Ask Question | login | Register
Notes
Question
Quiz
Tricks
Facts

4 October 2021

जापान की संसद ने पूर्व विदेश मंत्री फुमियो किशिदा को प्रधानमंत्री चुन लिया

जापान की संसद ने पूर्व विदेश मंत्री फुमियो किशिदा को प्रधानमंत्री चुन लिया है। वे देश के सौवें प्रधानमंत्री होंगे। संसद के दोनों सदनों में कराये गये मतदान में सत्तारूढ़ दल लिबरल डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्‍मीदवार किशिदा ने विपक्षी संवैधानिक डेमोक्रेटिक पार्टी के युकिओ एडानो पर आसानी से जीत हासिल कर ली। श्री किशिदा को निचले सदन में 311 मत मिले, जो बहुमत से 80 अधिक है। उच्च सदन में उन्‍हें 141 मत मिले, जो बहुमत से 20 अधिक थे। वे प्रधानमंत्री योशीहिदे सुगा का स्‍थान लेंगे। प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने फुमियो किशिदा को जापान का नया प्रधानमंत्री चुने जाने पर बधाई दी है।

उपराष्ट्रपति ने असम में लोकप्रिय गोपीनाथ बोरदोलोई पुरस्कार प्रदान किए

उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने गुवाहाटी में एक विशेष कार्यक्रम में राष्ट्रीय अखण्डता और राष्ट्रीय योगदान के लिए असम सरकार के द्विवार्षिक लोकप्रिय गोपीनाथ बोरदोलोई पुरस्कार प्रदान किया। यह पुरस्कार कस्तूरबा गांधी राष्ट्रीय स्मारक न्यास, जर्मनी में रह रहे असम भाषा के साहित्यकार डॉक्टर निरोद कुमार बरुआ और श्रीमंत शंकरदेव कलाक्षेत्र में शिलांग गायक मण्डली को प्रदान किया गया है। प्रत्येक को पांच लाख रुपये, प्रशस्ति पत्र और अंगवस्त्र प्रदान किया गया। समारोह के दौरान स्वतंत्रता सेनानी और असम के पहले मुख्यमंत्री लोकप्रिय गोपीनाथ बोरदोलोई को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए उपराष्ट्रपति ने कहा कि वह आधुनिक भारत के निर्माताओं में से एक थे। गौरतलब है कि गोपीनाथ बोरदोलोई का जन्म 06 जून, 1890 को असम के ‘राहा’ कस्बे में हुआ था। उन्होंने स्कॉटिश चर्च कॉलेज, कलकत्ता और कलकत्ता विश्वविद्यालय से कानून की पढ़ाई की तथा इसके पश्चात् वे अपनी प्रैक्टिस के लिये गुवाहाटी चले आए। वर्ष 1936 में गोपीनाथ बोरदोलोई असम विधानसभा में विपक्ष के नेता चुने गए। दो वर्ष बाद वर्ष 1938 में वे असम के ‘प्रीमियर’ (मुख्यमंत्री) बने। हालाँकि द्वितीय विश्व युद्ध के पश्चात्, उन्होंने अपने मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया। उन्होंने असहयोग आंदोलन में सक्रिय रूप से हिस्सा लिया और वर्ष 1922 में वे जेल भी गए। स्वतंत्रता के बाद वे असम के पहले मुख्यमंत्री बने तथा उन्होंने प्रगतिशील औद्योगिक एवं शैक्षिक नीतियों को लागू किया, साथ ही गुवाहाटी विश्वविद्यालय सहित कई विश्वविद्यालयों की स्थापना की।

कामधेनु दीपावली 2021 अभियान शुरू

एक अरब से अधिक गाय के गोबर से बने दीपक और लक्ष्मी-गणेश मूर्तियों के निर्माण और विपणन के लिए कामधेनु दीपावली 2021 अभियान शुरू किया गया है। राष्ट्रीय कामधेनु आयोग के पूर्व अध्यक्ष डॉ वल्लभभाई कथीरिया ने अपने दल के साथ कामधेनु दीपावली का शुभारंभ करते हुए एक राष्ट्रीय वेबिनार का आयोजन किया। इस अवसर पर मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी मंत्री पुरुषोत्तम रूपाला ने देश भर में गाय कल्याण और गाय पालन संबंधित गतिविधियों के लिए डॉ कथीरिया और उनकी टीम की पहल की सराहना की।

गोवा फुटबॉल क्लब ने पहली बार डूरंड कप फुटबॉल टूर्नामेंट का खिताब जीत लिया

गोवा फुटबॉल क्लब ने पहली बार डूरंड कप फुटबॉल टूर्नामेंट का खिताब जीत लिया है। कोलकाता में फाइनल में गोवा फुटबॉल क्लब ने अतिरिक्त समय में मोहम्मडन स्पोर्टिंग को एक-शून्य से हराया। विजेता टीम के लिए कप्तान एडुआर्डो बेडिया ने 105वें मिनट में गोल दागा।

उपराष्‍ट्रपति और प्रधानमंत्री ने श्‍यामजी कृष्‍ण वर्मा की जयंती पर उन्‍हें भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की

उपराष्‍ट्रपति एम वेंकैया नायडु ने श्‍यामजी कृष्‍ण वर्मा की जयंती पर उन्‍हें भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की। एक ट्वीट में श्री नायडु ने उन्‍हें महान देशभक्‍त बताते हुए कहा कि लंदन में भारतीय राष्‍ट्रवादी क्रांति में उनका महत्‍वपूर्ण योगदान रहा। उपराष्‍ट्रपति ने कहा कि उनके विचार और जीवन संघर्ष लगातार लोगों को प्रेरित करते रहेंगे। प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने क्रान्तिकारी और स्‍वतंत्रता सेनानी श्‍यामजी कृष्‍ण वर्मा की जयन्‍ती पर उन्‍हें श्रद्धांजलि दी है। एक ट्वीट संदेश में श्री मोदी ने कहा कि श्‍यामजी कृष्‍ण वर्मा ने देश को औपनिवेशिक दासता से मुक्‍त कराने में अपना जीवन समर्पित कर दिया।

श्री भूपेंद्र यादव ने ‘वेटलैंड्स ऑफ इंडिया’ पोर्टल लॉन्च किया

गांधी जयंती के अवसर पर पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय के आजादी का अमृत महोत्सव के प्रतिष्ठित सप्ताह (4-10 अक्टूबर, 2021) की घोषणा करते हुए केन्‍द्रीय पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्री श्री भूपेंद्र यादव ने एक वेब पोर्टल 'वेटलैंड्स ऑफ इंडिया पोर्टल' (http://indianwetlands.in/) लॉन्‍च किया है जिसमें देश के वेटलैंड्स के बारे में पूरी जानकारी दी गई है। इस पोर्टल पर वेटलैंड्स से संबंधित सभी जानकारी उपलब्ध है। यह पोर्टल सूचना प्रोसेसिंग करने और हितधारकों को ये जानकारी एक कुशल और सुलभ तरीके से उपलब्ध बनाने के लिए एक गतिशील प्रणाली है। यह पोर्टल छात्रों के लिए क्षमता निर्माण सामग्री, डेटा भंडार, वीडियो और जानकारी भी उपलब्‍ध कराता है। यह भी महत्‍वपूर्ण है कि इस पोर्टल पर पहुंच के लिए प्रत्येक राज्य और केन्‍द्र शासित प्रदेश के लिए एक डैशबोर्ड भी विकसित किया गया है और ताकि वे अपने प्रशासन में स्थित वेटलैंड्स की जानकारी अपलोड करा सकें। यह पोर्टल विभिन्न राज्यों और केन्‍द्र शासित प्रदेशों द्वारा इस्तेमाल किया जाएगा और आने वाले महीनों में इस पर अतिरिक्त विशेषताएं भी जोड़ी जाएंगी।

भारतीय जनजातीय कला और शिल्प को कनाडा में बढ़ावा दिया जाएगा

गांधी जयंती के अवसर को यादगार बनाने के लिए कनाडा के ओटावा में भारतीय उच्चायोग में एक 'आत्मनिर्भर भारत' कॉर्नर का उद्घाटन किया गया। भारत से उत्तम जीआई-टैग वाली जनजातीय कला और शिल्प उत्पादों को प्रदर्शित करने के लिए ट्राइफेड द्वारा प्रोत्साहित आत्मनिर्भर कॉर्नर की शुरुआत कनाडा में भारत के उच्चायुक्त श्री अजय बिसारिया ने की। इस कॉर्नर में आदिवासी हस्तशिल्प एवं उत्पादों के नमूने प्रदर्शित किये जाते हैं और उत्पादों की सूची तथा साहित्य के साथ-साथ कनाडा में ऐसे उत्पादों की व्यावसायिक खरीद और वितरण के बारे में जानकारी प्रदान की जाती है। यह पहल भारत के आदिवासी कारीगरों को कनाडा के बाजार से जोड़ने में मदद करेगी।

एयर मार्शल संदीप सिंह एवीएसएम वीएम ने वायुसेना उप प्रमुख का पदभार संभाला

एयर मार्शल संदीप सिंह एवीएसएम वीएम ने 1 अक्टूबर 2021 को वायुसेना के उप प्रमुख (वीसीएएस) के रूप में पदभार ग्रहण किया। वह राष्ट्रीय रक्षा अकादमी के पूर्व छात्र हैं, एयर मार्शल को दिसंबर 1983 में एक लड़ाकू पायलट के रूप में भारतीय वायुसेना की फ्लाइंग ब्रांच में कमीशन प्रदान किया गया था। वायु अधिकारी एक एक्सपेरिमेंटल टेस्ट पायलट और एक क्वालिफाइड फ्लाइंग इंस्ट्रक्टर हैं। उनके पास विभिन्न प्रकार के लड़ाकू विमानों पर अभियानगत और प्रायोगिक परीक्षण उड़ान का समृद्ध और विविध अनुभव है और उन्होंने लगभग 4400 घंटे की उड़ान भरी है।

वाइस एडमिरल अधीर अरोरा, एनएम ने भारत सरकार के मुख्य हाइड्रोग्राफर के रूप में कार्यभार संभाला

वाइस एडमिरल अधीर अरोरा, नौसेना मेडल ने 30 सितंबर 2021 को सेवानिवृत्त हुए वाइस एडमिरल विनय बधवार, एवीएसएम, नौसेना मेडल से भारत सरकार के मुख्य हाइड्रोग्राफर के रूप में कार्यभार संभाला है। वाइस एडमिरल अधीर अरोरा को 1985 में भारतीय नौसेना की कार्यकारी शाखा में कमीशन प्रदान किया गया था। एक विशेषज्ञ हाइड्रोग्राफर के रूप में उन्होंने भारत और हिंद महासागर क्षेत्र (आईओआर) के भीतर और समूचे भाग में हाइड्रोग्राफिक सर्वेक्षण किए हैं।

श्री राजीव बंसल ने नागरिक उड्डयन मंत्रालय के सचिव के रूप में कार्यभार संभाला

श्री राजीव बंसल आईएएस (नगालैंड कैडर 88) ने भारत सरकार के नागरिक उड्डयन मंत्रालय के सचिव का कार्यभार ग्रहण किया है। श्री बंसल को श्री प्रदीप सिंह खरोला, आईएएस (केएन:85) के 30 सितंबर, 2021 को सेवानिवृत्त होने के परिणामस्वरूप यह कार्यभार मिला है। श्री बंसल नगालैंड कैडर के 1988 बैच के भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी हैं।

51 रिजर्व में शुरू की गयी टाइगर रैलियां

2 अक्टूबर, 2021 को केंद्रीय पर्यावरण मंत्री भूपेंद्र यादव ने भारत में 18 बाघ रेंज राज्यों में बाघ रैलियों की शुरुआत की। “वन्यजीव सप्ताह समारोह” और “आजादी का अमृत महोत्सव” के एक भाग के रूप में 51 रिजर्व में टाइगर रैलियां शुरू की गईं। सात दिनों में, 2 अक्टूबर से 8 अक्टूबर तक, ये रैलियां लगभग 7,500 किमी की दूरी तय करेंगी। यह रैलियां देश भर के विविध और सुरम्य परिदृश्यों का भ्रमण करेंगी। तीन बाघ अभयारण्यों में इन रैलियों को वर्चुअली शुरू किया गया :

  1. बिलिगिरी रंगनाथस्वामी मंदिर टाइगर रिजर्व, कर्नाटक
  2. नवेगांव नागजीरा टाइगर रिजर्व, महाराष्ट्र
  3. संजय टाइगर रिजर्व, मध्य प्रदेश
इस अवसर पर, मंत्री ने वन और वन्यजीव क्षेत्रों में स्थायी पारिस्थितिकी-पर्यटन पर दिशानिर्देश भी जारी किए। गंगा और सिंधु नदी डॉल्फ़िन, जलीय जीवों और आवास सहित नगर वन की निगरानी के लिए फील्ड गाइड पर दिशानिर्देश जारी किए गए। रैलियों की शुरुआत “India for Tigers- A Rally on Wheels” थीम के साथ की गई थी। यह रैली 18 टाइगर रेंज राज्यों के 51 बाघ अभयारण्यों की यात्रा करेगी। उत्सव का केंद्र बिंदु पहले 9 बाघ अभयारण्य हैं जिन्हें 1973 में प्रोजेक्ट टाइगर के शुभारंभ के दौरान नामित किया गया था।

एशियाई टेबल टेनिस चैंपियनशिप में भारत ने जीता कांस्य

भारतीय पुरुष टेबल टेनिस टीम ने 1 अक्टूबर, 2021 को एशियाई टेबल टेनिस चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीता है। भारतीय टीम ने सेमीफाइनल में दक्षिण कोरिया से 0-3 से हारकर कांस्य पदक जीता। टीम ने 29 सितंबर को क्वार्टर फाइनल में ईरान को 3-1 से हराया था। दोनों सेमीफाइनलिस्ट ने कांस्य पदक जीता। यह एक द्विवार्षिक टेबल टेनिस टूर्नामेंट है और इसे अंतर्राष्ट्रीय टेबल टेनिस महासंघ (ITTF) द्वारा महाद्वीपीय चैंपियनशिप के रूप में माना जाता है। यह टूर्नामेंट 1952 से 1972 तक टेबल टेनिस फेडरेशन ऑफ एशिया (TTFA) द्वारा आयोजित किया गया था। ITTF सभी राष्ट्रीय टेबल टेनिस संघों का शासी निकाय है। यह नियमों और विनियमों को देखता है और टेबल टेनिस के लिए तकनीकी सुधार लाने का प्रयास करता है। यह टूर्नामेंट 1926 से आयोजित किया जा रहा है। 1957 से, यह द्विवार्षिक रूप से आयोजित किया जाता है। इस टूर्नामेंट के तहत, पुरुष एकल, महिला एकल, महिला युगल, पुरुष युगल और मिश्रित युगल सहित पांच व्यक्तिगत स्पर्धाएं आयोजित की जाती हैं।

IMF ने क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) पर रिपोर्ट जारी की

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) ने “Global Financial Stability Report” नामक अपनी रिपोर्ट जारी की है, जिसमें बताया गया है कि डिजिटल मुद्रा संपत्ति कैसे वित्तीय स्थिरता चुनौती पेश करती है। अपनी रिपोर्ट में, IMF ने कहा है कि तेजी से बढ़ता क्रिप्टो पारिस्थितिकी तंत्र दुनिया के लिए नए अवसर प्रस्तुत करता है। हालाँकि, यह डिजिटल मुद्रा संपत्ति कई वित्तीय स्थिरता चुनौतियाँ भी पेश करती है। इस रिपोर्ट के अनुसार, तकनीकी नवाचार भुगतान और अन्य वित्तीय सेवाओं को तेज, सस्ता, अधिक सुलभ बनाने का एक नया युग शुरू कर रहा है। अपनी रिपोर्ट में, IMF ने इस बात पर प्रकाश डाला कि, क्रिप्टो परिसंपत्ति प्रौद्योगिकियां तेजी से और सस्ते सीमा पार भुगतान के लिए एक संभावित उपकरण हैं। इन तकनीकों का उपयोग करके, बैंक जमा को एक स्थिर सिक्के में परिवर्तित किया जा सकता है, जिससे डिजिटल प्लेटफॉर्म से वित्तीय उत्पादों तक त्वरित पहुंच की अनुमति मिलती है। यह तत्काल मुद्रा रूपांतरण की भी अनुमति देता है। IMF के अनुसार, विकेंद्रीकृत वित्त अधिक समावेशी नवीन और पारदर्शी वित्तीय सेवाओं के लिए एक मंच बन सकता है। IMF के अनुसार, तेजी से विकास और क्रिप्टो परिसंपत्तियों की बढ़ती लोकप्रियता से वित्तीय स्थिरता चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। ऐसी विकेन्द्रीकृत मुद्राएं अस्थिरता पैदा कर सकती हैं क्योंकि वे अत्यंत अस्थिर हैं। वे इक्विटी या कमोडिटी या विनिमय दरों की तुलना में बहुत अधिक अस्थिर हैं। डिजिटल मुद्रा की तुलना में इसकी लेनदेन लागत काफी महंगी है। इस रिपोर्ट के अनुसार, इस तरह के लेनदेन से पूंजी प्रवाह अस्थिर हो जाता है। यह क्रिप्टो संपत्ति के प्रावधान से कई परिचालन और वित्तीय अखंडता जोखिम भी पैदा करता है।

दुबई एक्सपो 2020 में लॉन्च किया गया भारत का पवेलियन

केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने 1 अक्टूबर, 2021 को दुबई एक्सपो 2020 में भारत के पवेलियन का उद्घाटन किया। इस एक्सपो में, भारत ने प्रतिभागियों की सबसे बड़ी संख्या को तैनात किया है। इसमें एक अत्याधुनिक 8,750 वर्ग मीटर का पवेलियन है। दुबई एक्सपो में भारतीय पवेलियन की कल्पना एक हाई-टेक संरचना के रूप में की गई है। यह प्राचीन भारत के साथ-साथ भविष्य के भारत का सभ्यतागत संगम है। यह एक विशाल चार मंजिला संरचना है जिसे योग, साहित्य, आयुर्वेद, विरासत, कला, व्यंजन और अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी सहित भारत में लोकप्रिय निर्यात के साथ लोगों को आकर्षित करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। इस पवेलियन को ‘इंडिया ऑन द मूव’ और ‘इंडिया द डायवर्सिटी’ की व्यापक थीम के तहत स्थापित किया गया है। पवेलियन के दोनों किनारों पर महात्मा गांधी का चेहरा शामिल है। इस पवेलियन में क्षेत्रों की पहचान 11 प्राथमिक विषयों के आधार पर की जाती है, अर्थात् जलवायु और जैव विविधता; शहरी और ग्रामीण विकास; स्थान; सहिष्णुता और समावेशिता; ज्ञान और सीखना; स्वर्ण जयंती; यात्रा और कनेक्टिविटी; स्वास्थ्य और कल्याण; वैश्विक लक्ष्य; खाद्य कृषि और आजीविका और जल।

IFSCA ने सतत वित्त पर विशेषज्ञ समिति की स्थापना की

अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय सेवा केंद्र प्राधिकरण (International Financial Services Centres Authority – IFSCA) ने सतत वित्त हब (Sustainable Finance Hub) के विकास की दिशा में दृष्टिकोण की सिफारिश करने के लिए एक विशेषज्ञ समिति का गठन किया है। इस विशेषज्ञ समिति की अध्यक्षता “पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय” के पूर्व सचिव सी.के. मिश्रा कर रहे हैं। कुल मिलाकर, इस समिति में 10 सदस्य हैं, जो एक सतत वित्तीय केंद्र विकसित करने के तरीकों की सिफारिश करेंगे। इस समिति में स्थायी वित्त क्षेत्र के नेता शामिल हैं, जिनमें अंतर्राष्ट्रीय एजेंसियां, फंड, शिक्षा, मानक निर्धारक निकाय शामिल हैं। IFSC GIFT-City को स्थायी वित्त के लिए एक वैश्विक केंद्र और भारत में विदेशी पूंजी को चैनलाइज़ करने के लिए एक प्रवेश द्वार के रूप में कल्पना करता है। इस समिति का गठन इसलिए किया गया था क्योंकि जलवायु परिवर्तन के अनुकूलन और इसके शमन के लिए वित्तीय संसाधन जुटाने के लिए अंतर्राष्ट्रीय निवेशकों की सक्रिय भागीदारी की आवश्यकता है। यह समिति आवश्यक पारिस्थितिकी तंत्र को विकसित करने में मदद करेगी।

‘SACRED’ पोर्टल को चालू किया गया

सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय ने 1 अक्टूबर, 2021 को अंतर्राष्ट्रीय वृद्धजन दिवस के अवसर पर “SACRED पोर्टल” को चालू किया। भारत में वरिष्ठ नागरिकों को रोजगार के अवसर तलाशने के लिए एक मंच प्रदान करने के लिए यह पोर्टल विकसित किया गया है। यह पोर्टल सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय द्वारा विकसित किया गया है। SACRED का अर्थ है “Senior Able Citizens for Re-Employment in Dignity”। इस पोर्टल को यह सुनिश्चित करने के तरीके खोजने के उद्देश्य से विकसित किया गया है कि वरिष्ठ नागरिक एक सुखी, स्वस्थ, सम्मानजनक, सशक्त और आत्मनिर्भर जीवन जी सकें। 60 वर्ष और उससे अधिक आयु के नागरिक इस पोर्टल पर पंजीकरण कर सकते हैं और नौकरी और काम के अवसर पा सकते हैं। प्लेटफॉर्म के विकास के लिए 10 करोड़ रुपये प्रदान किए गए। इसके अलावा, रखरखाव अनुदान के लिए 5 साल की अवधि में प्रति वर्ष 2 करोड़ रुपये प्रदान किए जाएंगे।

अखिल भारतीय आयुर्वेद संस्थान ने “बाल रक्षा किट” विकसित

आयुष मंत्रालय के तहत अखिल भारतीय आयुर्वेद संस्थान (AIIA) ने “बाल रक्षा किट” विकसित किया है जो एक प्रतिरक्षा बढ़ाने वाली किट है। इस किट को कोरोनावायरस बीमारी की तीसरी लहर को ध्यान में रखते हुए विकसित किया गया है। यह एक प्रतिरक्षा को बढ़ावा देने वाली किट है, जो 16 साल की उम्र तक के बच्चों को कोविड-19 संक्रमण से तब तक बचाने के लिए है। 2 नवम्बर 2021 को राष्ट्रीय आयुर्वेद दिवस के अवसर पर लगभग 10,000 किट निःशुल्क वितरित की जाएँगी। इस किट को बच्चों की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के उद्देश्य से विकसित किया गया है ताकि उन्हें SARS-CoV-2 वायरस से लड़ने में मदद मिल सके, जो कोविड -19 बीमारी का कारण बनता है। यह किट इसलिए महत्वपूर्ण है क्योंकि भारत में अभी तक बच्चों के लिए कोई भी कोविड-19 वैक्सीन उपलब्ध नहीं है। बाल रक्षा किट में तुलसी, गिलोय, मुलेठी, दालचीनी और सूखे अंगूर से बना एक सिरप होता है, जिसमें अद्भुत औषधीय गुण होते हैं। इस किट में अन्नू तेल, सितोपलादि और च्यवनप्राश भी शामिल हैं। ये उत्पाद प्रतिरक्षा स्तर को बढ़ाने में मदद करते हैं। इस किट को आयुष मंत्रालय के सख्त दिशानिर्देशों के तहत विकसित किया गया है, जबकि इसका निर्माण उत्तराखंड में इंडियन मेडिसिन फार्मास्युटिकल कॉर्पोरेशन लिमिटेड (IMPCL) द्वारा किया गया था।

AUSINDEX: भारत-ऑस्ट्रेलिया द्विवार्षिक समुद्री अभ्यास

भारत और ऑस्ट्रेलिया ने 30 सितंबर, 2021 को ‘AUSINDEX’ नामक द्विवार्षिक समुद्री श्रृंखला में भाग लिया। यह अभ्यास रॉयल ऑस्ट्रेलियाई नौसेना और भारतीय नौसेना को सर्वोत्तम प्रथाओं को साझा करके अपनी “अंतर-संचालन क्षमता” को मजबूत करने में उपयोगी सिद्ध होगा। यह ‘समुद्री सुरक्षा संचालन के लिए प्रक्रियाओं की सामान्य समझ’ विकसित करने में भी मदद करेगा। AUSINDEX समुद्री अभ्यास वैकल्पिक रूप से भारत और ऑस्ट्रेलिया में आयोजित किया जाता है। यह चौथा संस्करण उत्तरी ऑस्ट्रेलिया में आयोजित किया जा रहा है। यह अभ्यास दोनों देशों के बीच 2020 की व्यापक रणनीतिक साझेदारी से जुड़ा है। भारतीय और ऑस्ट्रेलियाई नौसेना ने 2015 में AUSUNDEX नामक द्विपक्षीय समुद्री अभ्यास का आयोजन शुरू किया। वर्षों से, ‘AUSINDEX’ अभ्यास जटिलता में बढ़ गया है। इसका तीसरा संस्करण 2015 में बंगाल की खाड़ी में आयोजित किया गया था। पहली बार बंगाल की खाड़ी में आयोजित अभ्यास में पनडुब्बी रोधी अभ्यास भी शामिल था।

2 अक्टूबर : लाल बहादुर शास्त्री जयंती

2 अक्टूबर को लाल बहादुर शास्त्री जयंती मनाई गई। लाल बहादुर शास्त्री का जन्म 2 अक्टूबर, 1904 को हुआ था और 11 जनवरी, 1966 को उनका निधन हो गया। वे स्वतंत्र भारत के तीसरे प्रधानमंत्री थे। लाल बहादुर का जन्म वर्ष 1904 में मुगलसराय, उत्तर प्रदेश में लाल बहादुर श्रीवास्तव के रूप में हुआ था। उनके पिता शारदा प्रसाद एक स्कूल शिक्षक थे। 1915 में वाराणसी में महात्मा गांधी का एक भाषण सुनने के बाद, उन्होंने अपना जीवन देश की सेवा में समर्पित कर दिया। उन्होंने अपना उपनाम भी छोड़ दिया, क्योंकि इससे उनकी जाति का संकेत मिलता था और वे जाति व्यवस्था के खिलाफ थे। 1921 में महात्मा गांधी के असहयोग आंदोलन के दौरान, उन्होंने प्रतिबंधात्मक आदेश के खिलाफ एक साहसिक कदम उठाते हुए जुलूस में शामिल हुए। 1926 में काशी विद्यापीठ में अपना पाठ्यक्रम पूरा करने पर, उन्हें शास्त्री (“विद्वान”) की उपाधि दी गई। यह शीर्षक विद्या पीठ द्वारा प्रदान की गई एक स्नातक उपाधि थी, लेकिन यह उनके नाम के हिस्से के रूप में बनी रही। वह अपनी मृत्यु के बाद भारत रत्न से सम्मानित होने वाले पहले व्यक्ति थे, और दिल्ली में उनके लिए एक स्मारक “विजय घाट” बनाया गया था।

डिजी सक्षम कार्यक्रम लांच किया गया

केंद्रीय श्रम एवं रोजगार मंत्री भूपेंद्र यादव ने 30 सितंबर, 2021 को डिजी सक्षम कार्यक्रम लांच किया। यह डिजिटल कौशल कार्यक्रम युवाओं के डिजिटल कौशल में सुधार करके उनकी रोजगार क्षमता को बढ़ाने के उद्देश्य से शुरू किया गया है। डिजी सक्षम माइक्रोसॉफ्ट इंडिया और श्रम एवं रोजगार मंत्रालय की संयुक्त पहल है। यह ग्रामीण और अर्ध-शहरी क्षेत्रों के युवाओं को समर्थन देने के सरकार के चल रहे कार्यक्रमों का विस्तार है। यह कार्यक्रम “Aga Khan Rural Support Programme India (AKRSP-I)” द्वारा क्षेत्र में लागू किया जाएगा। डिजी सक्षम पहल के तहत पहले वर्ष में 3 लाख से अधिक युवाओं को बुनियादी कौशल और एडवांस कंप्यूटिंग सहित डिजिटल कौशल में मुफ्त प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा। इस प्रशिक्षण कार्यक्रम को राष्ट्रीय करियर सेवा (NCS) पोर्टल के माध्यम से एक्सेस किया जा सकता है। यह पहल अर्ध शहरी क्षेत्रों के नौकरी चाहने वालों को प्राथमिकता देती है जो वंचित समुदायों के साथ-साथ कोविड-19 महामारी के बीच अपनी नौकरी खो चुके हैं।

NTPC-REL ने राजस्थान और गुजरात में सौर परियोजनाओं की स्थापना हेतु ग्रीन टर्म लोन समझौते पर हस्ताक्षर किये

हाल ही में एनटीपीसी की सहायक कंपनी एनटीपीसी-रिन्यूएबल एनर्जी (NTPC-REL) ने राजस्थान और गुजरात में सौर परियोजनाओं की स्थापना हेतु अपने पहले ग्रीन टर्म लोन समझौते पर हस्ताक्षर किये हैं। NTPC-REL कच्छ में 4.75 गीगावाट का भारत का सबसे बड़ा एकल स्थानीय सौर ऊर्जा पार्क भी बना रहा है। NTPC अक्षय ऊर्जा स्रोतों की महत्त्वपूर्ण क्षमताओं के संयोजन से अपने हरित ऊर्जा पोर्टफोलियो के निर्माण के लिये विभिन्न कदम उठा रही है। ग्रीन लोन वित्तपोषण का एक रूप है जो व्यवसायों को उन परियोजनाओं को वित्तपोषित करने में सक्षम और सशक्त बनाने का प्रयास करता है जिनका एक विशिष्ट पर्यावरणीय प्रभाव होता है या जो 'हरित परियोजनाओं'(Green Projects) के वित्तपोषण के लिये निर्देशित होते हैं। यह कॉर्पोरेट मूल्य बढ़ाने में मदद करेगा। साथ ही यह प्रदर्शित करके कि वे ग्रीन लोन /हरित ऋण प्राप्त कर हरित परियोजनाओं को सक्रिय रूप से बढ़ावा दे रहे हैं, संभवतः उन्हें सार्वजनिक स्वीकृति मिल सकती है। यह कॉर्पोरेट सोशल रिस्पांसिबिलिटी लक्ष्यों को पूरा करने में भी मदद करेगा।

गूगल ने शिवाजी गणेशन की 93वीं जयंती पर डूडल के माध्यम से श्रद्धांजलि दी

1 अक्तूबर, 2021 को अमेरिकी सर्च इंजन गूगल ने दिवंगत अभिनेता शिवाजी गणेशन की 93वीं जयंती पर उन्हें डूडल के माध्यम से श्रद्धांजलि दी। दक्षिण भारतीय सिनेमा के प्रसिद्ध अभिनेता शिवाजी गणेशन का जन्म 1 अक्तूबर, 1928 को मद्रास प्रेसीडेंसी (वर्तमान तमिलनाडु) में विल्लुपुरम में हुआ था। मात्र सात वर्ष की आयु में उन्होंने एक थिएटर ग्रुप में शामिल होने के लिये अपना घर छोड़ दिया। दिसंबर 1945 में शिवाजी गणेशन ने ‘शिवाजी कांडा हिंदू राज्यम’ नामक एक नाटक में मराठा शासक शिवाजी का किरदार निभाया। शिवाजी गणेशन ने अपने फिल्मी कॅरियर की शुरुआत वर्ष 1952 की तमिल फिल्म ‘पराशक्ति’ से की थी। यद्यपि वह मुख्य रूप से तमिल सिनेमा में सक्रिय थे, किंतु गणेशन ने अपने संपूर्ण कॅरियर में 300 से अधिक फिल्मों में कार्य किया, जिनमें तेलुगू, कन्नड़, मलयालम और हिंदी जैसी भाषाओं की फिल्में भी शामिल हैं। लगभग पाँच दशक लंबे अपने कॅरियर में शिवाजी गणेशन ने कई पुरस्कार जीते। उन्हें ‘एफ्रो-एशियन फिल्म फेस्टिवल’ (काहिरा-मिस्र) में सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। गणेशन जिन्होंने राजनीति में भी सक्रिय रूप से कार्य किया, को ‘लॉस एंजिल्स टाइम्स’ ने “दक्षिण भारतीय फिल्म उद्योग के मार्लन ब्रैंडो" के रूप में वर्णित किया था। 21 जुलाई, 2001 को 72 वर्ष की आयु में उनका निधन हो गया था।

राइट लाइवलीहुड अवार्ड

दिल्ली स्थित पर्यावरण संगठन ‘लीगल इनिशिएटिव फॉर फॉरेस्ट एंड एन्वायरनमेंट’ (LIFE) को ‘संवेदनशील समुदायों की आजीविका की रक्षा करने और स्वच्छ पर्यावरण के अधिकार का दावा करने’ हेतु ‘राइट लाइवलीहुड अवार्ड-2021’ से सम्मानित किया गया है। ज्ञात हो कि इस पुरस्कार को स्वीडन के ‘वैकल्पिक नोबेल पुरस्कार’ के रूप में भी जाना जाता है। पुरस्कार प्राप्त करने वाले अन्य विजेताओं में कैमरून की महिला अधिकार कार्यकर्त्ता मार्थे वांडौ, रूसी पर्यावरण कार्यकर्त्ता ‘व्लादिमीर स्लिव्यक’ और कनाडा के स्वदेशी अधिकार रक्षक ‘फ्रेडा ह्यूसन’ शामिल हैं। ‘राइट लाइवलीहुड अवार्ड’ वैश्विक समस्याओं को हल करने वाले लोगों को प्रदान किया जाता है। इस पुरस्कार के तहत विजेताओं को 1 मिलियन स्वीडिश क्राउन ($115,000) और लॉरेट्स प्रदान किया जाता है।

वन्यजीव सप्ताह 2021 : 02 से 08 अक्टूबर

भारत के वनस्पतियों और जीवों की रक्षा और संरक्षण के उद्देश्य से 2 से 8 अक्टूबर के बीच पूरे भारत में प्रतिवर्ष राष्ट्रीय वन्यजीव सप्ताह (National Wildlife Week) मनाया जाता है। वन्यजीव सप्ताह 2021 2 अक्टूबर से 8 अक्टूबर तक मनाया जाता है। 2021 में हम 67वां वन्यजीव सप्ताह मना रहे हैं। इस वर्ष राष्ट्रीय वन्यजीव सप्ताह थीम 2021: "वन और आजीविका: लोगों और ग्रह को बनाए रखना (Forests and Livelihoods: Sustaining People and Planet)" है। भारतीय वन्यजीव बोर्ड का गठन किया गया था और भारत के वन्यजीवों की रक्षा के दीर्घकालिक लक्ष्यों के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए 1952 में वन्यजीव सप्ताह के विचार की अवधारणा की गई थी। प्रारंभ में, 1955 में वन्यजीव दिवस मनाया गया था जिसे बाद में 1957 में वन्यजीव सप्ताह के रूप में उन्नत किया गया था।

Start Quiz! PRINT PDF

« Previous Next Affairs »

Notes

Notes on many subjects with example and facts.

Notes

QUESTION

Find Question on this Topic and many other subjects

Learn More

Test Series

Here You can find previous year question paper and mock test for practice.

Test Series

Download

Here you can download Current Affairs Question PDF.

Download

Join

Join a family of Rajasthangyan on


Contact Us Contribute About Write Us Privacy Policy About Copyright

© 2021 RajasthanGyan All Rights Reserved.