Ask Question | login | Register
Notes
Question
Quiz
Tricks
Facts

29 August 2023

राष्‍ट्रपति द्रौपदी मुर्मु ने एन.टी. रामा राव की जन्‍म शताब्‍दी पर स्‍मारक सिक्‍का जारी किया

राष्‍ट्रपति द्रौपदी मुर्मु ने एन.टी. रामा राव के जन्‍म शताब्‍दी वर्ष में राष्‍ट्रपति भवन के सांस्‍कृतिक केन्‍द्र में स्‍मारक सिक्‍का जारी किया। इस अवसर पर राष्‍ट्रपति ने कहा कि दिवंगत एन.टी. रामा राव ने तेलुगु फिल्‍मों के माध्‍यम से भारतीय सिनेमा और संस्कृति को समृद्ध किया। उन्‍होंने कहा कि अपने अभिनय के माध्‍यम से एन.टी. रामा राव ने रामायण और महाभारत के प्रमुख चरित्रों को जीवंत किया।

दिल्ली में G20 शिखर सम्मेलन स्थल में लगेगी नटराज की प्रतिमा

नई दिल्ली में आयोजित होने वाले G20 शिखर सम्मेलन स्थल पर विश्व की सबसे ऊँची मानी जाने वाली 28 फीट की नटराज कांस्य मूर्ति लगाई जाएगी, इस मूर्ति को यहाँ तक लाए जाने की प्रक्रिया शुरू हो गई है और यह इस कार्यक्रम को एक सांस्कृतिक महत्त्व प्रदान करेगी। 19 टन वज़नी नटराज की मूर्ति आठ धातुओं से बनी है, जिनमें सोना, चाँदी, सीसा, तांबा, टिन, पारा, लोहा और जस्ता (अष्टधातु) शामिल हैं। यह तमिलनाडु के स्वामीमलाई शहर से लाई जा रही है। मूर्ति में नटराज (भगवान शिव) को नृत्य करते हुए दर्शाया गया है। स्वामीमलाई को भगवान मुरुगन के छह पवित्र निवासों में से एक माना जाता है, जिसे भगवान मुरुगन के पदाई वीदुगल (युद्ध शिविर) के रूप में जाना जाता है। यह अपने स्वामीमलाई कांस्य चिह्न (लोगो) के लिये भी प्रसिद्ध है जिसे भौगोलिक संकेत/GI टैग प्रदान किया गया है। इसे चोल परंपरा के "लॉस्ट-वैक्स" कास्टिंग तकनीक का उपयोग करके बनाया गया है, जिसमें पिघला हुआ कांस्य मृदा के साँचे में डाला जाता है। अपनी असाधारण सुंदरता और शिल्प कौशल के कारण चोल कांस्य को कला जगत में अत्यधिक महत्त्व प्राप्त है।

जापान के सशस्‍त्र बल और अमरीकी नौसेना पहली बार पूर्वी चीन सागर में संयुक्‍त सैन्‍य अभ्‍यास करेंगे

जापान के सशस्‍त्र बल और अमरीकी नौसेना पहली बार अक्‍तूबर महीने में पूर्वी चीन सागर में ताइवान से लगने वाले द्वीपों पर रेजोल्‍यूट ड्रैगन के अंतर्गत एक संयुक्‍त सैन्‍य अभ्‍यास करेंगे। यह अभ्‍यास क्षेत्र में चीन की बढती सैन्‍य गतिविधि के कारण किया जा रहा है। लगभग दो हजार 320 सैन्‍यकर्मियों का इस अभ्‍यास में शामिल होने की आशा है। यह सैन्‍य अभ्‍यास ओकिनावा और क्‍यूशू द्वीपों के बीच होगा। इन अभ्‍यासों की रेजोल्‍यूट ड्रेगन श्रृंखला 2021 से आयोजित की जा रही है। इससे पहले यह अभ्‍यास जापान में होकाईडो के सुदूरवर्ती उत्‍तरी द्वीप और जापान के उत्‍तर-पूर्व होन्‍शू के मुख्‍य द्वीप पर किया गया था।

आकाशवाणी ने नई दिल्‍ली में विदेश मंत्रालय के तत्‍वावधान में नो इंडिया प्रोग्राम से संबंधित एक कार्यक्रम का आयोजन किया

आकाशवाणी ने नई दिल्‍ली में विदेश मंत्रालय के तत्‍वावधान में नो इंडिया प्रोग्राम-केआईपी से संबंधित एक कार्यक्रम का आयोजन किया। भारतीय मूल के लगभग 55 विद्यार्थियों ने इस कार्यक्रम में भागीदारी की। भारतीय डायसपोरा से संपर्क साधने के लिए नो इंडिया प्रोग्राम-केआईपी विदेश मंत्रालय की एक महत्‍वपूर्ण पहल है। इस कार्यक्रम के जरिये भारतीय मूल के युवाओं को उनके भारतीय मूल्‍यों से परिचय करवाया जाता है। इस कार्यक्रम का उद्देश्‍य विभिन्‍न क्षेत्रों में भारत की प्रगति और जीवन के विभिन्‍न पहलुओं पर जागरूकता को बढावा देना है।

असम में बनेंगे 4 नए जिले

असम सरकार ने अपने यहां 4 जिलों का पुनर्गठन किया है। मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने बताया कि असम मंत्रिमंडल ने प्रशासनिक दक्षता में सुधार के लिए परिसीमन प्रक्रिया पूरी होने के बाद चार नए जिले और 81 उप-जिले बनाने का फैसला किया है। 4 नए जिले जो बनेंगे उनमें होजाई, बिश्वनाथ, तामुलपुर और बजाली शामिल हैं। यह परिसीमन के तहत चुनाव आयोग द्वारा घोषित विधानसभा क्षेत्रों के साथ सह-टर्मिनस है। होजई जिले में लुमडिंग, होजई और बिनकांडी विधानसभा क्षेत्र शामिल हैं। वहीं, बिश्वनाथ जिले में बिहाली, बिश्वनाथ और गोहपुर विधानसभा क्षेत्र शामिल हैं। तामुलपुर जिले में तामुलपुर और गोरेश्वर विधानसभा क्षेत्र शामिल हैं। बजाली जिले में बजाली और भवानीपुर-सोरभोग विधानसभा क्षेत्र शामिल हैं। पिछले साल दिसंबर में राज्य में परिसीमन अभ्यास शुरू होने से ठीक पहले, इन चार जिलों को चार अन्य में मिला दिया गया था और कुछ गांवों के प्रशासनिक क्षेत्राधिकार को बदल दिया था। बिश्वनाथ जिले को सोनितपुर में मिला दिया गया था, इसी तरह होजई को नागांव में, बजाली को बारपेटा में और तामुलपुर को बक्सा में मिला दिया गया था। चार नए जिलों के पुनर्गठन के बाद प्रदेश में नए जिलों की संख्या 35 हो जाएगी।

हुन मानेट को कंबोडिया का नया प्रधानमंत्री नियुक्त किया गया

एक विवादास्पद चुनाव के बाद, कंबोडिया की संसद ने देश में सत्ता के वंशवादी हस्तांतरण को मजबूत करते हुए, निवर्तमान प्रधान मंत्री हुन सेन के सबसे बड़े बेटे हुन मानेट को नया प्रधान मंत्री नियुक्त किया है। सत्तारूढ़ कंबोडियन पीपल्स पार्टी (CPP) के सदस्य हुन मानेट के पास इंग्लैंड से अर्थशास्त्र की डिग्री है और उन्होंने वेस्ट प्वाइंट स्थित अमेरिकी सैन्य अकादमी से स्नातक की उपाधि प्राप्त की है। उनकी पश्चिमी शिक्षा के बावजूद, उम्मीदें कम हैं कि वे उदार आदर्शों को कायम रखेंगे। यह परिवर्तन कंबोडिया के भविष्य, पश्चिम और चीन के साथ उसके संबंधों और उसकी नीतियों की दिशा पर सवाल उठाता है। जहां यह बदलाव कुछ लोगों के लिए आशा जगाता है, वहीं अन्य लोग निरंकुश शासन के जारी रहने से डरते हैं।

जिम्बाब्वे के दूसरी बार राष्ट्रपति चुने गए एमर्सन मंगाग्वा

जिम्बाब्वे के राष्ट्रपति एमर्सन मंगाग्वा (Zimbabwe President Emmerson Mnangagwa) को 26 अगस्त 2023 को दूसरे और अंतिम कार्यकाल के लिए फिर से चुन लिया गया है। एमर्सन मंगाग्वा ने राष्ट्रपति चुनाव में नेल्सन चामिसा को हराया है, जो उनके निकटतम प्रतिद्वंद्वी थे। मंगाग्वा की इस जीत ने जिम्बाब्वे की सत्ता पर ZANY-PF की पकड़ मजबूत कर दी। जिम्बाब्वे चुनाव आयोग ने राजधानी हरारे में देर रात घोषणा की कि मंगागवा को 52.6 प्रतिशत, जबकि मुख्य विपक्षी नेता नेल्सन चामीसा को 44 प्रतिशत मत मिले हैं।

कोलकाता शहर ने अपनाया एयर क्वालिटी अर्ली वार्निंग सिस्टम (एक्यूज़)

कोलकाता शहर ने महत्वपूर्ण कदम उठाकर भारतीय ट्रॉपिकल मीटरोलॉजिकल इंस्टीट्यूट (आईआईटीएम), पुणे द्वारा विकसित एयर क्वालिटी अर्ली वार्निंग सिस्टम (एक्यूज़) को अपनाया है। यह सिस्टम वास्तविक समय में वायु प्रदूषण डेटा और पूर्वानुमान दोनों प्रदान करता है, शहर के अधिक बढ़ते वायु प्रदूषण स्तरों के साथ निपटने के उपायों को बढ़ावा देने और सुरक्षित रहने की क्षमता को बढ़ावा देने का उद्देश्य रखता है। कोलकाता में एक्यूज़ में वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) की निगरानी करने के लिए एक जटिल सेंसर नेटवर्क से लैस है। यह एक्यूआई एक मानकीकृत माप है जो किसी विशिष्ट क्षेत्र में वायु प्रदूषण के स्तर की मूल्यांकन के लिए उपयोग होता है, जिसमें मूल्य 0 से 500 तक की रेंज में होते हैं। उच्च एक्यूआई अधिक प्रदूषित वायु और बढ़ी हुई स्वास्थ्य समस्या को दर्शाता है।

वाराणसी में जी20 संस्कृति मंत्रियों की बैठक के प्रतिनिधियों के सम्मान में 'सुर वसुधा' कार्यक्रम

संगीत के माध्यम से एकता के एक उल्लेखनीय प्रदर्शन में, G20 ऑर्केस्ट्रा, जिसमें G20 सदस्य देशों और आमंत्रित देशों के 101 संगीतकार और गायक शामिल थे, ने भारत के वाराणसी में ‘सुर वसुधा’ नामक अपने प्रदर्शन से दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया। यह आर्केस्ट्रा समारोह G20 की भारत की अध्यक्षता में आयोजित किया गया था और संस्कृति मंत्रियों की बैठक के समापन को चिह्नित किया गया था। इस समूह में 61 भारतीय कलाकार और G20 देशों के 40 कलाकार शामिल थे, जो विविध पारंपरिक संगीत वाद्ययंत्रों के सामंजस्यपूर्ण मिश्रण का प्रदर्शन कर रहे थे। यूके, जर्मनी, सऊदी अरब और यूनेस्को जैसे अंतर्राष्ट्रीय निकायों के प्रतिनिधियों सहित उल्लेखनीय गणमान्य व्यक्तियों ने इस कार्यक्रम में भाग लिया, और इसे एक मनोरम और सुंदर अनुभव के रूप में सराहा। प्रदर्शन में ‘वसुधैव कुटुंबकम’ के सार का जश्न मनाया गया, जिसमें दुनिया को एक परिवार के रूप में दर्शाया गया।

G20 देशों ने जलवायु लक्ष्यों के बावजूद जीवाश्म ईंधन सहायता में $1.4 ट्रिलियन प्रदान किये

International Institute for Sustainable Development (IISD) की एक हालिया रिपोर्ट से पता चला है कि यूक्रेन पर रूस के आक्रमण के बाद ऊर्जा मूल्य संकट शुरू होने के बाद G20 सरकारों ने जीवाश्म ईंधन उद्योग और उपभोक्ताओं को राहत देने के लिए सामूहिक रूप से 1.4 ट्रिलियन डॉलर की सब्सिडी, निवेश और ऋण प्रदान किया। यह व्यापक समर्थन जीवाश्म ईंधन पर दुनिया की निर्भरता को कायम रखता है, जिससे बाजार की अस्थिरता और भू-राजनीतिक जोखिमों के कारण ऊर्जा संकट बढ़ने का खतरा है। रिपोर्ट में इस बात पर जोर दिया गया है कि यह दृष्टिकोण पेरिस समझौते द्वारा निर्धारित अकुशल जीवाश्म ईंधन सब्सिडी को चरणबद्ध तरीके से समाप्त करने और कम ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन और जलवायु-लचीले विकास के साथ वित्तीय प्रवाह को संरेखित करने के लिए G20 देशों की प्रतिबद्धताओं का खंडन करता है। इन फंड्स का एक बड़ा हिस्सा नए जीवाश्म ईंधन उत्पादन और बिजली उत्पादन में निवेश किया गया, जिससे संभावित रूप से ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन में वृद्धि हुई।

पटना मरीन ड्राइव

बिहार सरकार एक बड़ी परियोजना शुरू करने के लिए तैयार है, जिसमें दीघा से गांधी मैदान तक के हिस्से को पटना मरीन ड्राइव में बदलने की कल्पना की गई है। इस महत्वाकांक्षी योजना में हरे-भरे स्थान बनाना, जेपी गंगा पथ को पार्कों से सुसज्जित करना और एक लाख से अधिक पेड़ लगाना शामिल है। इस प्रस्ताव में पैदल चलने, जॉगिंग, साइकिल चलाने और छठ पूजा उत्सव के लिए विशेष रूप से नामित घाटों के लिए समर्पित क्षेत्र शामिल हैं। सात किलोमीटर के लगभग 90% हिस्से को हरित क्षेत्रों में बदल दिया जाएगा, शेष 10% आवश्यक सुविधाओं के लिए आवंटित किया जाएगा।

छह प्रमुख शैक्षणिक संस्थानों के प्रमुखों ने पंजाब केंद्रीय विश्वविद्यालय में उत्तर भारत के उच्च शिक्षण संस्थानों के संघ की पहली बैठक में भाग लिया

पंजाब में, छह प्रमुख शैक्षणिक संस्थानों के प्रमुखों ने बठिंडा में पंजाब केंद्रीय विश्वविद्यालय में उत्तर भारत के उच्च शिक्षण संस्थानों का संघ की पहली बैठक में भाग लिया। यह संघ जम्मू, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, पंजाब और राजस्थान के केंद्रीय विश्वविद्यालय और भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान रोपड़ का एक संयुक्त उद्यम है। इस बैठक का उद्देश्य अनुसंधान, शैक्षणिक गतिविधियों और सामाजिक पहुंच के संदर्भ में सहयोग बढ़ाने के उद्देश्य से एक रोडमैप की रूपरेखा तैयार करना था। केंद्रीय विश्वविद्यालय पंजाब के कुलपति प्रोफेसर राघवेंद्र पी. तिवारी ने इस बात पर प्रकाश डाला कि उत्तर भारत के उच्च शिक्षा परिदृश्य को बदलने में इस संघ की महत्वपूर्ण भूमिका है।

महिला व्यवसायियों की मदद हेतु एयरटेल पेमेंट्स बैंक, फ्रंटियर मार्केट्स, मास्टरकार्ड ने मिलाया हाथ

भारत में महिलाओं के स्वामित्व वाले एक लाख छोटे व्यवसायों को सहयोग देने के लिए एयरटेल पेमेंट्स बैंक ने फ्रंटियर मार्केट्स और मास्टरकार्ड के साथ साझेदारी की है। शी लीड्ड भारत: उद्यम’ पहल से राजस्थान और उत्तर प्रदेश की महिला व्यवसायियों को फ्रंटियर मार्केट्स के ‘मेरी सहेली’ मंच के जरिए कौशल बढ़ाने और कमाई करने में मदद मिलेगी। इस पहल के तहत छोटे व्यवसायों से जुड़ीं 10,000 महिला उद्यमी एयरटेल पेमेंट्स बैंक की बिजनेस कॉरेस्पोंडेंट (बीसी) बनकर आय बढ़ा सकेंगी।

RBI ने जलगांव पीपुल्स को-ऑपरेटिव बैंक के साथ अकोला मर्चेंट को-ऑपरेटिव बैंक के विलय को मंजूरी दी

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने अकोला मर्चेंट को-ऑपरेटिव बैंक लिमिटेड, अकोला (महाराष्ट्र) के जलगांव पीपुल्स को-ऑपरेटिव बैंक लिमिटेड, जलगांव (महाराष्ट्र) के साथ स्वैच्छिक एकीकरण को मंजूरी दे दी है। इस योजना को बैंकिंग विनियमन अधिनियम, 1949 की धारा 56 के साथ पठित धारा 44ए की उप-धारा (4) के तहत प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए मंजूरी दी गई है। यह योजना 28 अगस्त, 2023 से लागू होगी। इसकी शाखाएं अकोला मर्चेंट को-ऑपरेटिव बैंक लिमिटेड, अकोला (महाराष्ट्र) 28 अगस्त, 2023 से द जलगांव पीपुल्स को-ऑपरेटिव बैंक लिमिटेड, जलगांव (महाराष्ट्र) की शाखाओं के रूप में कार्य करेगा।

अवैध कोयला खनन रोकने हेतु खनन प्रहरी एप

कोयला मंत्रालय ने अवैध कोयला खनन गतिविधियों के विरुद्ध संघर्ष हेतु क्रांतिकारी कदम उठाते हुए खनन प्रहरी मोबाइल एप लॉन्च किया है। यह प्रगतिशील एप नागरिकों को जियो-टैग की गई तस्वीरों और पाठ्य सूचना प्रस्तुत कर अवैध कोयला खनन की घटनाओं की रिपोर्ट करने में सक्रिय भूमिका निभाने की अनुमति देता है। कोयला खदान निगरानी और प्रबंधन प्रणाली (CMSMS) नामक संबंधित वेब पोर्टल को भास्कराचार्य इंस्टीट्यूट ऑफ स्पेस एप्लीकेशन एंड जियोइन्फॉर्मेटिक्स, गांधीनगर एवं सेंट्रल माइन प्लानिंग एंड डिज़ाइन इंस्टीट्यूट (CMPDI), रांची के सहयोग से विकसित किया गया है। यह व्यापक दृष्टिकोण न केवल अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी का लाभ उठाता है बल्कि इस महत्त्वपूर्ण मुद्दे के समाधान में सार्वजनिक भागीदारी पर भी ज़ोर देता है। खनन प्रहरी मोबाइल एप के माध्यम से कुल 483 शिकायतें दर्ज की गई हैं, जो जनता की सक्रिय भागीदारी को दर्शाता है।

बैंकिंग तथा वित्तीय धोखाधड़ी पर सलाहकार बोर्ड

केंद्रीय सतर्कता आयोग (CVC) ने बैंक धोखाधड़ी मामलों की जाँच को मज़बूती प्रदान करने के लिये बैंकिंग और वित्तीय धोखाधड़ी पर सलाहकार बोर्ड (ABBFF) का पुनर्गठन किया है। केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) जैसी जाँच एजेंसियों को भेजे जाने से पहले ABBFF बैंक धोखाधड़ी मामलों के लिये प्रथम-स्तरीय परीक्षण निकाय के रूप में कार्य करता है। ABBFF को वित्तीय प्रणाली के भीतर आवधिक धोखाधड़ी विश्लेषण करने का अधिकार है। यह भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) और CVC जैसे नियामक निकायों को धोखाधड़ी की रोकथाम एवं प्रबंधन से संबंधित अंतर्दृष्टि तथा नीतिगत सिफारिशें प्रदान करता है। पुनर्गठित ABBFF बोर्ड में अध्यक्ष और चार अन्य सदस्य शामिल हैं, जिनमें से प्रत्येक धोखाधड़ी से संबंधित मामलों में अपनी विशेषज्ञता का योगदान दे रहे हैं। ABBFF के अध्यक्ष और सदस्य दो वर्ष के कार्यकाल के लिये अपने पद पर बने रहते हैं।

इंजीनियरों ने स्मार्टफोन ऐप विकसित करने के लिए इकोलोकेशन का उपयोग किया

एकोलोकेशन पशुओं व उपकरणों द्वारा अपने परिवेश को समझने के लिये उपयोग की जाने वाली एक तकनीक है, यह दूरियों का आकलन करने और गूँज सुनकर वस्तुओं के स्थान का पता लगाने के लिये उत्सर्जित होने वाली उच्च-आवृत्ति ध्वनि तरंगों का उपयोग करती है। एकोलोकेशन एक तकनीक है जिसका उपयोग चमगादड़, डॉल्फिन और अन्य पशु परावर्तित ध्वनि का उपयोग करके वस्तुओं का स्थान निर्धारित करने के लिये किया जाता है। यह उन्हें नेविगेट करने, शिकार करने, सहयोगियों व विरोधियों की पहचान करने तथा अँधेरे में भी किसी प्रकार के मुश्किल से बचने में मदद करती है। प्राकृतिक एकोलोकेशन से प्रेरित होकर मानव ने सोनार (ध्वनि नेविगेशन और रेंजिंग) तथा रडार (रेडियो डिटेक्शन और रेंजिंग) तकनीक विकसित की। सोनार का उपयोग व्यापक रूप से जल के नीचे नेविगेशन और संचार के लिये किया जाता है, जबकि रडार का उपयोग विमानन, मौसम पूर्वानुमान व सैन्य अभियानों में किया जाता है। हाल ही में इंजीनियरों ने एक स्मार्टफोन एप विकसित करने के लिये एकोलोकेशन का उपयोग किया है जो दृष्टिबाधित लोगों के लिये काफी मददगार हो सकती है।

मैक्स वर्स्टापेन ने जीता डच ग्रैंड प्रिक्स 2023

मैक्स वेरस्टापेन ने तीसरे संयुक्त वर्ष में डच ग्रैंड प्रिक्स जीतकर अपने होम रेस में एक बार फिर विजय प्राप्त की है। महत्वपूर्ण जीत के साथ, वेरस्टापेन ने अब सेबास्टियन वेटल के नौ एफ1 जीतों के सभी समय के रिकॉर्ड को मान्यता दिलाई है। फर्नांडो आलोंसो ने एक हफ्ते में वापस पोडियम पर लौटने में सफलता प्राप्त की, जब एस्टन मार्टिन ने कार के लिए एक संशोधित फ्लोर लगाया, और उन्होंने दूसरी जगह पर पंक्तियों को पार किया। सर्जियो पेरेज की दूसरी जगह पर पंक्तियों को पार करने के बाद तीसरी जगह पर पिएर गैस्ली को प्रोत्साहित करने के लिए पांच-सेकंड की सजा लगी। यह रेस 27 अगस्त 2023 को नीदरलैंड्स के सर्किट ज़ैंडवूर्ट में आयोजित हुई थी।

‘प्रधानमंत्री जन धन योजना (पीएमजेडीवाई)’ के सफल कार्यान्वयन के नौ साल पूरे हो गए हैं

प्रधानमंत्री जन धन योजना (पीएमजेडीवाई)’ - वित्तीय समावेशन के लिए राष्ट्रीय मिशन के सफल कार्यान्वयन के नौ साल पूरे हो गए हैं। ‘पीएमजेडीवाई’ की घोषणा प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने 15 अगस्त 2014 को अपने स्वतंत्रता दिवस संबोधन में की थी। 28 अगस्त 2014 को इस योजना की शुरुआत करते हुए प्रधानमंत्री ने इस अवसर को दरअसल गरीबों को एक दुष्चक्र से मुक्ति दिलाने का जश्न मनाने का त्योहार बताया था।

प्रधानमंत्री ने श्री दरबार साहिब के पूर्व मुख्य ग्रंथी सिंह साहिब ज्ञानी जगतार सिंह जी के निधन पर शोक व्यक्त किया

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने श्री दरबार साहिब के पूर्व मुख्य ग्रंथी सिंह साहिब ज्ञानी जगतार सिंह जी के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है।ज्ञानी जगतार सिंह ने पहले अखंड पाठी और फिर ग्रंथी की सेवा निभाई, जिसके बाद उन्हें श्री दरबार साहिब के ग्रंथी के रूप में नियुक्त किया गया और बाद में हैड ग्रंथी के रूप में गुरु और पंथ की सेवा की।

Start Quiz! PRINT PDF

« Previous Next Affairs »

Notes

Notes on many subjects with example and facts.

Notes

QUESTION

Find Question on this Topic and many other subjects

Learn More

Test Series

Here You can find previous year question paper and mock test for practice.

Test Series

Download

Here you can download Current Affairs Question PDF.

Download

Join

Join a family of Rajasthangyan on


Contact Us Contribute About Write Us Privacy Policy About Copyright

© 2024 RajasthanGyan All Rights Reserved.