Ask Question | login | Register
Notes
Question
Quiz
Test Series
Tricks

31 May 2024

आईआईटी मद्रास ने रचा इतिहास, अग्नि-3डी प्रिंटेड इंजन के साथ दुनिया का पहला रॉकेट किया लॉन्च

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान मद्रास के स्टार्टअप, अग्निकुल कॉसमॉस ने सिंगल-पीस थ्री-डायमेंशनल (3डी) प्रिंटेड इंजन के साथ दुनिया का पहला रॉकेट लॉन्च कर उल्लेखनीय उपलब्धि हासिल की है। रॉकेट अग्निबाण सॉर्टेड यानि सबऑर्बिटल टेक्नोलॉजिकल डिमॉन्स्ट्रेटर भारत का पहला अर्ध-क्रायोजेनिक इंजन-संचालित रॉकेट प्रक्षेपण भी है। इसे पूरी तरह से स्वदेशी रूप से डिजाइन और निर्मित किया गया है। रॉकेट आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा में अग्निकुल द्वारा स्थापित भारत के पहले निजी रूप से विकसित लॉन्च पैडधनुष’ से प्रक्षेपित किया गया। परीक्षण उड़ान का उद्देश्य घरेलू प्रौद्योगिकियों का प्रदर्शन करना, महत्वपूर्ण उड़ान डेटा एकत्र करना और अग्निकुल के कक्षीय प्रक्षेपण वाहन, ‘अग्निबाण’ के लिए प्रणाली की अधिकतम कार्यप्रणाली सुनिश्चित करना है। ‘अग्निबाण – सॉर्टेड’ के सफल प्रक्षेपण पर अग्निकुल कॉसमॉस को बधाई देते हुए भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन के अध्यक्ष एस. सोमनाथ ने कहा कि यह उपलब्धि संगठन को देश में एक जीवंत अंतरिक्ष व्यवस्था बनाने के लिए नवाचार और आत्मनिर्भरता के लिए अंतरिक्ष स्टार्टअप और गैर-सरकारी संस्थाओं का सहयोग करने के लिए प्रेरित करती है। अग्निबाण दो चरणों वाला रॉकेट है। इसकी 300 किलोग्राम वजन को 700 किलोमीटर ऊंचाई तक ले जाने की क्षमता है। रॉकेट इंजन तरल ऑक्सीजन और मिट्टी के तेल से संचालित होते हैं।

राजस्‍थान उच्‍च न्‍यायालय ने राज्‍य सरकार से भीषण गर्मी से मरने वालों के आश्रितों को मुआवजा देने को कहा है

राजस्‍थान उच्‍च न्‍यायालय ने राज्‍य सरकार से भीषण गर्मी से मरने वालों के आश्रितों को मुआवजा देने को कहा है। न्‍यायालय ने कहा है कि भीषण गर्मी और शीत लहर को राष्‍ट्रीय आपदा घोषित करने की जरूरत है। पर्यावरण संरक्षण और जलवायु परिवर्तन के बारे में स्‍वत: संज्ञान लेते हुए उच्‍च न्‍यायालय ने राजस्‍थान के मुख्‍य सचिव को राज्‍य जलवायु परिवर्तन परियोजना के अन्‍तर्गत भीषण गर्मी कार्य योजना को प्रभावी तरीके से लागू करने के लिए विभिन्‍न विभागों की समितियां बनाने का निर्देश दिया है।

77वें कांस में भारत के सिनेमैटोग्राफर संतोष सिवन का सम्मान

77वें कांस फिल्म समारोह का समापन 25 मई को हो चुका है। इस बार एक ओर जहां 4 भारतीय फिल्मकारों को पुरस्कार मिले तो दूसरी ओर भारत के वर्ल्ड फेमस सिनेमैटोग्राफर संतोष सिवन को कांस 2024 के प्रतिष्ठित ‘पियरे एंजेन्यूक्स एक्सिलेंस इन सिनेमैटोग्राफी’ सम्मान से नवाजा गया। इसके साथ ही इस्टोनिया की युवा छायाकार कादरी कूप को स्पेशल एन्करेजमेंट अवॉर्ड प्रदान किया गया। फिल्मों की शूटिंग के लिए कैमरा और कैमरे का आधुनिक लेंस बनाने वाली कंपनी ‘एंजेन्यूक्स’ कांस फिल्म समारोह की ऑफिशियल पार्टनर है। एंजेन्यूक्स कंपनी ने ही सबसे पहले SLR (सिंगल लेंस रिफ्लेक्स) कैमरा और जूम लेंस का आविष्कार किया था। इतना ही नहीं इसी कंपनी के कैमरे ने नासा के रेंजर 7 चंद्रमा मिशन में 31 जुलाई 1964 को पहली बार चंद्रमा की सतह की नजदीकी और क्लोज-अप तस्वीरें भेजी थीं।

अमेरिका के अलास्का में युद्धाभ्यास में दम दिखाएगी भारतीय वायु सेना

भारतीय वायु सेना की एक टुकड़ी अमेरिका के अलास्का में अमेरिकी वायु सेना के ईल्सन वायु सेना बेस पर पहुंची। वायु सेना की टुकड़ी बहुराष्ट्रीय युद्ध अभ्यास रेड फ्लैग 24 के आगामी संस्करण में भाग लेने के लिए गई है। भारतीय वायु सेना ने कहा कि उसके आईएल-78 हवा से हवा में ईंधन भरने वाले और सी-17 परिवहन विमान के समर्थन से आईएएफ राफेल लड़ाकू विमानों ने ग्रीस और पुर्तगाल में पड़ाव के साथ एक ट्रांसलेंटिक उड़ान भरी। एक्स रेड फ्लैग दो सप्ताह का उन्नत हवाई युद्ध प्रशिक्षण अभ्यास है जिसका उद्देश्य बहुराष्ट्रीय सैन्य सदस्यों के बीच तालमेल बढ़ाना है।

सरकार ने सेवानिवृत्ति ग्रेच्युटी और मृत्यु ग्रेच्युटी की अधिकतम सीमा को 20 लाख से बढ़ाकर 25 लाख रुपये कर दिया है

सरकार ने सेवानिवृत्ति ग्रेच्युटी और मृत्यु ग्रेच्युटी की अधिकतम सीमा को 20 लाख से बढ़ाकर 25 लाख रुपये कर दिया गया है। कार्मिक, लोक शिकायत और पेंशन मंत्रालय ने इस संबंध में आधिकारिक ज्ञापन जारी किया है। इसमें कहा गया कि संशोधित सीमा 1 जनवरी 2024 से लागू होगी।

देश के राष्ट्रीय राजमार्ग नेटवर्क के विस्‍तार और संधारण के लिए मुद्रीकरण की पहल शुरू

भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण ने देश के राष्ट्रीय राजमार्ग नेटवर्क के विस्‍तार और संधारण के लिए मुद्रीकरण की पहल शुरू की है। इसके लिए संयुक्त अरब अमीरात से निवेश आकर्षित करने के प्रयास किए जा रहे हैं। भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के अध्यक्ष संतोष कुमार यादव के नेतृत्व में प्रतिनिधिमंडल विदेशी निवेश को आकर्षित करने के लिए दुबई और अबू धाबी में उच्च स्तरीय बैठक और रोड शो कर रहा है। श्री यादव ने भारत में महत्वपूर्ण सरकारी निवेश के कारण एक दशक में देश के 70 हजार से एक लाख 40 हजार किलोमीटर तक के राजमार्ग विस्तार पर प्रकाश डाला। उन्‍होंने टोल संग्रह के उन्नत डिजिटीकरण के माध्यम से राजमार्गों को वित्तीय परिसंपत्तियों में बदलने का भी उल्लेख किया।

भारतीय रिजर्व बैंक ने वर्तमान वित्त वर्ष में आर्थिक वृद्धि दर 7 प्रतिशत होने का अनुमान लगाया

भारतीय रिजर्व बैंक ने वर्तमान वित्त वर्ष में आर्थिक वृद्धि दर 7 प्रतिशत होने का अनुमान लगाया है। वार्षिक रिपोर्ट में बैंक ने कहा है कि वर्ष 2024-25 के लिए वास्तविक सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि दर समान रूप से 7 प्रतिशत बढ़ने का अनुमान है। केंद्रीय बैंक ने कहा कि वित्त वर्ष 2024 में भारतीय अर्थव्यवस्था मजबूत गति से बढ़ी। इस दौरान वास्तविक सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि पिछले वर्ष के 7 प्रतिशत से बढ़कर 7 दशमलव 6 प्रतिशत हो गई। देश की अर्थव्यवस्था का परिदृश्य सुदृढ बना हुआ है। व्यापक आर्थिक बुनियादी आधार और कॉर्पोरेट क्षेत्र मजबूत है, साथ ही बाहरी आर्थिक क्षेत्र में भी उबरने की शक्ति मौजूद है। रिपोर्ट के अनुसार, विदेशी प्रतिभूतियों से ब्याज आय में उल्लेखनीय वृद्धि के कारण वित्त वर्ष 2023-24 में केंद्रीय बैंक की आय में वार्षिक आधार पर लगभग 17 प्रतिशत की बढोतरी हुई। इस वर्ष 22 मई को भारतीय रिजर्व बैंक के केंद्रीय निदेशक मंडल ने वित्त वर्ष 2023-24 के लिए सरकार को अधिशेष के रूप में 2 लाख 11 हजार करोड़ रुपये देने की मंजूरी दी।

सशस्त्र सेना चिकित्सा सेवा और आईआईटी हैदराबाद ने सहयोगात्मक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण के लिए समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए

अनुसंधान एवं प्रशिक्षण पर सहयोग के उद्देश्य से सशस्त्र सेना चिकित्सा सेवा (एएफएमएस) ने भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) हैदराबाद के साथ एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए हैं। सशस्त्र सेना चिकित्सा सेवा के महानिदेशक लेफ्टिनेंट जनरल दलजीत सिंह और आईआईटी हैदराबाद के निदेशक प्रोफेसर बी एस मूर्ति ने इस समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं। इस समझौता ज्ञापन का उद्देश्य नए चिकित्सा उपकरणों के विकास में नवाचार एवं अनुसंधान को बढ़ावा देना तथा विभिन्न क्षेत्रों में सेवारत सैनिकों के लिए विशिष्ट स्वास्थ्य सुविधाओं का समाधान के साथ विस्तार करना है। इसके अंतर्गत सशस्त्र बलों के सामने आने वाली विविध चिकित्सा चुनौतियों से निपटने के लिए आईआईटी हैदराबाद अपने जैव प्रौद्योगिकी, जैव चिकित्सा अभियांत्रिकी और जैव सूचना विज्ञान जैसे विभागों के साथ आवश्यक तकनीकी विशेषज्ञता प्रदान करेगा।

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी) के अंतर्गत काम करने वाले प्रौद्योगिकी विकास बोर्ड (टीडीबी) ने सतत चुंबक उत्पादन के लिए हैदराबाद स्थित मेसर्स मिडवेस्ट एडवांस्ड मैटेरियल्स प्राइवेट लिमिटेड को वित्त पोषण की मंजूरी दी

विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी) के अंतर्गत काम करने वाले प्रौद्योगिकी विकास बोर्ड (टीडीबी) ने टीडीबी केंद्र, नई दिल्ली में आवश्यक सामग्रियों और प्रौद्योगिकियों के घरेलू उत्पादन को बढ़ावा देने के लक्ष्य से हैदराबाद स्थित मेसर्स मिडवेस्ट एडवांस्ड मैटेरियल्स प्राइवेट लिमिटेड (एमएएम) के लिए वित्त पोषण को मंजूरी दे दी है। यह रणनीतिक परियोजना नियोडिमियम सामग्रियों और दुर्लभ पृथ्वी स्थायी चुंबक के वाणिज्यिक विनिर्माण को आगे बढ़ाने पर केंद्रित है, जो ई-मोबिलिटी अनुप्रयोगों के लिए अनिवार्य घटक हैं। राष्ट्रीय प्राथमिकताओं के अनुरूप, इस वित्त पोषित परियोजना का उद्देश्य ऑक्साइड से शुरू होकर, दुर्लभ पृथ्वी (आरई) चुंबक के लिए एक एकीकृत उत्पादन मॉड्यूल स्थापित करना है। पिघला हुआ नमक वैद्युत अपघटन (एमएसई) प्रौद्योगिकी को प्रयोग में लाने वाली एक संशोधित धातु निष्कर्षण विधि का उपयोग करते हुए, जिसमें प्रप्राइइटेरी सेल डिजाइन के साथ पर्यावरण की दृष्टि से टिकाऊ वैद्युत अपघटन प्रक्रिया शामिल है, यह पहल स्थायी तकनीकी उन्नति की दिशा में एक महत्वपूर्ण प्रगति का प्रतिनिधित्व करती है।

आरबीआई ने फेमा नियमों के उल्लंघन के लिए एचएसबीसी बैंक पर जुर्माना लगाया

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम (फेमा) 1999 के प्रावधान का उल्लंघन करने के लिए एचएसबीसी बैंक पर 36.38 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है । आरबीआई के अनुसार, एचएसबीसी बैंक फेमा की उदारीकृत प्रेषण योजना के तहत आवश्यक रिपोर्टिंग आवश्यकताओं का पालन करने में विफल रहा। उदारीकृत प्रेषण योजना आरबीआई द्वारा 2004 में विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम 1999 के तहत शुरू की गई थी। इस योजना के तहत, नाबालिगों सहित सभी निवासी व्यक्ति भारतीय रिजर्व बैंक की अनुमति के बिना एक वित्तीय वर्ष (अप्रैल से मार्च) में 2,50,000 डॉलर विदेश भेज सकते हैं।

एडीबी ने 2023 में भारत को 2.6 बिलियन डॉलर के संप्रभु ऋण को मंजूरी दी

एशियाई विकास बैंक (एडीबी) ने कैलेंडर वर्ष 2023 में भारत को 2.6 बिलियन डॉलर का संप्रभु ऋण स्वीकृत किया है। 2023 में एडीबी द्वारा स्वीकृत ऋण का उपयोग शहरी विकास परियोजनाओं को वित्तपोषित करने, बिजली क्षेत्र को बढ़ावा देने, औद्योगिक गलियारे के विकास का समर्थन करने, बागवानी का समर्थन करने, कनेक्टिविटी बढ़ाने और भारत की जलवायु लचीलापन को मजबूत करने के लिए किया जाएगा। संप्रभु का अर्थ है सर्वोच्च शक्ति होता है और भारत में भारत की सरकार संप्रभु है। इस प्रकार, संप्रभु ऋण का अर्थ भारत सरकार को दिया गया ऋण है। इसमें वह ऋण भी शामिल है जो एडीबी द्वारा किसी राज्य में किसी परियोजना के लिए दिया जाता है। ऋण मूल रूप से भारत सरकार को दिया जाता है, और ऋण का पुनर्भुगतान भारत सरकार की जिम्मेदारी है, भले ही इसका उपयोग किसी राज्य में किसी परियोजना को लागू करने के लिए किया जा रहा हो।

नासा का प्रीफायर मिशन

हाल ही में राष्ट्रीय वैमानिकी एवं अंतरिक्ष प्रशासन (National Aeronautics and Space Administration- NASA) ने पृथ्वी के ध्रुवों पर ऊष्मा उत्सर्जन का अध्ययन करने के लिये क्यूबसैट (CubeSat) नामक लघु उपग्रहों की एक जोड़ी को प्रक्षेपित किया है। PREFIRE/प्रीफायर (पोलर रेडिएंट एनर्जी इन द फार-इन्फ्रारेड एक्सपेरिमेंट) मिशन का उद्देश्य पृथ्वी के ध्रुवों से निकलने वाले ऊष्मा उत्सर्जन का अध्ययन करके ग्रह के ऊर्जा बजट (Energy Budget) को समझने वाले एक महत्त्वपूर्ण अंतराल को दूर करना है। इस मिशन में दो क्यूबसैट शामिल हैं जो थर्मल इन्फ्रारेड स्पेक्ट्रोमीटर से युक्त हैं तथा आर्कटिक और अंटार्कटिका क्षेत्रों से उत्सर्जित इन्फ्रारेड एवं सुदूर इन्फ्रारेड विकिरण का मापन करते हैं। पृथ्वी और अंतरिक्ष के मध्य भविष्य में ताप विनिमय संबंधी परिवर्तनों तथा बर्फ के पिघलने, वायुमंडलीय तापमान एवं वैश्विक मौसम पर उनके प्रभावों पर पूर्वानुमान की सटीकता में सुधार देखा जा सकता है।

ESA तथा बारह देशों ने ज़ीरो डेब्रिज़ चार्टर (ZBC) पर किये हस्ताक्षर

बारह देशों ने यूरोपियन स्पेस एजेंसी (ESA)/EU स्पेस काउंसिल में ज़ीरो डेब्रिज़ चार्टर अर्थात् शून्य मलबा चार्टर पर हस्ताक्षर किये हैं, जिससे पृथ्वी की कक्षा में मानवीय गतिविधियों की दीर्घकालिक स्थिरता के प्रति उनकी प्रतिबद्धता सशक्त हुई है। नवंबर 2023 में स्पेन के सेविले में आयोजित ESA अंतरिक्ष शिखर सम्मेलन में प्रस्तुत किये गए ज़ीरो डेब्रिज चार्टर का लक्ष्य वर्ष 2030 तक अंतरिक्ष मलबों के संबंध में तटस्थता (Debris- Neutrality) प्राप्त करना है। ज़ीरो डेब्रिज़ चार्टर को ESA के ‘प्रोटेक्शन ऑफ स्पेस एसेट्स एक्सेलेरेटर’ द्वारा प्रस्तुत किया गया है तथा इसे 40 वैश्विक अंतरिक्ष अभिकर्त्ताओं द्वारा तैयार किया गया था। अंतरिक्ष की सुरक्षा एवं धारणीयता को उन्नत बनाने के लिये प्रतिबद्ध कोई भी संस्था चार्टर पर हस्ताक्षर कर सकती है तथा ज़ीरो डेब्रिज़ कम्युनिटी में शामिल हो सकती है इसके लिये मौज़ूदा साझेदारों से अनुमोदन प्राप्त करना आवश्यक नहीं है। हाल ही में ऑस्ट्रिया, बेल्जियम, साइप्रस, एस्टोनिया, जर्मनी, लिथुआनिया, पोलैंड, पुर्तगाल, रोमानिया, स्लोवाकिया, स्वीडन, यूनाइटेड किंगडम और यूरोपियन स्पेस एजेंसी ने ज़ीरो डेब्रिज चार्टर का अनुपालन करने का संकल्प लिया है तथा निकट भविष्य में 100 से अधिक संगठनों के इसमें शामिल होने की संभावना है।

नॉर्थ कोरिया ने 10 बैलिस्टिक मिसाइलों का परीक्षण किया

30 मई को नॉर्थ कोरिया ने 10 बैलिस्टिक मिसाइलों का टेस्ट किया। यह टेस्ट ईस्ट सी (सी ऑफ जापान) में किया गया। साउथ कोरिया और जापान की सेना ने भी इस बात की पुष्टि की और इसकी कड़ी निंदा की है। यह मिसाइलें करीब 350 किलोमीटर की दूरी तय करने के बाद समुद्र में गिर गईं। नॉर्थ कोरिया ने मिसाइल परीक्षण साउथ कोरिया, अमेरिका और जापान के संयुक्त सैन्य अभ्यास पर बातचीत के दौरान किया। इससे पहले 14 मार्च को नॉर्थ कोरिया के राष्ट्रपति और तानाशाह किम जोंग उन ने टैंक का परीक्षण किया था। यूनाइटेड नेशंस (UN) ने नॉर्थ कोरिया पर परमाणु और बैलिस्टिक हथियारों की टेस्टिंग पर प्रतिबंध लगाए हैं।

हिंदी पत्रकारिता दिवस

प्रत्येक वर्ष 30 मई को हिंदी पत्रकारिता दिवस (Hindi Journalism Day) मनाया जाता है। हिन्दी पत्रकारिता की यात्रा 30 मई 1826 को पंडित जुगल किशोर शुक्ल द्वारा शुरू किए गए प्रथम हिन्दी समाचार पत्र “उदन्त मार्तण्ड” के प्रकाशन से प्रारम्भ हुई। यह दिन सत्य और साहस के साथ जनकल्याण के उद्देश्य से कार्य करने वाले हिंदी पत्रकारों के विशेष योगदान को समर्पित है। उदन्त मार्तण्ड का हिन्दी प्रकाशन भारतीय पत्रकारिता के इतिहास में एक मील का पत्थर साबित हुआ। समाचार पत्र से भारत में पत्रकारिता के एक नए युग की शुरुआत हुई और बाद में समाज और संस्कृति पर इसका बड़ा प्रभाव पड़ा। इससे पत्रकारिता के बारे में लोगों में जागरूकता बढ़ी और नागरिकों को सही जानकारी प्रदान करने में हिंदी समाचार पत्रों का महत्व बढ़ा।

Start Quiz! PRINT PDF

« Previous Next Affairs »

Notes

Notes on many subjects with example and facts.

Notes

QUESTION

Find Question on this Topic and many other subjects

Learn More

Test Series

Here You can find previous year question paper and mock test for practice.

Test Series

Download

Here you can download Current Affairs Question PDF.

Download

Join

Join a family of Rajasthangyan on


Contact Us Contribute About Write Us Privacy Policy About Copyright

© 2024 RajasthanGyan All Rights Reserved.