companies है। यह एक गैर-सरकारी संगठन है और यह भारत के IT क्षेत्र के विस्तार के लिए काम करता है। NASSCOM के एक हालिया अध्ययन “Indian Tech Startups Ecosystem: Year of the Titans” के अनुसार, भारत में स्टार्टअप पारिस्थितिकी तंत्र दोगुना बढ़ गया है। 2020 से 2021 के बीच देश की स्टार्टअप इंडस्ट्री बढ़कर 330 अरब डॉलर हो गई है। स्टार्टअप्स के लिए 2021 एक सफल वर्ष था। 2020 और 2021 के बीच लगभग 65,000 स्टार्टअप्स ने 6.6 लाख प्रत्यक्ष नौकरियां और 34.1 लाख अप्रत्यक्ष नौकरियां पैदा कीं। अधिकांश नई नौकरियां रिटेल, एड-टेक, BFSI, रिटेल टेक, SCM और लॉजिस्टिक्स, फूड टेक और मोबिलिटी के क्षेत्र में उत्पन्न हुईं। मूल्य सौदों (value deals) की संख्या में तीन गुना वृद्धि हुई। 100 मिलियन डालर से अधिक के सौदों में संख्या में वृद्धि अत्यधिक स्पष्ट थी। स्टार्टअप्स में जोखिम उठाने की तैयारी है। और निवेशकों का भरोसा बढ़ा है। हस्ताक्षर किए गए सौदों में से 50% में भारत के निवेशक थे। देश में यूनिकॉर्न की संख्या में वृद्धि हुई है। यूनिकॉर्न वह स्टार्टअप हैं जिनका मूल्य एक अरब डालर से अधिक है। 2022 में भारतीय स्टार्टअप का भविष्य उज्ज्वल है।

पृथ्वी का छठा सामूहिक विलोपन

बायोलॉजिकल रिव्यू में प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार, पृथ्वी ग्रह पर छठा सामूहिक विलोपन संकट चल रहा है। पृथ्वी पहले ही अपनी कुल प्रजातियों का लगभग 13% खो चुकी है। अतीत में पृथ्वी ने 5 सामूहिक विलोपन (mass extinctions) देखें हैं। अंतिम सामूहिक विलोपन लगभग 65 मिलियन वर्ष पहले हुआ था, जिसने डायनासोर का सफाया कर दिया था। पृथ्वी में प्रजातियों के विलुप्त होने की दर में भारी वृद्धि देखी जा रही है और कई जानवरों और पौधों की आबादी में गिरावट आई है।इसके बावजूद, विशेषज्ञ इस बात से इनकार करते हैं कि ये घटनाएं बड़े पैमाने पर विलुप्त होने के बराबर हैं। इस टीम ने घोंघे (molluscs) अर्थात भूमि घोंघे (land snails) और स्लग (slugs) का अध्ययन किया, जो ज्ञात प्रजातियों में दूसरा सबसे बड़ा संघ (second-largest phylum) है। IUCN रेड लिस्ट के आंकड़ों के अनुसार, पक्षियों और स्तनधारियों की तुलना में मोलस्क को विलुप्त होने की उच्च दर का सामना करना पड़ा है। अकशेरुकी जीवों (invertebrates) में लगभग 95% ज्ञात पशु प्रजातियां शामिल हैं। इस प्रकार, उन्हें जैव विविधता विलुप्त होने के अनुमान में शामिल करना आवश्यक है। लेकिन अकशेरूकीय की 15 लाख वर्णित प्रजातियों में से केवल 2% का ही पूरी तरह से मूल्यांकन किया गया है।

क्या भारत सरकार शुरू करेगी भारतीय पर्यावरण सेवा

21 जनवरी, 2021 को सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से पूछा कि क्या वह भारत के नौकरशाही ढांचे में एक समर्पित भारतीय पर्यावरण सेवा (Indian Environment Service) की योजना बना रही है। 2014 में, पूर्व कैबिनेट सचिव टी.एस.आर. सुब्रमण्यम की अध्यक्षता वाली एक समिति ने भारतीय पर्यावरण सेवा स्थापित करने की सिफारिश की थी। अखिल भारतीय स्तर पर एक स्वतंत्र भारतीय पर्यावरण सेवा के निर्माण के लिए एक वकील समर विजय सिंह द्वारा याचिका दायर की गई थी। हालांकि, प्रथम दृष्टया यह संदेहास्पद है कि क्या परमादेश (mandamus) जारी किया जा सकता है। हालांकि, इस बात की जांच की जा सकती है कि क्या सरकार टी.एस.आर. सुब्रमण्यम समिति की सिफारिश का पालन करने का प्रस्ताव रखती है। टी.एस.आर. सुब्रमण्यम समिति का गठन अगस्त 2014 में सुब्रमण्यम की अध्यक्षता में किया गया था। इसका गठन पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय द्वारा भारत में पर्यावरण कानूनों की समीक्षा करने के साथ-साथ उन्हें वर्तमान आवश्यकताओं के अनुरूप लाने के लिए किया गया था। इस समिति ने 18 नवंबर 2014 को अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत की थी। इस समिति ने कहा था कि भारत में एक मजबूत पर्यावरण नीति और विधायी ढांचा था, लेकिन इसे कमजोर रूप से लागू किया गया है। कमजोर कार्यान्वयन के परिणामस्वरूप संरक्षण विशेषज्ञों और न्यायपालिका द्वारा पर्यावरण शासन की आलोचना की गई है।

भूमध्य सागर में समुद्री अभ्यास करेंगे नाटो के भागीदार

नाटो (उत्तर अटलांटिक संधि संगठन) के सदस्य देश 24 जनवरी, 2022 से भूमध्य सागर में 12 दिवसीय समुद्री अभ्यास करेंगे। समुद्री अभ्यास का नाम "नेप्च्यून स्ट्राइक '22" है। नौसैनिक अभ्यास 04 फरवरी, 2022 को समाप्त होगा। इस अभ्यास का मुख्य उद्देश्य नाटो की समुद्री क्षमताओं की विस्तृत श्रृंखला का प्रदर्शन और परीक्षण करना होगा। अमेरिका ने नाटो नौसैनिक अभ्यास आयोजित करने के निर्णय की घोषणा की, जिसमें यूएसएस हैरी ट्रूमैन (Harry Truman) विमानवाहक पोत की भागीदारी शामिल होगी, रूस ने कहा कि यह प्रशांत से अटलांटिक समुद्र तक दो महीने, जनवरी और फरवरी के लिए अपनी स्वयं की नौसैनिक क्षमताओं का प्रदर्शन करेगा।

24 जनवरी : अंतर्राष्ट्रीय शिक्षा दिवस

प्रतिवर्ष 24 जनवरी को अंतर्राष्ट्रीय शिक्षा दिवस (International Day of Education) मनाया जाता है। संयुक्त राष्ट्र ने 3 दिसम्बर, 2018 को प्रस्ताव पारित करके 24 जनवरी को अंतर्राष्ट्रीय शिक्षा दिवस के रूप घोषित करने का निर्णय लिया था। इसका उद्देश्य शान्ति व विकास में शिक्षा की भूमिका को रेखांकित करना है। अंतर्राष्ट्रीय शिक्षा दिवस के लिए इस प्रस्ताव को नाइजीरिया समेत 58 देशों ने तैयार किया था। यह अंतर्राष्ट्रीय शिक्षा दिवस का चौथा संस्करण है। 11 नवम्बर को भारत में राष्ट्रीय शिक्षा दिवस के रूप में मनाया जाता है। भारत में राष्ट्रीय शिक्षा दिवस देश के प्रथम शिक्षा मंत्री मौलाना अबुल कलाम आजाद की स्मृति में मनाया जाता है। 11 नवम्बर को मौलाना अबुल कलाम आज़ाद की जयंती होने के कारण 11 नवम्बर को राष्ट्रीय शिक्षा दिवस के रूप में मनाया जाता है। राष्ट्रीय शिक्षा दिवस की स्थापना वर्ष 2008 में की गयी थी।

राष्ट्रीय बालिका दिवस

राष्ट्रीय बालिका दिवस हर साल 24 जनवरी को मनाया जाता है। राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाने का उद्देश्य देश की लड़कियों को हर प्रकार की सहायता और अवसर प्रदान करना है। इसके अलावा बालिकाओं के अधिकारों, उनकी शिक्षा, स्वास्थ्य और पोषण के बारे में जागरूकता भी बढ़ाना है। इस अवसर पर संस्कृति मंत्रालय आजादी का अमृत महोत्सव के तहत रंगोली उत्सव 'उमंग' का आयोजन करेगा। इस आयोजन में प्रतिभागी टीमें देश की महिला स्वतंत्रता सेनानियों या देशवासियों के लिए आदर्श बनी महिलाओं के नाम पर सड़कों और चौराहों पर लगभग एक किलोमीटर लंबी रंगोली बनाएंगी। ध्यातव्य है कि अंतर्राष्ट्रीय बालिका दिवस प्रतिवर्ष 11 अक्तूबर को मनाया जाता है।

Start Quiz! PRINT PDF

« Previous Next Affairs »

Notes

Notes on many subjects with example and facts.

Notes

QUESTION

Find Question on this Topic and many other subjects

Learn More

Test Series

Here You can find previous year question paper and mock test for practice.

Test Series

Download

Here you can download Current Affairs Question PDF.

Download

Join

Join a family of Rajasthangyan on


Contact Us Contribute About Write Us Privacy Policy About Copyright

© 2022 RajasthanGyan All Rights Reserved.