Ask Question | login | Register
Notes
Question
Quiz
Tricks
Facts

11 March 2022

भारतीय रेल का पहला गति शक्ति कार्गो टर्मिनल पूर्वी रेलवे के आसनसोल मंडल में शुरू किया गया

'गति शक्ति मल्टी-मॉडल कार्गो टर्मिनल' (जीसीटी) के संबंध में प्रधानमंत्री के विजन "गति शक्ति" और रेल मंत्रालय की नीति के अनुरूप भारतीय रेल के आसनसोल मंडल (डिवीजन) ने थापरनगर में मैथन पावर लिमिटेड की निजी साइडिंग को सफलतापूर्वक शुरू कर दिया है। दिसंबर '2021 में जीसीटी नीति के सामने आने के बाद से यह भारतीय रेलवे में इस तरह का पहला जीसीटी है। मैथन विद्युत परियोजना वर्ष 2009 में शुरू की गई थी और 2011 में यहां विद्युत का उत्पादन शुरू किया गया था। अब तक इस विद्युत परियोजना के लिए कोयले की जरूरत सड़क के रास्ते पूरी की जा रही थी। लेकिन अब हर महीने 120 इनवार्ड (आने वाला) कोयला रैक से इसकी जरूरत पूरी की जाएगी। वहीं, फ्लाई ऐश के 2 से 4 आउटवार्ड (जाने वाला) रेकों को साइडिंग से भेजे जाने का अनुमान है। इससे रेलवे की कमाई में हर महीने लगभग 11 करोड़ रुपये की बढ़ोतरी होगी।

मिशन इंद्रधनुष में ओडिशा का पहला स्थान

मिशन इंद्रधनुष 4.0 के तहत कोविड-19 संक्रमण के खिलाफ सफल टीकाकरण के अलावा 90.5% टीकाकरण हासिल करने वाला ओडिशा देश का एकमात्र राज्य बन गया है। माताओं और बच्चों के लिये निवारक स्वास्थ्य देखभाल की दिशा में एक कदम के रूप में लक्षित महिलाओं और बच्चों के पूर्ण टीकाकरण कवरेज को बढ़ावा देने के लिये इसी वर्ष मार्च माह से ओडिशा में गहन मिशन इंद्रधनुष (IMI) 4.0 शुरू किया गया है। राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण-5 (NFHS) की रिपोर्ट के अनुसार, ओडिशा राष्ट्रीय स्तर पर पूर्ण टीकाकरण कवरेज में 90.5% पूर्ण टीकाकरण के साथ सूची में सबसे ऊपर है। राज्य के बीस ज़िले पूर्ण टीकाकरण में 90% से ऊपर थे और 10 ज़िले 90% से नीचे थे। आमतौर पर पूर्ण टीकाकरण में पोलियो, तपेदिक, पीलिया, डिप्थीरिया, काली खाँसी, टेटनस, एचआईवी, मस्तिष्क बुखार, निमोनिया, खसरा, रूबेला, दस्त, जापानी बुखार आदि सहित 12 विभिन्न प्रकार की बीमारियों के खिलाफ निवारक टीके शामिल होते हैं। भारत सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने 25 दिसंबर, 2014 को ‘मिशन इंद्रधनुष’ की शुरुआत की थी। मिशन इन्द्रधनुष एक बूस्टर टीकाकरण कार्यक्रम है जो कम टीकाकरण कवरेज वाले ज़िलों में शुरू किया गया था।

महिलाओं के स्वामित्व वाला पहला औद्योगिक पार्क

हाल ही में भारत के पहले 100 प्रतिशत महिलाओं के स्वामित्व वाले औद्योगिक पार्क का संचालन हैदराबाद में शुरू हुआ है। राज्य सरकार के साथ साझेदारी में फिक्की महिला संगठन (FLO) द्वारा शुरू किये गए इस पार्क में कुल 25 इकाइयाँ हैं, जो 16 विविध श्रेणी के उद्योगों का प्रतिनिधित्व करती हैं और सभी का स्वामित्व महिलाओं के पास एवं उनके द्वारा संचालित हैं। फिक्की महिला संगठन द्वारा स्थापित यह औद्योगिक पार्क देश में अपनी तरह का पहला पार्क है, जिसे 250 करोड़ रुपए के निवेश के साथ पाटनचेरु के पास सुल्तानपुर में 50 एकड़ क्षेत्र में स्थापित किया गया है। इस पार्क के तहत महिला उद्यमियों को अतिरिक्त 10 प्रतिशत सब्सिडी देने का भी आश्वासन दिया गया है।

दक्षिण कोरिया में यून सुक योल देश के नए राष्‍ट्रपति चुने गए

दक्षिण कोरिया में विपक्ष के उम्‍मीदवार और पूर्व शीर्ष अधिवक्‍ता यून सुक योल देश के नए राष्‍ट्रपति चुने गए हैं। यून सुक योल ने राष्‍ट्रपति चुनावों में कांटे के मुकाबले में सत्‍ताधारी उदारवादी पार्टी के प्रतिद्वंदी ली जे मायुंग को हराया। दक्षिण कोरिया में राष्‍ट्रपति पद के लिए अब तक हुए चुनावों का ये सबसे कड़ा मुकाबला था। 99 प्रतिशत से अधिक हुई मतगणना के बाद पीपल पावर पार्टी के उम्‍मीदवार यून के पक्ष में 48 दशमलव छह प्रतिशत मतदान हुआ जबकि इनके प्रतिद्वंदी डेमोक्रेटिक पार्टी के ली जे मायुंग को यून से थोड़े ही कम 47 दशमलव आठ प्रतिशत मत प्राप्‍त हुए। यून सुक योल मई में अपना कार्यभार संभालेंगे और विश्‍व की 10वीं सबसे बड़ी अर्थव्‍यवस्‍था वाले देश में पांच वर्ष तक राष्‍ट्रपति पद पर कार्यरत रहेंगे।

भारत और विश्व बैंक ने पश्चिम बंगाल में सामाजिक सुरक्षा सेवाओं तक पहुंचने में सहायता करने के लिए 125 मिलियन अमेरिकी डॉलर के ऋण पर हस्ताक्षर किए

भारत सरकार, पश्चिम बंगाल सरकार और विश्व बैंक ने पश्चिम बंगाल के गरीब एवं कमजोर समूहों को सामाजिक सुरक्षा सेवाओं तक पहुंचने में मदद करने के प्रयासों का समर्थन करने के लिए 125 मिलियन अमेरिकी डॉलर के आईबीआरडी ऋण पर हस्ताक्षर किए। पश्चिम बंगाल में सामाजिक सहायता, देखभाल सेवाएं और रोजगार प्रदान करने वाले 400 से अधिक कार्यक्रम चलाए जाते हैं। इनमें से अधिकांश सेवाएं जय बांग्ला नाम के एक समग्र मंच के जरिए पेश की जाती हैं। पश्चिम बंगाल बिल्डिंग स्टेट कैपेबिलिटी फॉर इन्क्लूसिव सोशल प्रोटेक्शन प्रोजेक्ट राज्य स्तर पर, विशेष रूप से महिलाओं, आदिवासी और अनुसूचित जाति के परिवारों और बुजुर्गों जैसे कमजोर समूहों के साथ-साथ राज्य के आपदा-प्रवण तटवर्ती क्षेत्रों के परिवारों पर ध्यान केंद्रित करते हुए, इन उपायोंको समर्थन प्रदान करेगी।

तमिलनाडु में तैरते हुए सौर उर्जा सयंत्र की स्थापना की गई

तमिलनाडु के थूथुकुडी में एक फ्लोटिंग सोलर प्रोजेक्ट की स्थापना 150.4 करोड़ रुपये की अनुमानित लागत से प्रमुख उर्वरक निर्माता सदर्न पेट्रोकेमिकल इंडस्ट्रीज कॉर्पोरेशन लिमिटेड (SPIC) द्वारा की गई है। इस यूनिट का उद्घाटन मुख्यमंत्री एमके स्टालिन ने किया था और दावा किया जाता है कि यह तमिलनाडु में भारत का सबसे बड़ा और पहला फ्लोटिंग पावर प्लांट है। यह प्लांट सालाना 42.0 मिलियन यूनिट बिजली पैदा कर सकता है। SPIC भारत में स्थित एक पेट्रोकेमिकल्स फर्म है और इसका मुख्यालय चेन्नई में है। इस कंपनी की स्थापना 18 दिसंबर, 1969 को हुई थी और यह 1975 में एम.ए. चिदंबरम समूह और TIDCO के बीच एक संयुक्त उद्यम बन गई।

कर्नाटक सरकार ने Women@Work Programme लांच

कर्नाटक सरकार के उच्च शिक्षा, इलेक्ट्रॉनिक्स और कौशल विकास मंत्री डॉ. सी.एन. अश्वथ नारायण ने Women@Work (W@W)Programme लांच किया है। यह कार्यक्रम 8 मार्च को महिला दिवस के अवसर पर शुरू किया गया था और इसके तहत कॉर्पोरेट कार्यक्रमों पर ध्यान दिया जाएगा जो महिला कर्मचारियों को आकर्षित करने में सहायक होंगे। जिन महिलाओं को विशेष कौशल में प्रशिक्षित किया जाएगा, वे अगले पांच वर्षों में रोजगार के योग्य हो जाएंगी। यह देश के सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि में योगदान करने में एक लंबा रास्ता तय करेगा। कर्नाटक डिजिटल इकोनॉमी मिशन के तहत महिलाओं को 5,000 नौकरियां देने का भी प्रयास किया जा रहा है। यह कार्यक्रम 2026 तक महिलाओं को आवश्यक रोजगार योग्य कौशल के साथ पांच लाख नौकरियां प्रदान करने के उद्देश्य से शुरू किया गया है। उद्योग अपस्किलिंग और रीस्किलिंग कार्यक्रमों, परामर्श और संस्थागत और संगठनात्मक नेटवर्किंग के माध्यम से, यह कार्यक्रम महिलाओं को सक्रिय रूप से भाग लेने और कार्यबल में शामिल होने के लिए सशक्त करेगा। वर्तमान में, कार्यबल में 35 प्रतिशत महिलाएं हैं और इस कार्यक्रम के तहत उनके कार्यबल की संख्या को बढ़ाकर 50 प्रतिशत किया जाएगा।

कैबिनेट ने अतिरिक्त भूमि मुद्रीकरण के लिए राष्ट्रीय भूमि मुद्रीकरण निगम को एक विशेष उद्देश्य कंपनी (एसपीवी) के रूप में गठित करने की मंजूरी दी

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में केन्द्रीय कैबिनेट ने राष्ट्रीय भूमि मुद्रीकरण निगम (NLMC) को केन्द्र सरकार के पूर्ण स्वामित्व में गठित करने की मंजूरी दी है, जिसकी प्रारंभिक अधिकृत शेयर पूंजी 5000 करोड़ रुपये और चुकता शेयर पूंजी 150 करोड़ रुपये होगी। एनएलएमसी केन्द्रीय सार्वजनिक क्षेत्र उद्यमों (सीपीएसई) के स्वामित्व की अतिरिक्त भूमि और भवनों का मुद्रीकरण करेगी। यह प्रस्ताव बजट 2021-22 की घोषणाओं के अनुरूप है। गैर-प्रमुख परिसंपत्तियों के मुद्रीकरण के माध्यम से उपयोग में नहीं या आंशिक उपयोग वाली परिसंपत्तियों का मुद्रीकरण करके सरकार राजस्व प्राप्त करेगी।

संयुक्त सैन्य अभ्यास 'धर्म गार्जियन-2022' बेलगाम (कर्नाटक) में संपन्न

भारतीय सेना और जापानी ग्राउंड सेल्फ डिफेंस फोर्स के बीच एक वार्षिक सैन्य अभ्यास 'धर्म गार्जियन-2022', जो 27 फरवरी 2022 को विदेशी प्रशिक्षण नोड, बेलगाम में शुरू हुआ था, 12 दिनों के गहन संयुक्त सैन्य प्रशिक्षण के बाद 10 मार्च 2022 को सफलतापूर्वक संपन्न हुआ। दोनों देशों के सशस्त्र बलों के बीच तालमेल स्‍थापित करने का एक अनूठा अवसर प्रदान वाला यह अभ्यास भारत-जापान मैत्री के कालातीत संबंधों को मजबूत करने की दिशा में केंद्रित है।

भारतीय मानक ब्यूरो ने भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान-आईआईटी रुड़की के साथ 'बीआईएस मानकीकरण चेयर प्रोफेसर' की स्थापना के लिए समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए

भारतीय मानक ब्यूरो (बीआईएस) ने भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान-आईआईटी रुड़की में 'बीआईएस मानकीकरण चेयर प्रोफेसर' की स्थापना के लिए 10 मार्च 2022 को आईआईटी रुड़की (आईआईटीआर) के साथ समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए हैं। मानकीकरण और अनुपालन मूल्यांकन पर गतिविधियों के लिए संस्थान में बीआईएस द्वारा स्थापित यह पहली मानकीकरण चेयर होगी। समझौता ज्ञापन देश में मानकीकरण और अनुपालन मूल्यांकन के क्षेत्र में अनुसंधान और विकास, शिक्षण और प्रशिक्षण की सुविधा प्रदान करेगा, जिसमें सिविल, विद्युत, यांत्रिक, रसायन, भूकंप इंजीनियरिंग, जल संसाधनों के विकास और प्रबंधन और नवीकरणीय ऊर्जा परियोजनाओं, बुनियादी ढांचा विकास, चिकित्सा जैव प्रौद्योगिकी और नैनो प्रौद्योगिकी, जैव प्रौद्योगिकी, जैव सामग्री, आदि के क्षेत्रों पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा। यह छात्रों को इस बारे में संवेदनशील बनाने में भी मदद करेगा कि कैसे मानक नवाचार को प्रोत्साहित और सुविधाजनक बना सकते हैं। इससे छात्रों को भविष्य की पेशेवर चुनौतियों के लिए बेहतर तरीके से तैयार करने में मदद करेंगे।

श्री नारायण राणे ने 'एमएसएमई इनोवेटिव स्कीम (इन्क्यूबेशन,डिजाइन और आईपीआर)' और एमएसएमई चैंपियंस स्कीम के तहत 'एमएसएमई आइडिया हैकथॉन 2022' का शुभारंभ किया

केंद्रीय सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम (एमएसएमई) मंत्री श्री नारायण राणे ने एमएसएमई आइडिया हैकथॉन 2022 के साथ एमएसएमई इनोवेटिव स्कीम (इनक्यूबेशन, डिजाइन और आईपीआर) का शुभारंभ किया। एमएसएमई इनोवेटिव एक उद्देश्य के साथ 3 सब-कंपोनेंट और कार्यों को एकीकृत करने, तालमेल बिठाने और कन्वर्ज करने के लिए एक समग्र दृष्टिकोण का नाम है। एमएसएमई इनोवेटिव एमएसएमई के लिए एक नई अवधारणा है जहां इन्क्यूबेशन में इनोवेशन, डिजाइन इंटरवेंशन और सिंगल मोड एप्रोच में इंटलैक्चुअल प्रॉपर्टी राइट्स (आईपीआर) की रक्षा के लिए काम किया जाएगा। भारत के इनोवेशन के बारे में एमएसएमई के बीच जागरूकता पैदा करने और उन्हें एमएसएमई चैंपियन बनने के लिए प्रेरित करने पर भी इसका जोर रहेगा।

वैज्ञानिकों ने यूरिया इलेक्ट्रोलिसिस द्वारा ऊर्जा कुशल हाइड्रोजन के उत्पादन को विकसित किया

भारतीय वैज्ञानिकों ने यूरिया के विद्युत अपघटन (इलेक्ट्रोलिसिस) की मदद से ऊर्जा कुशल हाइड्रोजन उत्पादन के लिए एक विद्युत उत्प्रेरक प्रणाली (इलेक्ट्रोकैटलिस्ट सिस्टम) को तैयार किया है। यूरिया इलेक्ट्रोलिसिस कम लागत वाले हाइड्रोजन उत्पादन के साथ यूरिया आधारित अपशिष्ट उपचार की दिशा में सहायक है। हमारे देश के लाभ के लिए ऊर्जा उत्पादन के लिए इसका उपयोग किया जा सकता है। यूरिया इलेक्ट्रोलिसिस द्वारा जल के विद्युत अपघटन (इलेक्ट्रोलिसिस) के माध्यम से होने वाले हाइड्रोजन के उत्पादन के लिए ऊर्जा की आवश्यकता को 70% तक कम किया जा सकता है।

श्री नितिन गडकरी ने हरियाणा और राजस्थान में 1407 करोड़ रुपये की 19 राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजनाओं का उद्घाटन किया

केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री श्री नितिन गडकरी ने हरियाणा और राजस्थान में 1407 करोड़ रुपये की 19 राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजनाओं का उद्घाटन किया। इन परियोजनाओं के निर्माण से राज्यों में रोजगार में वृद्धि के साथ-साथ पर्यटन, कृषि, उद्योग और व्यापार में प्रगति होगी। साथ ही समय और ईंधन की बचत होगी और प्रदूषण कम होगा। एंबिएंस मॉल के पास यू-टर्न बनने से दिल्ली-गुरुग्राम बॉर्डर पर जाम से राहत मिलेगी। दिल्ली-जयपुर हाईवे पर विभिन्न फ्लाई ओवरों के बनने से हाईवे पर लगने वाले जाम से राहत मिलेगी। एनएच-48 पर विभिन्न बड़े और छोटे पुलों के निर्माण से आसपास के इलाकों को जलजमाव से निजात मिलेगी और लोगों का आवागमन भी सुगम होगा। धारूहेड़ा-भिवाड़ी लिंक रोड बनने से धारूहेड़ा शहर को जाम से निजात मिलेगी। साथ ही इन परियोजनाओं से दिल्ली-जयपुर के बीच यात्रा दूरी कम हो जाएगी।

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद और ब्रिटेन के ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के बीच हस्ताक्षरित समझौता ज्ञापन को मंजूरी दी

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) और ब्रिटेन के ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के बीच हस्ताक्षरित समझौता ज्ञापन (एमओयू) को मंजूरी प्रदान कर दी । इसके तहत भारतीय वैज्ञानिकों व शोधकर्ताओं के लिए क्षमता निर्माण, डेटा का संग्रह, वेक्टर जनित रोगों एवं उभरते संक्रमणों पर विचार साझा करने, विकास, अनुसंधान कार्यक्रमों पर सहयोग के अवसरों का पता लगाने पर जोर दिया गया है।

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद और जर्मनी के डॉयशे फोर्सचुंग्सजेमइंशाफ्ट ई.वी. (डीएफजी) के बीच हस्ताक्षरित समझौता ज्ञापन को मंजूरी दी

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) और जर्मनी के डॉयशे फोर्सचुंग्सजेमइंशाफ्ट ई.वी. (डीएफजी) के बीच हस्ताक्षरित समझौता ज्ञापन को बुधवार को मंजूरी दे दी। इसके तहत दोनों संस्थाओं में विष विज्ञान, उपेक्षित (उष्णकटिबंधीय) रोग, असाधारण रोग और आपसी हित के अन्य क्षेत्रों सहित चिकित्सा विज्ञान/ स्वास्थ्य अनुसंधान के क्षेत्र में सहयोग किया जायेगा ।

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद, भारत और नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एलर्जी एंड इंफेक्शियस डिजीज, नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ ऑफ डिपार्टमेंट ऑफ हेल्थ एंड ह्यूमन सर्विसेज, अमेरिका के बीच हस्ताक्षरित समझौता ज्ञापन को मंजूरी दी

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल को भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) और नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एलर्जी एंड इंफेक्शियस डिजीज, नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ ऑफ डिपार्टमेंट ऑफ हेल्थ एंड ह्यूमन सर्विसेज, अमेरिका के बीच सितंबर 2021 में हस्ताक्षरित और भारत सरकार (व्यवसाय के लेन-देन) नियम 1961 की दूसरी अनुसूची के नियम 7 (डी) (i) के अनुसार समझौता ज्ञापन (एमओयू) से अवगत कराया गया। सहयोग मुख्य रूप से चेन्नई, भारत में आईसीएमआर के राष्ट्रीय क्षय रोग अनुसंधान संस्थान (एनआईआरटी) में वैज्ञानिक क्षेत्र में किया जाएगा, जिसमें बुनियादी, ट्रांसलेशनल और अनुप्रयुक्त नवीन अनुसंधान, महामारी विज्ञान, चिकित्सा, आणविक जीव विज्ञान, चिकित्सा कीट विज्ञान, परजीवी विज्ञान, प्रतिरक्षा विज्ञान, चिकित्सा, सूक्ष्म जीव विज्ञान और वायरोलॉजी शामिल हैं, लेकिन इन्हीं तक सीमित नहीं है, बल्कि, इसके तहत उष्णकटिबंधीय संक्रामक और एलर्जी रोगों की रोकथाम, निदान और उपचार के लिए तकनीकों पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा। सहयोग के केंद्र में तपेदिक, परजीवी संक्रमण, एचआईवी/एड्स, एलर्जी रोग, प्रतिरक्षा प्रणाली रोग, अन्य उभरते और फिर से उभरते रोगजनक, और अन्य रोग शामिल हैं।

ऑस्ट्रेलिया के सेना प्रमुख ने लोंगेवाला का दौरा किया, पोखरण स्थित समेकित फायर पावर प्रदर्शन का अवलोकन किया

ऑस्ट्रेलिया के सेना प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल रिचर्ड मैक्सवेल बर्र एओए डीएससीए एमवीओ वर्तमान में 08 मार्च 2022 से भारत की चार दिवसीय यात्रा पर हैं। ऑस्ट्रेलिया के सेना प्रमुख ने 10 मार्च, 2022 को राजस्थान में लोंगेवाला, पोखरण तथा जोधपुर का दौरा किया। लोंगेवाला पहुंचने पर ऑस्ट्रेलिया के सेना प्रमुख का डेजर्ट कॉप्र्स के जीओसी लेफ्टिनेंट जनरल राकेश कपूर ने स्वागत किया, जिसके बाद उन्होंने 1971 में हुए भारत-पाकिस्तान युद्ध में भारतीय सेना के शहीद हुए जवानों की याद में लोंगेवाला युद्ध स्मारक पर श्रद्धांजलि अर्पित की। लेफ्टिनेंट जनरल रिचर्ड मैक्सवेल बर्र ने पोखरण स्थित फील्ड फायरिंग रेंज का भी दौरा किया जहां उन्होंने आर्मर, आर्टिलरी, इंफैंट्री तथा उड्डयन परिसंपत्तियों से संबंधित संयुक्त हथियार चलाने से जुड़े अभ्यास में प्रचालनगत करतबों को निष्पादित करते स्वदेशी अस्त्र प्लेटफॉर्म के प्रदर्शन का अवलोकन किया।

संस्‍कृति राज्‍य मंत्री श्री अर्जुन राम मेघवाल ने साहित्‍य अकादमी के फेस्टिवल ऑफ लैटर्स, साहित्‍योत्‍सव का आज नई दिल्‍ली में उद्घाटन किया

भारत का संयुक्‍त साहित्य उत्सव, साहित्‍य अकादमी का फेस्टिवल ऑफ लैटर्स, साहित्‍योत्‍सव नई दिल्‍ली में शुरू हुआ। फेस्टिवल ऑफ लेटर्स 2022 भारत की आजादी की 75वीं वर्षगांठ के उपलक्ष्य में आयोजित समारोह के एक हिस्से के रूप में मनाया जा रहा है। महोत्सव की शुरुआत संस्कृति राज्य मंत्री श्री अर्जुन राम मेघवाल द्वारा अकादमी की प्रदर्शनी के उद्घाटन के साथ हुई। प्रदर्शनी में पिछले वर्ष आयोजित अकादमी की उपलब्धियों और महत्वपूर्ण कार्यक्रमों को प्रदर्शित किया जाएगा।

मवेशियों के ट्रेन से कुचलने की समस्या से निपटने के लिए भारतीय रेलवे का स्मार्ट इवेंट ट्रैकिंग सिस्टम

स्मार्ट इवेंट ट्रैकिंग सिस्टम (SETS) एक Google Maps-based योजना और विश्लेषण उपकरण है। यह भारतीय रेलवे का इन-हाउस सॉफ्टवेयर है। मवेशियों के ट्रेन से कुचलने की समस्या से निपटने के लिए स्मार्ट इवेंट ट्रैकिंग सिस्टम (Smart Event Tracking System – SETS) का इस्तेमाल किया जा रहा है। इस प्रणाली का उपयोग चेन-पुलिंग, समपारों पर गेटमैन की अनुपस्थिति आदि की घटनाओं के पैटर्न का निरीक्षण करने के लिए भी किया जा सकता है। SETS का उपयोग करते हुए, आगरा मंडल के रेलवे अधिकारियों द्वारा धौलपुर के पास एक खंड पर मवेशियों को मारने वाली ट्रेनों के छह उदाहरण देखे गए। भौतिक निरीक्षण करने पर, एक राजमार्ग पर एक रोड ओवर ब्रिज के किनारे एक गैप पाया गया, जिसके माध्यम से मवेशी पटरियों पर आ रहे थे और ट्रेनों की चपेट में आ रहे थे। इसलिए इस गैप को पाट दिया गया।

सारस 3 रेडियो टेलीस्कोप

हाल ही में रमन रिसर्च इंस्टीट्यूट (RRI) के भारतीय शोधकर्त्ताओं ने सारस 3 रेडियो टेलीस्कोप (SARAS 3 Radio Telescope) का उपयोग करते हुए एक अध्ययन में कॉस्मिक डॉन (ब्रह्माण्ड का उद्भव) से एक रेडियो तरंग सिग्नल की खोज के हालिया दावे का खंडन किया है। वर्ष 2018 में अमेरिका में एरिज़ोना स्टेट यूनिवर्सिटी (Arizona State University- ASU) और MIT के शोधकर्त्ताओं की एक टीम द्वारा ईडीजीईएस रेडियो टेलीस्कोप से डेटा का उपयोग करके प्रारंभिक ब्रह्मांड में उभरते तारों से एक सिग्नल का पता लगाया था। कॉस्मिक डॉन (Cosmic Dawn) बिग बैंग के लगभग 50 मिलियन वर्ष से लेकर एक अरब वर्ष तक की अवधि है जब ब्रह्मांड में पहले तारे, ब्लैक होल और आकाशगंगाएँ बनीं। रमन रिसर्च इंस्टीट्यूट एक स्वायत्त अनुसंधान संस्थान है जो बुनियादी विज्ञान में अनुसंधान में संलंग्न है। संस्थान की स्थापना वर्ष 1948 में भारतीय भौतिक विज्ञानी और नोबेल पुरस्कार विजेता सर सीवी रमन द्वारा की गई थी।

ईरान ने नूर 2 सैन्य उपग्रह लांच किया

ईरान के इस्लामिक रिवोल्यूशनरी गार्ड कॉर्प्स (IRGC) द्वारा एक सैन्य उपग्रह, नूर -2, को पृथ्वी से 500 किलोमीटर की ऊँचाई पर कक्षा में लॉन्च किया गया है। यह ईरान का दूसरा सैन्य उपग्रह लांच है। अप्रैल 2020 में, पहला नूर सैन्य उपग्रह पृथ्वी की सतह से 425 किमी की कक्षा में लॉन्च किया गया था। फारसी भाषा में नूर का अर्थ प्रकाश होता है। नूर 2 को शाहरूद स्पेसपोर्ट से तीन चरण वाले कासेद, या “मैसेंजर” लॉन्चर द्वारा लॉन्च किया गया था। ईरान के दूसरे उपग्रह का कक्षा में लांच देश की सेना के लिए एक महत्वपूर्ण कदम होगा। इससे देश के परमाणु और मिसाइल कार्यक्रमों को लेकर भी चिंताएं बढ़ेंगी। इस सैटेलाइट का वजन 45 किलो है। देश के अधिकारियों द्वारा नूर-2 उपग्रह के बारे में विवरण जारी नहीं किया गया है।

मंत्री बी यादव द्वारा विश्वकर्मा राष्ट्रीय पुरस्कार प्रदान किया गया

विश्वकर्मा राष्ट्रीय पुरस्कार (VRP), प्रदर्शन वर्ष 2018 के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा पुरस्कार (एनएसए) और प्रतियोगिता वर्ष 2017, 2018, 2019 और 2020 के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा पुरस्कार (माइंस) केंद्रीय श्रम और रोजगार, पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्री श्री भूपेंद्र यादव द्वारा प्रदान किए गए। वीआरपी के मामले में, प्रदर्शन वर्ष 2018 के लिए कुल 96 पुरस्कार दिए गए, जबकि एनएसए के मामले में कुल 141 पुरस्कार (80 विजेता और 61 उपविजेता) प्रदान किए गए। प्रतियोगिता वर्ष 2017, 2018, 2019 और 2020 के लिए, कुल 144 पुरस्कार दिए गए (72 विजेता पुरस्कार और 72 रनर-अप पुरस्कार)।

एस श्रीसंत ने प्रथम श्रेणी क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास लिया

भारत के तेज गेंदबाज एस श्रीसंत (S Sreesanth) ने घरेलू क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास की घोषणा की है। श्रीसंत ने भारत के लिए 27 टेस्ट और 53 वनडे खेले, जिसमें उन्होंने क्रमश: 87 और 75 विकेट लिए। उन्होंने 10 टी20 अंतरराष्ट्रीय मैचों में सात विकेट भी लिए हैं। तेज गेंदबाज विकेट लेने के बाद अपने उत्साहपूर्ण जश्न के लिए भी लोकप्रिय थे, लेकिन स्पॉट फिक्सिंग कांड के बाद उनका जीवन और करियर चरमरा गया।

केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल

प्रतिवर्ष 10 मार्च को ‘केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल’ (CISF) का स्थापना दिवस आयोजित किया जाता है। ‘केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल’ एक केंद्रीय सशस्त्र बल है जिसका गठन केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल अधिनियम, 1968 के तहत किया गया था। यह केंद्रीय गृह मंत्रालय के तहत भारत के छह अर्द्ध-सैनिक बलों में से एक है। CISF की स्थापना 10 मार्च, 1969 को की गई थी और CISF अधिनियम, 1968 के तहत कुल तीन बटालियनों का गठन किया गया था। यह पूरे भारत में स्थित औद्योगिक इकाइयों, सरकारी अवसंरचना परियोजनाओं और सुविधाओं तथा प्रतिष्ठानों को सुरक्षा प्रदान करता है। परमाणु ऊर्जा संयंत्रों, खदानों, तेल क्षेत्रों व रिफाइनरियों, मेट्रो रेल, प्रमुख बंदरगाहों आदि जैसे औद्योगिक क्षेत्रों की सुरक्षा का ज़िम्मा भी CISF ही उठाता है। CISF में एक विशेष सुरक्षा समूह विंग भी है, जिसका प्राथमिक कार्य X, Y, Z और Z प्लस श्रेणियों के तहत वर्गीकृत लोगों को सुरक्षा प्रदान करना है। केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल के अलावा भारत में अन्य केंद्रीय सशस्त्र बलों में केंद्रीय रिज़र्व पुलिस बल (CRPF), सीमा सुरक्षा बल (BSF), भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (ITBP), सशस्त्र सीमा बल (SSB) शामिल हैं।

अंतर्राष्ट्रीय महिला न्यायाधीश दिवस: 10 मार्च

10 मार्च को अंतर्राष्ट्रीय महिला न्यायाधीश दिवस है। इस दिन, यूनाइटेड नेशनल ने प्रबंधकीय और नेतृत्व स्तर पर न्यायिक प्रणाली और संस्था में महिलाओं की उन्नति के लिए उपयुक्त और प्रभावी रणनीतियों और योजनाओं को विकसित करने और लागू करने की अपनी प्रतिबद्धता की पुष्टि की। न्यायपालिका प्रणाली में महिलाएं यह सुनिश्चित करने की कुंजी हैं कि अदालतें उनके नागरिकों का प्रतिनिधित्व करती हैं, चिंताओं को दूर करती हैं और अच्छे निर्णय देती हैं। न्यायपालिका प्रणाली में महिलाओं की उपस्थिति अदालतों की वैधता को बढ़ाती है और एक शक्तिशाली संदेश भेजती है कि वे न्याय की तलाश करने वालों के लिए खुले और सुलभ हैं।

विश्व किडनी दिवस 2022 : 10 मार्च

विश्व किडनी दिवस हर साल मार्च के दूसरे गुरुवार को मनाया जाता है। इस वर्ष यह 10 मार्च को मनाया जा रहा है। विश्व किडनी दिवस एक वैश्विक अभियान है जिसका उद्देश्य हमारे गुर्दे के महत्व के बारे में जागरूकता बढ़ाना है। विश्व किडनी दिवस का उद्देश्य हमारे समग्र स्वास्थ्य के लिए हमारे गुर्दे के महत्व के बारे में जागरूकता बढ़ाना और दुनिया भर में गुर्दे की बीमारी और इससे जुड़ी स्वास्थ्य समस्याओं की आवृत्ति और प्रभाव को कम करना है। विश्व किडनी दिवस 2022 का विषय किडनी हेल्थ फॉर आल है।

पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति रफीक तरार का निधन

वयोवृद्ध राजनीतिज्ञ, सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश और पाकिस्तान के राष्ट्रपति रफीक तरार (Rafiq Tarar) का 92 वर्ष की आयु में निधन हो गया। मुहम्मद रफीक तरार का जन्म 2 नवंबर 1929 को पीर कोट, पाकिस्तान में हुआ था। उन्होंने 1991 से 1994 तक सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश के रूप में कार्य किया। उन्होंने 1989 से 1991 तक लाहौर उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश के रूप में भी कार्य किया। बाद में, वह 1997 से 2001 की अवधि के लिए पाकिस्तान के राष्ट्रपति बने।

Start Quiz! PRINT PDF

« Previous Next Affairs »

Notes

Notes on many subjects with example and facts.

Notes

QUESTION

Find Question on this Topic and many other subjects

Learn More

Test Series

Here You can find previous year question paper and mock test for practice.

Test Series

Download

Here you can download Current Affairs Question PDF.

Download

Join

Join a family of Rajasthangyan on


Contact Us Contribute About Write Us Privacy Policy About Copyright

© 2022 RajasthanGyan All Rights Reserved.